Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

शुक्रवार, 19 जुलाई 2019

गर्भ में बेटा या बेटी जानने के 6 तरीके

नमस्कार दोस्तों हमने इस टॉपिक पर पहले भी काफी सारे POST बनाए हैं कुछ और तरीके जो रिसर्च के बाद सामने आए हैं उनको भी हम आपके सामने लेकर आ रहे हैं कि आप किस तरह से जनरथ प्रेडिक्शन कर सकते हो
दोस्तों भारतीय समाज में ही नहीं अपितु संसार के हर समाज में आने वाले जेंडर को लेकर उत्सुकता रहती ही है हिंदुस्तान के अंदर जेंडर प्रिडिक्शन का सबसे विश्वसनीय स्रोत अल्ट्रासाउंड माना जाता है लेकिन हम आपको बता दें यह भी 100% सही रिजल्ट नहीं देता है हम आपको जो तरीके बता रहे हैं यह समाज में प्रचलित तरीके हैं जो लगभग लगभग सही बैठते हैं

यदि आपने ओव्यूलेशन से पहले सेक्स किया और गर्भ धारण किया है, तो संभावना है कि यह एक लड़की है। यदि आप ओवुलेशन के दिन या 48 घंटे बाद गर्भ धारण करती हैं, तो यह एक लड़का है!
इसके लिए आपको अपना ओवुलेशन पीरियड पता होना चाहिए

अगर महिला सोते समय बाई करवट सोना ज्यादा पसंद करती है तो उसके गर्भ में एक लड़का है,
वहीं अगर महिला सोते समय दाहिने करवट लेकर सोना ज्यादा पसंद करती है उसे आराम मिलता है तो यह गर्भ में एक लड़की होने की निशानी होता है.

यह माना जाता है कि यदि आप अपनी पसलियों में किक को अधिक महसूस करते हैं, तो यह एक लड़की है। जबकि पेट के निचले हिस्से में लगा कि किक एक लड़का है। यहां आपको भ्रूण के किक के बारे में जानने की जरूरत है.

यह कांच के बर्तन में थोड़ा सा बाइकार्ब सोडा ले ले, अब उसके अंदर सुबह के समय पहली बार जो यूरीन रिलीज होता है उसे मिलाएं अगर यूरीन और सोडा आपस में मिल जाते हैं अर्थात सोडा घुल जाता है, तो यह एक लड़का है। यदि यह नहीं है, तो यह एक लड़की है.




gender prediction tricks hindi


अगर प्रेग्नेंसी के समय महिला के पैरों पर सूजन नजर आने लगती है तो यह गर्भ में लड़की होने के लक्षण है अगर कोई भी चेंज नजर नहीं आता है तो यह लड़का होने की निशानी है.



अगर प्रेगनेंसी के तीन चार महीने के बाद महिला का चेहरा गोल नजर आने लगता है तो यह गर्भ में लड़की होने की तरफ इशारा करता है और अगर वही महिला का चेहरा लंबा सा लगने लगता है तो यह गर्भ में एक बेटा होने का संकेत देता है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें