Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

सोमवार, 5 अगस्त 2019

प्रेगनेंसी में खून की कमी और उपाय

नमस्कार दोस्तों हम सभी जानते हैं कि जब कोई महिला प्रेग्नेंट होती है तो एक शरीर के अंदर उस समय दो जिंदगी  पल रही होती है, और एक ही शरीर को दो जिंदगीयों का भरण-पोषण करना पड़ता है ऐसे में शरीर का स्वस्थ होना तो बहुत जरूरी होता ही है साथ ही साथ शरीर को आवश्यक पोषण भी पर्याप्त मात्रा में मिलना चाहिए
प्रेग्नेंसी के समय महिलाओं को कई प्रकार की समस्याओं से जूझना पड़ सकता है शरीर में कई प्रकार की कमियां आ जाती है कभी कभी| अक्सर शरीर में जो मुख्य रूप से परेशानी का सामना करना पड़ता है वह होती है शरीर में खून की कमी
You May Also Like : स्ट्रेच मार्क्स को हल्का करने के लिए ट्राई करें ये 3 घरेलू नुस्खे
You May Also Like : प्रेगनेंसी में नारियल पानी कब पिए, कब नहीं पिए

ब्लड हमारे शरीर में एक ऐसी वस्तु है एक ऐसा तरल है जो कि हमारे शरीर में कनेक्टिविटी का कार्य करता है, मुख्यतः एक अंग से दूसरे अंत तक जो भी आवश्यक पोषक तत्व मिनरल्स विटामिंस एंड एंजाइम्स आदान-प्रदान होते हैं उसका कार्य सामान्यतः हमारा ब्लड ही करता है
गर्भस्थ शिशु तक जो भी पोषण पहुंचता है उसमें भी हमारे रक्त की बहुत बड़ी भूमिका होती है और गर्भावस्था के समय शरीर को सामान्य से अधिक ब्लड की आवश्यकता होती है अधिक ब्लड सेल्स की आवश्यकता होती है, आज हम अपने post के माध्यम से चर्चा करेंगे –

ideal hemoglobin level in pregnancy

-हमारे शरीर में रक्त की कमी किन किन पोषक तत्वों की वजह से होती है
-हमारे शरीर में अगर हीमोग्लोबिन की कमी हो जाए तो उसके क्या क्या लक्षण नजर आते हैं, यह जानना भी आवश्यक है, ताकि समय से उस परिस्थिति से निपटा जाए और
- खून की कमी कैसे पूरी हो
-कौन कौन से खाद्य पदार्थ हमें ऐसी अवस्था में लेनी चाहिए
आइए दोस्तों इस विषय पर चर्चा करते हैं Post शुरू करते हैं
गर्भावस्था के दौरान महिला के शरीर में बहुत सारे परिवर्तन आने शुरू हो जाते हैं। इस दौरान महिला के शरीर में खून की कमी की समस्या आम सुनने को मिलती है, जिसे एनीमिया कहते हैं। हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो तो महिला के शरीर में कमजोरी आ जाती हैं। खून की कमी होने के बहुत सारे कारण हो सकते हैं। पौष्टिक भोजन ना खाना भी इसका मुख्य कारण हो सकता है। खून की कमी होने पर गर्भ में पल रहे शिशु का स्वास्थय भी बिगड़ सकता है। 

खून की कमी के कारण

आयरन की कमी  
शरीर में फ़ॉलिक एसिड की कमी से भी खून की कमी हो सकती है।
विटामिन बी की कमी
मुख्यतः आयरन शरीर में ब्लड की कमी का कारण बनता है और अगर फोलिक एसिड भी हमारे शरीर में पर्याप्त मात्रा में नहीं है तो यह भी रक्त की कमी का कारण हो सकता है साथ ही साथ विटामिन बी भी रक्त की कमी का एक कारण होता है.
हीमोग्लोबिन की कमी के लक्षण
जब आप बोलते हो तो आपकी जीभ में हल्का हल्का दर्द होने लगता है भारी भारी हो जाती है जीभ
सामान्य से अधिक बाल गिरने और झड़ने लगते हैं.
You May Also Like : प्रेग्नेंसी के समय महिला का कमरा कैसा हो जानिए - 7 #2
You May Also Like : प्रेग्नेंट न हो पाना एक कारण आप का भोजन


hemoglobin level in pregnancy

उल्टी और चक्कर प्रेगनेंसी में हार्मोनल परिवर्तन के कारण तो आते ही है लेकिन अगर रक्त की कमी शरीर में हो जाए तब भी उल्टी और चक्कर आने लगते हैं.
अगर शरीर के अंदर रक्त की कमी हो जाती है तो शरीर से लालिमा जाती रहती है और शरीर पर पीलापन आने लगता है, यहां तक की नाखून, आंख और होंठों का रंग भी पीला पड़ने लगता है।
शरीर में रक्त की कमी हो जाने पर थकावट रहती है शरीर में कमजोरी भी महसूस होती है 
रक्त की कमी हो जाने पर मुंह का स्वाद भी बिगड़ जाता है.
अगर शरीर में रक्त की कमी हो जाए तो सांस लेने में भी दिक्कत आने लगती है शरीर की एनर्जी समाप्त होती भी महसूस होती है.

खून की कमी कैसे पूरी करें

खून की कमी दूर करने के लिए डाक्टर आयरनयुक्त व अन्य खून बनाने वाली दवाइयां आदि देते हैं लेकिन खून की कमी को आप देसी आयुर्वेदिक नुस्खों और कुछ आहारों को डाइट में शामिल करके भी पूरा कर सकते हैं। 
खून की कमी होने पर टमाटर का सेवन ज्यादा करें। आप टमाटर का जूस भी ले सकते हैं। यह जूस धीरे-धीरे खून की कमी को पूरा कर देते हैं। 
रोजाना एक मुरब्बे का अगला खाइए और उसके ऊपर दूध पी लीजिए धीरे धीरे आपके शरीर में जो रक्त की कमी आ गई है वह दूर होने लगेगी ।  

गाजर-चुकंदर का जूस व सलाद खून की कमी को पूरा करते हैं। रोजाना गाजर और आधा गिलास चुकन्दर का रस मिलाकर पीएं। इसका सेवन करने से महिला के शरीर में खून की कमी की समस्या ठीक हो जाती है। वह गाजर के मुरब्बे का सेवन भी कर सकती हैं। 
खूजर भी गर्भवती महिला के लिए बहुत फायदेमंद है। खून की कमी पूरी करने के लिए 10 से 12 खजूर के साथ एक गिलास गर्म दूध पीएं। इससे महिला के शरीर में ताक्त आती हैं और खून भी बनता है और शरीर एनर्जी  महसूस करेगा .
गुड़ के अंदर भी रक्त बनाने वाले पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं | गर्भावस्था के दौरान गुड का सेवन करने से भी खून की कमी पूरी हो जाती है।
बथुआ के साग को खाने से शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ता है जिससे शरीर में नया खून बनने लगता है।
You May Also Like : गर्भावस्था में कब दूध पीना चाहिए और कब नहीं पीना चाहिए
You May Also Like : Y शुक्राणुओं को कैसे ताकतवर बनाए - लड़का पैदा हो


hemoglobin normal range in pregnancy

आयरन युक्त खाद्य पदार्थ 
प्रसव से पूर्व पौष्टिक आहार खाएं, जिसमें प्रोटीन, आयरन व विटामिन भरपूर मात्रा में हो। स्वस्थ आहार लें जैसे- लाल मांस, पॉल्ट्री प्रोडक्ट्स व आयरन युक्त खाद्य पदार्थ जैसे- सेम, मसूर, टोफू, किशमिश, खजूर, अंजीर, खुबानी, छिलका युक्त आलू, ब्रोकली, गांठ गोभी, हरी पत्तेदार सब्जियां, साबुत अनाज, ब्रेड, अखरोट-मूंगफली और बीज, गुड़, दलिया, जौ और आयरन फोर्टीफाइड अनाज आदि। यह मांसाहारी महिलाओं के लिए अच्छी बात है कि मानव शरीर शाकाहारी खाद्य पदार्थों में मिलने वाले आयरन की अपेक्षा मांसाहारी खाद्य पदार्थों से मिलने वाले आयरन को आसानी से अवशोषित कर लेता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें