Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

शनिवार, 24 अगस्त 2019

प्रेगनेंसी में दही खाना चाहिए कि नहीं खाना चाहिए

नमस्कार दोस्तों आज के इस ARTICLE  में हम आपके सामने फिर से चर्चा करने वाले हैं प्रेगनेंसी में खाए जाने वाले भोजन को लेकर दोस्तों प्रेगनेंसी में भोजन को लेकर काफी सावधान रहने की जरूरत होती है पोस्टिक भोजन भी कभी कभी प्रेगनेंसी में नुकसान दे सकता है या अगर हम भोजन को थोड़ा सा अधिक मात्रा में खा ले तो भी वह नुकसान दे सकता है कुल मिलाकर हमें काफी सावधान रहने की जरूरत होती है.

pregnancy me dahi khana chahiye ki nahi, dahi khane ka time

आज हम आपके सामने भारत में बहुत ज्यादा प्रयोग होने वाले भोज्य पदार्थ के संबंध में चर्चा करेंगे जिसे भारत की हर रसोई में तैयार किया जाता है और लगभग हर थालीमें यह भोज्य पदार्थ होता है जिसे हम दही कहते हैं.
You May Also Like : गर्भ में बेटा या बेटी जानने के 6 तरीके

इसमें कोई संदेह नहीं है कि दही एक बहुत ही पौष्टिक खाद्य पदार्थ है जिसे दूध से तैयार किया जाता है लेकिन क्या यह प्रेगनेंसी में खाया जा सकता है इस संबंध में हम चर्चा करने वाले हैं हम आपको दही के लाभ और नुकसान के संबंध में बताएंगे इसमें क्या क्या पोषक तत्व पाए जाते हैं यह भी बताएंगे कब और कितनी मात्रा में खाना चाहिए, कब नहीं खानी चाहिए,  इन सब पर चर्चा करेंगे ताकि आप बड़ी आसानी से इस बात का पता लगा सके की प्रेगनेंसी में दही आपको खानी है या नहीं खानी है तो दोस्तो चर्चा करते हैं ARTICLE  शुरू करते हैं।
You May Also Like : Research Report : चाहती हैं लेट न हो प्रेगनेंसी, तो इस एक चीज को खाने से बचें

दही में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम और प्रोटीन होता है जो गर्भावस्था के दौरान के बच्चे के उचित विकास में सहायक होता है। दही में प्रोबायोटिक्स पाए जाते हैं जो शरीर के ख़राब बैक्टीरिया से लड़ते हैं। इसे खाने से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि हो जाता हैं, जिससे गर्भवती महिला और गर्भ में पल रहे बच्चे के जल्दी बीमार होने का ख़तरा काफी कम हो जाता हैं। आईये जानते हैं प्रेग्नेंट महिला को दही खाने से क्या-क्या फायदे होते हैं।

चर्चा करते हैं कि दही कब खानी है कब नहीं खानी है कैसे खानी है, बाद में इसके फायदों पर चर्चा करेंगे

अस्थमा मरीज न खाएं
अगर आप अस्थमा और सांस की प्रॉबल्म के शिकार है तो डॉक्टर की सलाह से दही खाएं। इससे सांस की तकलीफ और भी बढ़ सकती है।
You May Also Like : प्रेग्नेंसी में ये एक चीज खाएंगे तो गारंटी बच्चा स्मार्ट होगा

एलर्जी में न खाएं
जोड़ों में दर्द, स्किन और कोई एलर्जी होने पर दही का सेवन न करें क्योंकि ऐसे मौके पर दही खाने से तकलीफ और भी बढ़ सकती है।

रात में न खाएं
अधिकतर लोग रात के समय दही खाना अधिक पसंद करते है। अगर आप भी ऐसा ही करते है तो इससे परहेज करें क्योंकि रात को दही खाकर सोने से कफ, सर्दी और जुकाम जैसी छोटी-छोटी प्रॉबल्म हो सकती है।
You May Also Like : क्या प्रेगनेंसी में गुड़ खाना चाहिए

खट्टा दही नुकसानदायक
 अगर दही ज्यादा दिन पुराना या खट्टा हो गया है तो इसके सेवन बिल्कुल न करें क्योंकि इससे फूड प्वाइजनिंग, एसिडिटी और पेट की खराबी हो सकती है।

नॉनवेज के साथ  न लें 
नॉनवेज के साथ दही खा रहे है तो आज ही अपनी इस आदत को छोड़ दें क्योंकि ऐसा करने से एलर्जी, स्किन प्रॉबल्म और पेट की खराबी हो सकती है।
You May Also Like : क्या प्रेगनेंसी में मूंगफली खा सकते हैं जानिए

गर्म बिल्कुल न करें
दही को कभी गर्म करके कभी न खाएं क्योंकि इससे दही में मौजूद गुड बैक्टीरिया खत्म हो जाते है।

तुरंत बाद न सोएं 
अगर आप दिन में दही खाने के तुरंत बाद सो जाते है तो इससे डाइजेशन हो सकती है और फैट बढ़ सकती है।

आइए जानते हैं दही खाने के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं प्रेगनेंसी में


You May Also Like : क्या गर्भावस्था के दौरान इंस्टेंट नूडल्स का सेवन सुरक्षित है 
You May Also Like : गर्भावस्था के दौरान किन खाद्य पदार्थों का सेवन सुरक्षित नहीं है

कैल्शियम की कमी दूर करें
गर्भावस्था में महिलाओं को कैल्शियम खाने की सलाह दी जाती है और, इसलिए इस पोषक तत्व की दवा की तरह असर कती है। कैल्शियम भ्रूण की हड्डियों, मांसपेशियों और दांतों के विकास के लिए आवश्यक होता है। यह गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में होने वाली कैल्शियम की कमी को रोकता है। यह दही से होने वाला सबसे अच्छा स्वास्थ्य लाभ है।


पाचन शक्ति सुधारता है
दही आपकी पूरी तरह से पाचन शक्ति को सुधारता है| खाने में मौजूद पोषक तत्वों को ये अच्छी तरह सोखने में मदद करता है ताकि वो सही तरह पच पाए और यही वो कारण होता है जिससे गर्भावस्था के समय आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी नहीं होती।
You May Also Like : क्या गर्भावस्था में सोडायुक्त पेय और सॉफ्ट ड्रिंक्स पीना सुरक्षित है

तनाव और चिंता से बचाव 
गर्भावस्था के दौरान तनाव और चिंता बहुत सामान्य समस्याएं हैं। दही गर्भावस्था के दौरान तनाव को कम करने में सहायक होता है क्योंकि यह मस्तिष्क में उपस्थित भावनाओं के केंद्र को शांत करता है जो गर्भावस्था के दौरान अति सक्रिय हो जाता है।

पिगमेंटेशन और शुष्क त्वचा से बचाव 
गर्भावस्था के दौरान हार्मोन्स के असंतुलन के कारण पिगमेंटेशन और शुष्क त्वचा जैसी समस्याएं आ सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान दही खाने से त्वचा स्वस्थ रहती है और पिगमेंटेशन भी नहीं होता। दही में विटामिन ई प्रचुर मात्रा में होता है जो आपकी त्वचा के लिए अच्छा होता है।
You May Also Like : पुत्र प्राप्ति के लिए सूर्य देव के 2 उपाय


dahi khane ke nuksan, curd health benefits during pregnancy

शरीर को ठंडा रखता है
अगर आपको प्रेग्नेंसी के समय कुछ ऐसा खाना पड़े जिससे कि आपको एसिडिटी या जलन की समस्या हो सकती है तो इन पदार्थों के साथ आप दही का सेवन करें तो आपको इन समस्याओं से छुटकारा मिल जाएगा यह समस्या नहीं होंगी | दही आपके शरीर को शांत तो ठंडा बनाए रखने में मदद करता है, बदहजमी के शिकायत को भी दूर करने में मदद करता है।
You May Also Like : पुत्र प्राप्ति का आयुर्वेदिक नुस्खा (नींबू + दूध + देसी घी)

बीमारियों का डर कम
दही में उपस्थित अच्छे जीवाणु संक्रमण पैदा करने वाले नुकसानदायक बैक्टीरिया से लड़ने में सहायक होते हैं। ये पेट में प्रोबायोटिक्स की संख्या बढ़ाते हैं जो पोषक तत्वों के अवशोषण में सहायक होते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर को दूर रखता है 
गर्भावस्था के समय हाई ब्लड प्रेशर होने का खतरा रहता है और दही खाने से ये खतरा टल सकता है| दही आपके दिल की सेहत के लिए बहुत अच्छा माना जाता है और साथ ही ये आपके कोलेस्ट्रॉल लेवल को भी कम करता है।
You May Also Like : शिवलिंगी से पुत्र प्राप्ति का यह उपाय अचूक मन जाता है - बाँझ महिला को भी पुत्र होता है

इम्युनिटी को बढ़ावा देना 
दही में मौजूद अच्छी बैक्टीरिया आपके शरीर में मौजूद इन्फेक्शन से लड़ने में मदद करते हैं| दही आपके शरीर में प्रोबायोटिक की मात्रा को बढाकर आपके इम्युनिटी सिस्टम को मज़बूत बनाता है।


पिम्पल को दूर रखता है 
हार्मोनल इम्बैलेंस के कारण गर्भावस्था के समय सुखी त्वचा और पिम्पल निकलना आम बात होती है| गर्भावस्था के समय दही आपकी त्वचा को स्वस्थ रखता है और साथ ही उसे पिम्पल से मुक्त भी रखता है| दही विटामिन-ई से भरपूर है जो की आपकी त्वचा के लिए काफ़ी अच्छा होता है।
You May Also Like : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका

वज़न को कण्ट्रोल में रखना 
प्रेगनेंसी के समय वजन तो बढ़ता ही है लेकिन अधिक वजन बढ़ जाने की वजह से प्रेगनेंसी में कई तरह की समस्याएं आ सकती हैं दही का सेवन करने से वजन कंट्रोल में रहता है क्योंकि  दही आपके हॉर्मोन कोर्टिसोल के लेवल को घटाता है जिसका आपके बढ़ते वज़न में सबसे बड़ा हाथ रहता है।

dhai, yogurt, curd, pregnancy, tips, food care


मांसपेशियों का विकास 
दही में प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है तथा यह आपके बच्चे की मांसपेशियों के विकास में सहायक होता है। गर्भावस्था के दौरान दही खाने से बच्चा स्वस्थ और मोटा होता है। गर्भावस्था के दौरान दही खाने का यह सबसे अच्छा फायदा है।
You May Also Like : गर्भावस्था में अमरूद खाने के जबरदस्त फायदे 
You May Also Like : प्रेगनेंसी में खून की कमी और उपाय

पाचन में सुधार 
दही भोजन के पाचन के सुधार लाता है। यह भोजन में उपस्थित पोषक तत्वों के अवशोषण में पाचन तंत्र की सहायता करता है। इस प्रकार गर्भावस्था के दौरान यह आपके शरीर को कुपोषण से बचाता है। गर्भावस्था के दौरान दही खाने का सबसे बड़ा फायदा यही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें