Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

बुधवार, 14 अगस्त 2019

प्रेगनेंसी होने के शुरुआती लक्षण 10 लक्षण - Part #1

नमस्कार दोस्तों जब कोई महिला पहली बार मां बनने जा रही होती है तो उसे यह जानने में बड़ी ही परेशानी होती है कि वह प्रेग्नेंट हो गई है कि नहीं हुई है,
यह पता करना अपने आप में बड़ा ही मुश्किल होता है क्योंकि हर महिला को प्रेग्नेंसी के समय अलग अलग प्रकार के लक्षण प्रकट होते हैं
प्रेगनेंसी को लेकर महिलाएं थोड़ी सी शर्मीली होती है उन्हें अपनी प्रेगनेंसी को बताने में थोड़ा झिझक महसूस होती है, जो पहले से ही एक्सपीरियंस महिलाएं हैं उनसे सलाह ली जा सकती है इसे हम भारतीय कल्चर की एक सुंदरता कह सकते हैं.
You May Also Like : क्या प्रेगनेंसी में घी खाना फायदेमंद होता है
You May Also Like : प्रेग्नेंसी में वजन बढ़ने को लेकर हैं परेशान, तो अभी से फॉलो करें ये टिप्स


pregnancy symptoms


तो हम पहली बार मां बनने वाली महिलाओं की इस परेशानी को समझते हुए इस वीडियो को लेकर आए हैं इस वीडियो के माध्यम से आपको लगभग 10 ऐसे लक्षणों के बारे में बताएंगे जो प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण कहलाते हैं और इनमें से कुछ लक्षण लंबे समय तक नजर आते भी हैं, अगर इनमें से कुछ लक्षण आप के अंदर है तो आप प्रेग्नेंट हो सकती हैं तो आइए दोस्तों ऐसे लक्षणों पर चर्चा करते हैं.
You May Also Like : प्रेगनेंसी में क्यूं खाना चाहिये फूलगोभी
You May Also Like : महिलाओं में बांझपन के क्या कारण होते हैं - महिला की उम्र के कारण


प्रेगनेंसी में यह सबसे विचित्र बात होती है कि महिला को शुरू के 20 से 25 दिन तक इस बात का पता ही नहीं होता है कि वह प्रेग्नेंट हो गई है जब पहली बार महिला के पीरियड मिस हो जाते हैं तो उन्हें इस बात का एहसास होता है कि कहीं वह प्रेगनेंट तो नहीं
प्रेगनेंसी के शुरुआती दिनों में कुछ लक्षण महिला के शरीर में नजर आने लगते हैं अगर महिला और लक्षणों को ध्यान से अनुभव करें तो वह इस बात का पता लगा सकती है कि वह प्रेग्नेंट है कि नहीं

पीरियड का मिस होना
पीरियड का लेट होना या पीरियड मिस हो जाना प्रेग्नेंसी के सबसे सामान्य लक्षणों में से एक है। मगर पीरियड मिस हो जाने का मतलब यह नहीं है कि आप प्रेंग्नेंट हो। यह सिर्फ एक लक्षण है, आप प्रेग्नेंट हो भी सकती हो।

मूड बदलना
 प्रेगनेंसी के शुरुआती दिनों में महिला के शरीर में हारमोंस के अंदर काफी उथल-पुथल होती है जिसकी वजह से महिला के मूड में परिवर्तन आ जाता है और महिला काफी चिड़चिड़ी हो सकती है, शरीर में हारमोन्स के बढ़ने से मूड उखड़ा रहता है। कभी बहुत अच्छा और कभी बहुत बुरा लगता है। ऐसे में महिला को परिवार का सहारा लेना आवश्यक होता है।

गंध क्षमता में वृद्धि
गर्भावस्था के दौरान सूंघने की क्षमता बढ़ जाती है और गंध सबसे ज्यादा लगती है।सामान्य अवस्था में वस्तुओं से जिस प्रकार की गंध महिलाओं को आती है प्रेगनेंसी के समय उसमें से कुछ अलग प्रकार की गंध महिलाओं को आने लगती है अर्थात उनके सूंघने की क्षमता बढ़ जाती है ऐसे में किसी भी तेज गंध वाली चीजों, सामान व करकट आदि से दूर रहें। हमेशा अच्छी स्मैल वाले डिओ, परफ्यूम आदि का ही यूज करें, वरना आपको अंदर ही अंदर घुटन होगी।
You May Also Like : प्रेगनेंसी के समय अक्सर होने वाले कमर दर्द से ऐसे पाएं छुटकारा
You May Also Like : ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली माताओं के लिए सुपर फूड – Food for increase Milk - Part1


am i pregnant , how know i am pregnant


मुँह का स्वाद 
अजीब होना पहले हफ्ते में गर्भवती महिला के मुँह का स्वाद बहुत कड़वा और कसैला सा हो जाता है। उसे किसी भी प्रकार के खाने में जायका नहीं लगता, सिर्फ खट्टी चीजों को खाने में ही स्वाद आता है ।

सपने 
वैज्ञानिकों का मानना है कि प्रेगनेंसी के शुरुआती चरणों में हार्मोनल बदलाव के कारण नींद में महिलाओं को अजीब अजीब तरह के सपने आने लगते हैं अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो आप प्रेग्नेंट हो सकती है, ऐसे में उसके शरीर को और अधिक आराम की आवश्यकता पड़ती है।
You May Also Like : क्या गर्भावस्था के दौरान चाट, गोलगप्पे और स्ट्रीट फूड खाना सुरक्षित है
You May Also Like : क्या गर्भावस्था में सोडायुक्त पेय और सॉफ्ट ड्रिंक्स पीना सुरक्षित है

 
सेंसेटिव स्किन
प्रेगनेंसी के शुरुआती चरण में महिला की स्किन थोड़ा संवेदनशील हो जाती है इसका प्रभाव चेहरे पर नजर आता है, त्वचा रूखी सूखी लगने लगती है आंखों के नीचे डार्क सर्किल भी आ सकते हैं और सूरज की किरणें भी चेहरे की त्वचा को नुकसान पहुंचाती हैं।

खाने से अरूचि होना 
अचानक आपको खट्टे का ज्यादा मन होने लगा है और साधारण खाने से अरूचि होने लगी है तो समझिए कि आपके पेट में कोई नन्ही जान पल रही है। ऐसी अवस्था में भोजन से अरूचि होना और चटपटे भोजन को खाने का मन स्वाभाविक होता है, यह सब हारमोंस परिवर्तन के साइड इफेक्ट के रूप में देखा जाता है, जो की प्रेग्नेंसी के समय परिवर्तित होते हैं।

सिरदर्द 
गर्भावस्था के पहले हफ्ते में सिरदर्द होता है। क्योंकि शरीर में रक्त का प्रभाव बढ़ जाता है इसलिए इस ऐसा होता है शरीर में दूसरे प्रकार के परिवर्तन भी देखने में नजर आ सकते हैं।
You May Also Like : गर्भावस्था के दौरान पिस्ता का सेवन सुरक्षित है या नहीं
You May Also Like : क्या गर्भावस्था में पास्ता खाना चाहिए


pregnancy care, tricks and tips


सांस लेने में भारीपन
लगना क्या आपको सांस लेने में उतना ही भारीपन लगता है जैसे आप अभी - अभी सीढि़यां चढ़कर आई हों, ऐसा इसलिए है क्योंकि आप प्रेग्नेंट है। आपके पेट में पल रहे भ्रूण को ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है जो आपसे ले लेता है।
You May Also Like : गर्भ में लड़का या लड़की जानने के 7 तरीके
You May Also Like : गर्भ में बेटा या बेटी जानने के 6 तरीके

थकान 
महिला के प्रेग्नेंट हो जाने पर शरीर में एनर्जी की खपत बढ़ जाती है अधिक पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है एक तरह से कह सकते हैं कि शरीर में उथल-पुथल मची रहती है ऐसे में महिला को शुरुआती दिनों से ही थकान का बहुत ज्यादा अनुभव होता है यह थकान अंत तक बनी रह सकती है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें