Header Ads

गर्भावस्था में पपीता खाए कि नहीं - Pregnancy me Papaya Khane ko laker Jaroori Jankari

गर्भावस्था जीवन का एक संवेदनशील पड़ाव होता है। इस समय शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं, तो कुछ चीजें गर्भस्थ शिशु के लिए सही या गलत हो सकती हैं। यही कारण है कि इस समय खान-पान और अन्य चीजों को लेकर सतर्कता बरती जाती है और गर्भवती महिला को कुछ चीजों का सेवन न करने की सलाह दी जाती है। पपीता भी उन्हीं चीजों में एक है, लेकिन इसे लेकर विशेषज्ञों एवं लोगों की अलग-अलग राय है।

benefits of papaya in pregnancy, Loss of papaya in pregnancy


कच्चा पपीता प्रेगनेंसी में क्यों नहीं खाएं - Kaccha Papita Pregnancy me kyo nahi Khaye
सामान्यत: पपीते को गर्भावस्था में खाना, गर्भस्थ शिशु के लिए हानिकारक माना जाता है। दरअसल पपीता गर्म प्रकृति का होता है। इसका प्रयोग पेट संबंधी रोगों या कब्ज होने पर पेट साफ करने के लिए भी किया जाता है। इसी के चलते यह माना जाता है, कि गर्म तासीर होने के कारण यह गर्भस्थ शिशु को नुकसान पहुंचा सकता है। यह भी माना जाता है, कि पपीते का नियमित सेवन करने से गर्भपात भी हो सकता है।
You May Also Like : प्रेगनेंसी में खून की कमी और उपाय

कच्चे पपीते में लेटेक्स पाया जाता है। जो की शरीर में गर्मी पैदा करता है और गर्भाशय में भी इसकी वजह से संकुचन प्रारम्भ हो जाता है। जिसकी वजह से शिशु की गर्भाशय में ही मौत हो सकती है। या फिर गर्भपात भी हो सकता है।
You May Also Like : प्रेगनेंसी के 7 सपने और उनके पीछे छुपे अर्थ
इतना ही नहीं यह भी देखा गया है, कि कच्चे पपीते या पपीते के अधिक सेवन से मृत शिशु का जन्म होता है। पपीते की तासीर गर्म ही होती है जो शरीर में अत्यधिक गर्मी बढ़ता है। यह तापमान शिशु के लिए सेहन करना मुश्किल है, इसके वजह से वह अंदर ही दम तोड़ देता है।
You May Also Like : 35 के बाद प्रेग्नेंट होने के 15 टिप्स पार्ट #2

गर्भवती महिला को क्या नहीं खाना, प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए,


क्या पका पपीता प्रेगनेंसी में सुरक्षित - Kya Paka Papita Pregnancy me Surakshit
लेकिन अगर हम पके हुए पपीते की बात करें
हाँ, गर्भावस्था के दौरान पपीता खाना सुरक्षित है, बशर्ते पपीता पूरी तरह से पका हुआ हो।
You May Also Like : बिना प्रेगनेंसी के प्रेगनेंसी वाले लक्षण कब आते हैं
अच्छी तरह पका हुआ पपीता विटामिन सी और ई से भरपूर होता है। यह फाइबर और फॉलिक एसिड का भी अच्छा स्त्रोत है।

पपीता कब्ज तथा सीने में जलन और अम्लता की रोकथाम एवं इन्हे नियंत्रित रखने में भी मदद करता है।



इन्हीं कारणों से, कई विशेषज्ञों का सुझाव है कि गर्भवती महिलाओं को पके हुए पपीते का थोड़ी मात्रा में सेवन करना चाहिए।
You May Also Like : महिलाओं में बांझपन के क्या कारण होते हैं - मानसिक कारण
कुछ महिलाएं पके हुए पपीते को दूध व शहद के साथ मिलाकर स्वास्थ्यवर्धक पेय बना लेती हैं। यह मिश्रित पेय गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए पोषक तत्वों से भरपूर माना गया है।

पपीता खाने के नुकसान, कच्चा पपीता के नुकसान

You May Also Like : प्रेगनेंसी के समय अक्सर होने वाले कमर दर्द से ऐसे पाएं छुटकारा

यदि आप अभी भी अनिश्चित हैं की पपीता खाना चाहिए या नहीं, तो अपनी डॉक्टर से बात करें। आपका डॉक्टर आपकी शारीरिक और मानसिक स्थिति का अवलोकन करके आपको यह बताएगा कि आपकी का खाना है कि नहीं खाना है



No comments

Powered by Blogger.