Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

शुक्रवार, 1 नवंबर 2019

महिला की प्रेगनेंसी और थायराइड पार्ट #3

नमस्कार दोस्तों,  दोस्तों थायराइड को लेकर हम पहले भी दो POSTस डाल चुके हैं जिसमें हमने थायराइड क्या होता है प्रेग्नेंसी के समय थायराइड की क्या आवश्यकता होती है, प्रेग्नेंसी के समय थायराइड के कारण और उसके क्या लक्षण नजर आते हैं, हमने चर्चा की है
आज हम इस POST के माध्यम से चर्चा करने वाले हैं कि इसका कैसे पता करें डॉक्टर थायराइड के लिए क्या उपचार देते हैं और किस तरह प्रेग्नेंसी के समय थायराइड से बचा जा सकता है इस बात पर चर्चा करेंगे..
दोस्तों प्रेग्नेंसी के समय थायराइड की समस्या काफी गंभीर समस्या मानी जाती है इसकी वजह से गर्भ में बच्चे का विकास रुक सकता है तो इस वजह से आपको थायराइड हो या ना हो एक बार थायराइड का चेकअप जरूर कराना चाहिए.
You May Also Like : महिला की प्रेगनेंसी और थायराइड पार्ट #2
You May Also Like : महिला की प्रेगनेंसी और थायराइड पार्ट #1

दोस्तों आजकल मार्केट में बहुत एडवांस टेक्नोलॉजी आ गई है बस आपको ब्लड देना होता है और जो भी किट थायराइड टेस्ट के लिए आती है उसका प्रयोग करके आपके शरीर में कितना थायराइड लेवल है उसका पता लगा लिया जाता है.

थायराइड से बचने के लिए, थायराइड के इलाज का तरीका

दोस्तों हमने पहले POST में आपको यह बताया है कि किसी भी गर्भवती महिला के शरीर में पहले 3 महीने, दूसरे 3 महीने और लास्ट के 3 महीने कितना कितना थायराइड का लेबल होना चाहिए बस अगर उस लेवल के बीच में आपका थायराइड हार्मोन लेबल आता है तो फिर किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होती है. अगर हारमोंस लेवल अप डाउन होता है तो उसके लिए फिर मेडिसिंस की आवश्यकता होती है डॉक्टर से मिलने की आवश्यकता होती है.
You May Also Like : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय - गाय का दूध
You May Also Like : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका

अगर आपके शरीर में थायराइड का लेवल आवश्यक लेवल से कम आता है या उसके आसपास आता है तो इसका मतलब यह है कि आपको हाइपोथायरायडिज्म अर्थात हाइपो थायराइड की समस्या है इसके लिए डॉक्टर ऐसी मेडिसन देते हैं जिससे आपके शरीर में हारमोंस का बनना ज्यादा शुरू हो जाए
अगर आपके शरीर में थायराइड का लेवल आवश्यक लेवल से ज्यादा है या उसके आसपास है तो इसके लिए डॉक्टर दवाई नहीं देते हैं उसके जो भी साइड इफेक्ट हो उसको मैनेज करने की कोशिश की जाती है मेडिसिंस के द्वारा.

रोज-रोज मार्केट में नई टेक्नोलॉजी आ रही है नई नई रिसर्च हो रही है तो इसके अलावा भी कुछ ऐसा लेटेस्ट हो सकता है जो हाइपर थायराइड को कंट्रोल करने के लिए चीजें प्रयोग में लाई जा रही हो.
हाइपर थायराइड की समस्या गंभीर हो जाती है तो इस स्थिति में डॉ हारमोंस को कंट्रोल करने के लिए मेडिसिंस का प्रयोग करते हैं इस प्रकार की मेडिसिन से कुछ साइड इफेक्ट नजर आ सकते हैं जैसे कि

थायराइड में दवाइयों के साइड इफेक्ट, थायराइड के इलाज में सावधानी, थायराइड

शरीर में श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या कम हो सकती है, जिससे आपको जल्द ही संक्रमण हो सकता है.
त्वचा पर रैशेज या फिर खुजली हो सकती है.
कुछ विलक्षण मामलों में लिवर काम करना बंद कर सकता है. लेकिन ऐसा ना के बराबर ही होता है.
कुछ ऐसे लक्षण भी नजर आते हैं जिन लक्ष्यों के नजर आने पर आपको तुरंत एंटी हारमोंस मेडिसिंस को लेना बंद कर देना है.
You May Also Like : ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है - शिवलिंगी के बीज
You May Also Like : शिवलिंगी से पुत्र प्राप्ति का यह उपाय अचूक मन जाता है - बाँझ महिला को भी पुत्र होता है

 जैसे कि --
आपकी त्वचा आपको पीली नजर आ रही हो
आपको लगातार आपके पेट में हल्का हल्का दर्द महसूस हो रहा हो
अगर आपके गले में सूजन सूजन चढ गई हो और
आप को बुखार भी लगातार बना हुआ है तो इन स्थिति में एंटी थायराइड मेडिसिन लेना बंद कर दें.
थायराइड से बचने के लिए आप कुछ कार्य कर सकते हैं अगर आपको थायराइड नहीं है तब भी आप यह कार्य कर सकते हैं जैसे कि –

अपने डॉक्टर की सलाह पर प्रतिदिन व्यायाम अवश्य करें जो भी प्रेग्नेंसी के समय किए जा सकते हो इन से थायराइड आपका नियंत्रण में रहेगा.
आप किसी भी कुशल प्रशिक्षक की देखरेख में योगा और मेडिटेशन कर सकती हैं क्योंकि आप गर्भवती हैं तो आपको प्रशिक्षक की आवश्यकता होगी.
सुबह और शाम को करीब आधा-आधा घंटा खुली हवा में पैदल चलें।

thyroid, side effect of thyroid medicines, thyroid check up

थायराइड की समस्या होने पर आपको डॉक्टर के संपर्क में रहना है और समय-समय पर डॉक्टर की सलाह पर अपना थायराइड चेक करवाना बिल्कुल भी ना भूले.  जनरल क्या होता है कि हम थोड़ा सा इग्नोर कर देते हैं कि चलो अभी नहीं 10 दिन बाद करवा लेंगे 15 दिन बाद करवा लेंगे .
You May Also Like : पुत्र प्राप्ति के 3 बलशाली टोटके
You May Also Like : गर्भ में बेटा या बेटी जानने के 6 तरीके

थायराइड को आप बिल्कुल भी हल्के में ना लें अगर ऐसा होता तो हम आपको बता देते कि आप कभी भी चेक करवाइए या ना करवाइए. थायराइड को हल्के में ना लें अगर डॉक्टर ने 10 दिन के लिए बोला है तो 10 दिन बाद ही चेक कराएं क्योंकि यह बहुत जरूरी होता है इसकी बिगड़ने पर उसका सीधा असर बच्चे पर पड़ता है.
प्रेगनेंसी का समय काफी नाजुक होता है अगर डॉक्टर की देखरेख में है तो आपको यह लग सकता है कि डॉक्टर ने दवाई तो दे रखी है चलो अभी नहीं कुछ दिन बाद चेक करवा लेते हैं जरूरी नहीं कि डॉक्टर ने आपको थायराइड हार्मोन के लिए दवाई दी हूं हो सकता है कि उसके साइड इफेक्ट को दूर करने के लिए दवाई दी हो क्योंकि इसकी दवाइयों के साइड इफेक्ट होते हैं इसलिए प्रेगनेंसी में कभी-कभी डॉक्टर से दवाई नहीं देते हैं तो इसलिए उन्हें यह पता होना बहुत जरूरी होता है कि आपके थायराइड का लेवल क्या है हम फिर से कह रहे डॉक्टर ने अगर 10 दिन बाद बोला है तो आप 9 दिन बाद ही चेक करा लीजिए.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें