Header Ads

  • Latest

    घर को सैनिटाइज करने का प्राचीन तरीका - Ghar ko kaise sanitize karen

    देश के अंदर कोरोनावायरस का कहर भले ही इतना ना हो लेकिन उसके डर का कहर हर एक व्यक्ति के सर पर चढ़कर बोल रहा है. शायद यह जरूरी भी है क्योंकि जिस प्रकार से इस वायरस ने दुनिया के अंदर अपना रौद्र रूप दिखाया है. उसके लिए सावधानी आवश्यक भी है क्योंकि इसका अभी तक इलाज मौजूद नहीं है क्योंकि किसी भी रोग का इलाज मिलने में और उसके इंसानों पर प्रयोग करने में लगभग 15 महीने से 20 महीने का समय लगता ही है क्योंकि उसके साइड इफेक्ट भी देखने होते हैं जो कि काफी समय बाद नजर आ सकते हैं इसलिए सावधानी तो आवश्यक है.

    एक रिपोर्ट के अनुसार पूरे विश्व के अंदर लगभग सवा करोड़ लोग हर वर्ष वायरस संक्रमण से मृत्यु को प्राप्त होते हैं तो देखा जाए तो कोरोना से उतना नुकसान नहीं हुआ है जितना कि प्रचारित हो रहा है या जितना इसका डर है. देखा जाए तो यह एक राहत देने वाली खबर है.

    how to sanitize home easily

    जानते हैं घर पर ही करोना वायरस से हम किस प्रकार से अपनी रक्षा घरेलू उपायों द्वारा कर सकते हैं. इसके लिए थोड़ा सा आपको विज्ञान के विषय में जानना होगा. हमारा शरीर छारीय प्रकृति का होता है और जो भी एक कोशिकीय जीव छारीय प्रकृति के होते हैं वह हमारे लिए फायदेमंद होते हैं. और वह एक कोशिकीय जीव जो अम्लीय प्रकृति के होते हैं वह हमारे लिए नुकसानदायक होते हैं उन्हें हम विषाणु कहते हैं और छारीय प्रकृति के जीव को हम जीवाणु कहते हैं.

    इन्हें भी पढ़ें : करोना वायरस और हमारी सोच - करोना कैसे हो कंट्रोल - Corona Virus and Indians
    इन्हें भी पढ़ें : क्या प्रेगनेंसी में कोरोना वायरस ज्यादा खतरनाक है – Corona during Pregnancy


    किसी भी जीव के लिए, उसमें इंसान भी है, उसके लिए एसिड जहर होता है. हमारे लिए जितने भी जहर हैं वह सब तीखे एसिड होते हैं और जो भी जीव अम्लीय प्रकृति के होते हैं उनके लिए क्षार जहर होता है.



    जितने भी वायरस बैक्टीरिया हमें नुकसान पहुंचाते हैं वह सब के सब अम्लीय प्रकृति के होते हैं उनके लिए छारीय अवस्था लगभग जहर के समान होती है और वह हमारे शरीर में जाकर छारीय मीडियम को एसिडिक मीडियम में बदलने लगते हैं जिसकी वजह से हमें परेशानी बीमारी होने लगती है अगर हम अपने चारों तरफ के वातावरण में छारीय तत्वों को बढ़ा दे तो वह वायरस हमारे शरीर में आने से पहले ही समाप्त हो जाएगा.

     इन्हें भी पढ़ें : कोरोना वायरस की होम्योपैथी मेडिसन - Homeopathy medicine of corona virus
    इन्हें भी पढ़ें : बच्चे का टीथर सेलेक्ट करते समय क्या सावधानी रखें - Precaution in Baby Teether Selection

    मैं आपको एग्जांपल के लिए बता दूं कहते हैं ना कि पानी को शुद्ध करने के लिए उसके अंदर तुलसी के 5 से 10 पत्ते डाल दे पानी शुद्ध हो जाता है. तुलसी एक छारीय पौधा है या कहें कि सबसे छारीय पौधा तुलसी ही होता है. इसलिए यह हमारे लिए अमृत समान है. जब इसके पत्ते पानी में डाले जाते हैं तो जो भी बैक्टीरिया  पानी के अंदर होते हैं जोकि एसिडिक नेचर के होते हैं, अम्लीय होते हैं उनको अम्लीय वातावरण पसंद है वह क्षार के संपर्क में आते ही समाप्त हो जाते हैं और पानी शुद्ध हो जाता है.

    Corona Se Kaise bache

    आप एक काम कर सकते हैं घर के अंदर एक कटोरी में कपूर ले उसे एक स्टैंड पर रखें उसके नीचे दीपक जला कर रख दें धीरे-धीरे जब कटोरी गर्म होगी तो कपूर पिंगल कर आपके घर में फैलने लगेगा इसमें अच्छी खुशबू आती है और यह छारीय प्रकृति का होता है. इस कारण से जो भी बैक्टीरिया आपके घर में होंगे आपके शरीर पर होंगे वह स्वता ही समाप्त होने लगते हैं. और साथ में घर में जिस भी प्रकार की नेगेटिव एनर्जी होगी वह स्वता ही घर से बाहर चली जाएगी. घर का वातावरण पोजिटिव और अच्छा रहेगा सुबह शाम यह प्रयोग करें.

    और भी इसी प्रकार के दूसरे उपाय हम सुनकर आपके लिए लेकर आएंगे जिनका प्रयोग नेगेटिव एनर्जी के लिए वायरस जैसी चीजों के लिए काफी समय से भारत में किया जा रहा है

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad

    /*################## my map Code ###########*/ /* ########## my code End #######*/