Header Ads

मां बाप बनने की क्षमता को प्रभावित करने वाले तत्व - आलस्य

आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम चर्चा करने वाले हैं उन दंपत्ति को लेकर जो अपने यहां संतान चाहते हैं लेकिन उनके संतान नहीं हो रही है.
late pregnancy cause

भारतीय समाज में इस बात को लेकर थोड़ा शर्म की जाती है, दंपत्ति डॉक्टर के पास जाने से शर्माते हैं जाते भी हैं लेकिन जब काफी देर हो जाती है, तब वह डॉक्टर के पास जाते हैं, लेकिन दोस्तों क्या आपको पता है, कि 90% केसेस में तो प्रॉब्लम ना के बराबर ही होती है. अगर आप अपनी लाइफ स्टाइल में थोड़ा सा परिवर्तन कर दो तो आपको सफलता मिल सकती है, हां कुछ मामले ऐसे हो सकते हैं जिसमें आपको मेडिकल ट्रीटमेंट लेना ही होगा.

इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय - गाय का दूध

इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि
इन्हें भी पढ़ें : 3 फलों की औषधि से पुत्र प्राप्ति का नुस्खा - इसे खाने से पुत्र की प्राप्ति हो जाती है
इन्हें भी पढ़ें : ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है - शिवलिंगी के बीज

how to get pregnant fast

शरीर के बीमार होने में या दंपत्ति के यहां संतान ना होने में अर्थात शरीर से संबंधित किसी भी प्रकार की परेशानी में कहीं ना कहीं उसका कारण हमारा आलस्य, मशीनों पर अत्यधिक निर्भर होना और स्वाद के लिए भागना अपने भोजन का ध्यान नहीं रखना, आपका लाइफ स्टाइल, तनाव यही मुख्य कारण होते हैं.

आज हम आपके आलस्य पर बात करें.


दोस्तो हमारे आयुर्वेद में जीवन जीने का तरीका बताया गया है कि हमें अपना जीवन किस तरह से व्यतीत करना चाहिए. उसने बहुत सारी चीजें हैं, लेकिन उसमें से कुछ चीजें जो है, वह बहुत जरूरी है,जैसे कि सुबह जल्दी उठना सभी दैनिक कार्यों से निवृत्त हो ना साथ में थोड़ा एक्सरसाइज करना उसके बाद नाश्ता और फिर पूरा दिन और रात को सूर्य अस्त होने के समय डिनर कर लेना और रात को जल्दी सो जाना.

unhealthy food can lose pregnancy

यह सब स्वस्थ शरीर के लिए अत्यधिक आवश्यक है, लेकिन हम आलस्य की वजह से ना तो सुबह जल्दी उठते हैं और हमारा लाइफ़स्टाइल ऐसा रहता है कि हम रात को देर से सोते हैं, रात को खाना भी देर से खाते हैं, सुबह का नाश्ता नहीं करते हैं और भागम भाग रहती है तो कहीं ना कहीं है शरीर को कमजोर बनाता है, और शरीर की सारी गतिविधियां सुस्त पड़ जाती है और जिस कार्य में सबसे ज्यादा ताकत की आवश्यकता होती है वह ज्यादा प्रभावित होता है.

You May Also Like : प्रेगनेंसी के दौरान इन 17 बातों का ध्यान रखें - Part #1
You May Also Like : BABY HAS STOPPED GROWING - गर्भ में बच्चे का विकास रुकने के संकेत


संतान प्राप्ति के कार्य में शरीर की बहुत ज्यादा एनर्जी खर्च होती है और ताकत की आवश्यकता भी होती है शरीर स्वस्थ भी होना चाहिए.
ऐसा हो सकता है कि आपका Job प्रोफाइल ऐसा हो कि आप बहुत सी चीजें फॉलो ना कर पाओ लेकिन जितना हो सके उतना तो फॉलो करना ही चाहिए.

fast life and delay in pregnancy

You May Also Like : प्रेगनेंसी से बचने के घरेलू उपाय
You May Also Like : अल्कोहल से जेंडर प्रिडिक्शन 1 मिनट में

इन्हें भी पढ़ें : आयुर्वेदिक नुस्खे से पुत्र प्राप्ति - शिवलिंगी के बीज और पुत्रजीवक बीज
इन्हें भी पढ़ें : शिवलिंगी से पुत्र प्राप्ति का यह उपाय अचूक मन जाता है - बाँझ महिला को भी पुत्र होता है
इन्हें भी पढ़ें : प्राचीन ऋषियों द्वारा पुत्री प्राप्ति के दिए गए पांच सूत्र

साथ ही आपको उन सब चीजों का अरेंजमेंट अपने कार्य के अनुसार करना चाहिए जिसकी आवश्यकता आपके शरीर को है, जैसे कि हम बता देते हैं.
आप कहते हैं कि मुझे नौकरी के लिए सुबह 7:00 बजे ही निकलना पड़ता है, सारे दैनिक कार्य ही बड़ी मुश्किल से निपटने हैं तो ऐसे में मैं कब नाश्ता करूं कब एक्सरसाइज करूं.
अगर आप शाम को जल्दी आ जाते हैं तो आप एक्सरसाइज शाम के नंबर में कर सकते हैं शाम को पार्क में घूमने जा सकते हैं, आप जिम जॉइन कर सकते हैं पर आप नहीं करते. 

सुबह को अगर आप मेडिटेशन नहीं कर पाते हैं, तो थोड़ी सी मेडिटेशन शाम के नंबर में आप कर सकते हैं, पर आप नहीं करते.
अगर आप कहते हैं कि शाम को भी देर से आना होता है तो आपको इसका ऑप्शन बिल्कुल निकालना होगा जहां आप की जॉब है तो आप वही रहिए जरूरी नहीं कि आप 4 से 5 घंटे रोज ट्रैवल करें.

inactive body and no pregnancy

अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आपको कुछ ना कुछ तो करना ही पड़ेगा आखिर आप सब कुछ तो अपने परिवार के लिए और अपने लिए ही तो कर रहे हैं और आपका शरीर स्वस्थ नहीं होगा तो फिर सब बेकार है.
यही बात पुरुषों के साथ साथ महिलाओं पर भी लागू होती है अगर महिला घर में रह रही है और उसका वजन लगातार बढ़ रहा है,
शरीर में बीमारी बढ़ रही है, दर्द बढ़ रहा है तो कहीं ना कहीं वह भी आलस्य से ग्रसित है.


You May Also Like : पल्स विधि द्वारा जेंडर प्रिडिक्शन


शरीर की बीमार हो जाने पर उनकी भी क्षमता हर प्रकार से कम हो जाएगी और खासकर प्रेगनेंसी में  महिलाओं को ही बहुत ज्यादा शक्ति की आवश्यकता होती है मजबूत शरीर की आवश्यकता होती है उन्हें तो विशेष तौर पर अपने शरीर का ख्याल रखना चाहिए उन्हें भी रोजाना एक्सरसाइज करनी चाहिए मेडिटेशन करना चाहिए सुबह जल्दी उठें समय से नाश्ता करें, रात को भी समय से खाना खाकर जल्दी सोए और अपने शरीर की देखभाल के लिए आलस्य बिल्कुल भी ना करें.

unhealthy food and no pregnancy

You May Also Like : प्रेगनेंसी में पुदीने की चाय पीए कि नहीं पीए
You May Also Like : प्रेगनेंसी में दी जाने वाली बेस्ट ड्रिंक



जैसे कि आपको पता है कि शुद्ध दूध आधा किलोमीटर दूर एक डेरी पर मिलता है.
आपको पता है कि ऑर्गेनिक सब्जियां सुपर मार्केट की एक दुकान पर मिलती है जो 400-500 मीटर या 1 किलोमीटर दूर है तो आप दूध और सब्जी वहां से लेकर आए अगर आप वहां जा सकते हैं तो, आलस्य नहीं करना है (Avoid Laziness) आखिर आपके और आपके परिवार की सेहत का सवाल है कुल मिलाकर आपको इस तरफ ध्यान देना है कि आपको स्वस्थ रहना है तभी आप स्वस्थ रह पाएंगे होता क्या है कि हम आजकल इस तरफ ध्यान ही नहीं देते हैं.

और बिना वजह डॉक्टरों के चक्कर लगाते हैं पैसा खर्च करते हैं तो फिर पैसा कमाने के लिए ऐसे ही मेहनत करते हैं.


No comments

Powered by Blogger.