Header Ads


Pregnancy Care items

प्रेगनेंसी के दौरान कितना तरबूज खाना चाहिए और कब | How much watermelon to eat in pregnancy

प्रेगनेंसी के दौरान तरबूज खाने को लेकर चर्चा करने जा रहे हैं.
हम बात करेंगे --
क्या प्रेगनेंसी के दौरान तरबूज खाना चाहिए?
गर्भावस्था के दौरान एक दिन में कितना तरबूज खा सकते हैं?
गर्भावस्था की कौन सी तिमाही में तरबूज खाना चाहिए?
तरबूज के पोषक तत्व?
तरबूज खाने में क्या सावधानी रखें
गर्भावस्था में कैसे खाएं तरबूज


तरबूज के फायदे और नुकसान को लेकर हम अपने अगले Article के माध्यम से चर्चा करेंगे --- 



Whether or not to eat watermelon in pregnancy


 इन्हें भी पढ़ें : क्या प्रेगनेंसी में मट्ठा (छाछ) पीना चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में तरबूज खाने के फायदे
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में नारियल पानी का फायदा
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में पपीता खाए कि नहीं
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में लीची का सेवन सुरक्षित है या नहीं

क्या प्रेगनेंसी के दौरान तरबूज खाना चाहिए

दोस्तों बहुत सारे ऐसे खाद्य पदार्थ होते हैं जो बहुत ज्यादा पौष्टिक होते हैं लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान नहीं खाए जाते और हम अनजाने में उन्हें पौष्टिक मानकर खाते रहते हैं जो हमें नुकसान दे सकते हैं.

लेकिन जहां तक प्रेगनेंसी के दौरान तरबूज खाने की बात है तो यह एक काफी पौष्टिक खाद्य पदार्थ है. मिनरल्स का खजाना माना जाता है. तासीर में ठंडा होता है. इसलिए यह प्रेग्नेंसी में खाया जा सकता है.

गर्भावस्था के दौरान एक दिन में कितना तरबूज खा सकते हैं

जहां तक प्रेगनेंसी के दौरान तरबूज खाए जाने का सवाल है तो कोई भी गर्भवती स्त्री 1 दिन में एक कप तरबूज के टुकड़े रोज खा सकती है तरबूज काफी फायदेमंद फल है लेकिन प्रेगनेंसी में अधिक नहीं खाना चाहिए.

गर्भावस्था की कौन सी तिमाही में तरबूज खाना चाहिए

तरबूज एक बादी फल माना जाता है और यह प्रेगनेंसी के दौरान अधिक नहीं खाना चाहिए. प्रेगनेंसी के दौरान बहुत से फल जो पहली, दूसरी तिमाही में फायदा करते हैं, वह तीसरी तिमाही में नुकसान कर सकते हैं. किसी भी प्रकार की रिसर्च तरबूज को लेकर उपलब्ध नहीं है. इसलिए आप अपने डॉक्टर से पूछे तो काफी सही रहेगा. अगर आपका डॉक्टर भी इसमें असमर्थ है तो आप दूसरे तिमाही  से ही खाना शुरू करें क्योंकि पहली तिमाही में शिशु थोड़ा कमजोर होता है और दूसरी तिमाही तक आते-आते काफी मजबूत हो जाता है.

तरबूज के पोषक तत्व

तरबूज के अंदर मिनरल्स तो काफी सारे होते हैं, लेकिन इसके अंदर आपको पानी, ऊर्जा, प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट, फाइबर और शुगर भी प्राप्त होगा.

 मिनरल्स की बात करें तो कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, सोडियम, कॉपर, मैगनीज, मिलेनियम इत्यादि मिनट के अंदर होते हैं.

विटामिंस की भी काफी अच्छी मात्रा इसने पाई जाती है. इसके अंदर आपको विटामिंस में विटामिन सी, थियामिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन, विटामिन बी सिक्स, फॉलेट ,विटामिन ए, विटामिन ई, इत्यादि प्राप्त होंगे. विटामिन के के अंदर होता है.

तरबूज को खाने में रखी जाने वाली सावधानियां


तरबूज किसी भी गर्भवती स्त्री को खाने के लिए हमेशा पका हुआ अंदर से गहरे लाल रंग का तरबूज एक चुनना चाहिए.

तरबूज को काटने से पहले उसे अच्छे प्रकार से धो लें तभी उसका सेवन करें.

कभी भी बाजार से कटा हुआ तरबूज नहीं लाए.

महिला को कभी भी रखा हुआ तरबूज नहीं खाना चाहिए.

रात के समय तरबूज नहीं खाना है.


 इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में अमरूद खाने के जबरदस्त फायदे
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में कब दूध पीना चाहिए और कब नहीं पीना चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में नींबू खाने के नुकसान और फायदे
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान खजूर खाने के फायदे और नुकसान क्या क्या होते हैं
इन्हें भी पढ़ें : कीवी खाने के फायदे और नुकसान

गर्भावस्था में कैसे खाएं तरबूज

तरबूज का जूस निकालकर भेज का प्रयोग किया जा सकता है

उसको ऐसे ही काट कर काला नमक मिलाकर भी खाया जा सकता है

तरबूज की स्मूदी बनाकर ही अपने भोजन में शामिल किया जा सकता है

सलाद के तौर पर भी तरबूज लिया जा सकता है

No comments

Powered by Blogger.