अधूरे गर्भपात के लक्षण | Symptoms of incomplete abortion

 उन माता बहनों, जिनके साथ किसी कारणवश गर्भपात की समस्या हो गई है.

यह गर्भपात किसी भी माता के लिए काफी दुखद बाद होती है. लेकिन आजकल जैसा कि सरकार की तरफ से भी यह कहा जाता है, कि अधिक जनसंख्या वृद्धि के कारण अधिक बच्चे नहीं होने चाहिए.  

ऐसे में माता-पिता स्वयं भी देश और परिवार के हित में संतान को नहीं रखना चाहते हैं, तब भी गर्भपात की समस्या से दो चार होना पड़ता है.

कभी-कभी दंपत्ति स्वयं मार्केट में आने वाली कई प्रकार की मेडिसन का प्रयोग करके घर पर ही गर्भपात की स्थिति को प्राप्त करने की कोशिश करते हैं.  ऐसे में यह बात किसी भी प्रकार से कंफर्म नहीं की जा सकती है कि यह कार्य पूर्ण रूप से संपन्न हुआ है या नहीं हुआ है ऐसे में कैसे पता लगाते हैं इसी पर बात करेंगे.

अधूरे गर्भपात के लक्षण | Symptoms of incomplete abortion



गर्भपात की स्थिति दो प्रकार की होती है, या तो वह अपने आप हो जाता है या फिर उसकी स्थिति पैदा की जाती है.

पहला कारण
जैसे कि अनजाने में किसी गलती की वजह से या शारीरिक कमी की वजह से किसी गर्भवती महिला को गर्भपात अचानक से हो जाता है.

दूसरा कारण अगर गर्भ अनचाहा हो, इसके बहुत सारे रीजन हो सकते हैं तब भी जानबूझकर इस प्रकार की स्थिति बनाई जाती है.

अगर गर्भपात पूर्ण जिम्मेदारी और आपसी सहमति से किसी डॉक्टर की निगरानी में होता है. डॉ इस बात का ध्यान रखती है, कि यह प्रक्रिया सही प्रकार से हो और जो भी इसके साइड इफेक्ट आते हैं. उन से बचा जा सके. वह इस बात को भी कंफर्म करती है कि कोई अवशेष शरीर के अंदर ना रह गया हो.


लेकिन कभी-कभी जल्दबाजी में और काफी सारे सामाजिक कारणों की वजह से दंपत्ति स्वयं घर पर ही बाजार में मिलने वाली काफी सारी दवाइयों का इस्तेमाल करके जो कि गर्भपात का वादा करती है. उनके उनकी सहायता से घर पर ही इस प्रक्रिया को संपन्न करते हैं.

हालांकि वह दवाइयां जो वादा करती हैं. वह पूर्ण भी होता है. गर्भपात हो जाता है. लेकिन उन दवाइयों का यह दावा बिल्कुल भी नहीं होता है कि यह प्रक्रिया सुरक्षित तरीके से हुई है या नहीं हुई है.
 
घर पर ही इस क्रिया को करना पैसे के लिहाज से फायदेमंद तो रहता है. लेकिन कुछ साइड इफेक्ट आने का डर रहता है.

 जैसे कि किसी भी प्रकार का इंफेक्शन होने का डर रहता है. और अगर कुछ अंश शरीर के अंदर रह जाता है, गर्भाशय में रह जाता है, तो फिर वह काफी परेशानी भी पैदा करता है.

अगर यह प्रक्रिया पूर्ण रूप से नहीं हुई है तो कुछ लक्षण नजर आते हैं. अगर यह लक्षण आए तो महिला को तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए…

TIP: पीरियड्स आने के दौरान महिलाएं Reusable Menstrual Cup का इस्तेमाल करने लगी है. आजकल यह ट्रेंडिंग प्रोडक्ट है. यह काफी आरामदायक है. इसका प्रयोग करने से किसी भी प्रकार की लीकेज परेशानी इत्यादि का सामना नहीं करना पड़ता है. दिन में दो-तीन बार पैड बदलने की समस्या से मुक्ति मिल जाती है. बदबू का सामना नहीं करना पड़ता है. यह काफी किफायती है. एक बार इसे परचेस करने के बाद इसे बार-बार प्रयोग किया जा सकता है. यह बहुत ही अच्छी क्वालिटी की फ्लैक्सिबल मैटेरियल का बना होता है. इसके साइज का भी ध्यान रखें.

Reusable Menstrual Cup के बारे में और अधिक जाने


अपूर्ण गर्भपात में कभी-कभी लगातार आपको प्रेगनेंसी के हल्के हल्के लक्षण नजर आते रहते हैं.  
गर्भपात के एक दिन के पश्चात भी भारी खून जाना,
पेट में मरोड़ वाला दर्द होना,
खून के थक्के, या टुकड़े जाना.


अगर ऐसा होता है, तो गर्भ को पूरी तरह से साफ़ कराने के लिए तुरंत किसी अस्पताल जाएं.

कभी-कभी इंफेक्शन हो जाने की वजह से आगे प्रेगनेंसी होने में भी काफी दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है.
अगर परिवार की आपसी सहमति से या परिवार नियोजन के उद्देश्य से अगर आपको अनचाहा गर्भ नहीं चाहिए तो आप कोशिश करें कि यह कार्य जितनी जल्दी हो जाए उतना ही अच्छा होता है.

 


एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने