Header Ads


Pregnancy Care items

हर स्थिति में पीरियड लाने का रामबाण उपाय

 हम प्रेगनेंसी के जस्ट ऑपोजिट एक टॉपिक पर बात कर रहे हैं. आज हम बात करेंगे कि अगर आपको प्रेगनेंसी नहीं चाहिए या किसी कारणवश आपके पीरियड्स नहीं आ रहे हैं तो ऐसे में क्या किया जाए कि यह 1, 2 दिन में ही आपके पीरियड आ जाएं.

कई बार हार्मोन ऑल डिसबैलेंस की वजह से या फिर फैमिली प्लानिंग के कारण दंपत्ति यह चाहते हैं, कि उनके पीरियड्स रेगुलर आते रहे और ऐसे में कभी रुक जाते हैं तो परेशानी का कारण बन जाते हैं.

कई प्रकार की शंकाएं मन में आने लगती है.




दोस्तों अगर मेडिकल टम्स में बात की जाए तो पीरियड आने या नहीं आने के पीछे हारमोंस में बदलाव को जिम्मेदार बताया जाता है, लेकिन अगर आयुर्वेद की बात की जाए तो यहां बहुत ही सीधे तरीके से कहा जाता है कि शरीर में किसी भी कार्य के लिए एक आदर्श तापमान की आवश्यकता होती है, और अगर तापमान में परिवर्तन आता है तो शरीर में चीजें बदलने लगती हैं.

ऐसे ही यह भी कहा जाता है कि अगर महिला के शरीर का तापमान अधिक रहता है, तो गर्भस्थ महिला को संकुचन की स्थिति बन जाती है.

अर्थात गर्भपात की स्थिति हो जाती है और साथ में यह भी कहा जाता है, कि अगर महिला के शरीर का तापमान अधिक है तो महिला को असमय पीरियड भी आ सकते हैं, या यह कह सकते हैं कि पीरियड से आ जाते हैं.  हम एक घरेलू उपाय की चर्चा कर रहे हैं तो हम इसी के आधार पर बात करें करेंगे.

हींग एक ऐसा मसाला है, जो भारतीय रसोई में बनने वाले व्यंजनों का अभिन्न अंग है. हिंग की तासीर काफी गर्म होती है. यह शरीर में गर्मी को पैदा करने का कार्य करता है. हींग के बारे में कहा जाता है, कि यह एक प्राकृतिक गर्भनिरोधक है. अर्थात यह पीरियड्स आने को उत्तेजित करता है.

अगर आपको पीरियड्स नहीं आ रहे हैं, तो आपको हींग कैसे लेना है, इस पर बात करें उससे पहले हम आपको यह भी क्लियर कर दें कि हो सकता है कि आपको हींग से एलर्जी हो. उस स्थिति में आपकी सेहत बिगड़ सकती है.

क्योंकि यहां हींग थोड़ा अधिक मात्रा में प्रयोग में लाना है, तो आपको अगर इसे लेने के बाद कुछ लक्षण नजर आते हैं. जैसे की होठो में सूजन, गैस, गले में इंफेक्शन  इत्यादि तो आपको इसे लेना रोकना होगा यह लक्षण 1% से भी कम महिलाओं के साथ आएंगे.

 क्योंकि हींग का प्रयोग हम बचपन से ही अपने भोजन के माध्यम से करते हैं, तो इस प्रकार के लक्षण आए यह जरूरी नहीं है. फिर भी अगर एक महिला के साथ भी यह आए तो हमें बताना जरूरी है.

यहां हमको पानी गर्म कर लेना है. उसके बाद उसमें आधा चम्मच हींग पीसकर मिला देना है यह पानी आपको लगभग एक कप से थोड़ा अधिक लेना है. उसके बाद आपको इसे धीरे-धीरे पीना है. इसे पीने का समय सुबह नाश्ते के 30 मिनट बाद रहेगा बल्कि आप 20 मिनट बाद ले.

यह एक बात का ध्यान जरूर रखें कि आप नाश्ते में कुछ ठोस आहार जरूर लें. अगर आप मात्र नाश्ते में चाय पीती हैं, या दूध पीती हैं या कुछ लिक्विड ले लेती हैं, तो फिर नाश्ते का कोई फायदा नजर नहीं आएगा. इसलिए आपको कुछ ठोस आहार जरूर लेना है. जैसे कि ब्रेड रोटियां पराठे इस तरह से

इस दौरान आप छोटे-छोटे कार्य भी करते रहे जैसे कि इस मौसम में पपीता मिल रहा है, तो आप पपीते का सेवन भी करें. जब भी आप नहाती हैं, तो आपको गर्म पानी से नहाना है. 



यह भी periods लाने में सहायता करेगा. जैसा कि कहा जाता है कि जब आपको खांसी जुखाम हो जाता है, तो  सिर में किसी गरम प्रकृति के तेल को लगाया जाता है.

तेल लगाना एक प्रकार से शरीर में गर्मी पैदा करने के लिए होता है, तो आप गर्म तेल से सर की मालिश भी करें गर्म तेल के अंदर सरसों का तेल भी आता है. अगर उससे गर्म तेल चाहिए, तो आपको जैतून का तेल उसमें मिलाना होगा यह भी गर्म होता है.

यह 2 या 3 दिन में अपना काम कर देगा लेकिन अगर आप को पीरियड नहीं आए हैं, तो माना जाता है कि जब तक पीरियड्स नहीं आते हैं. इसे लेते रहना चाहिए. इस दौरान आप अपनी सेहत का भी विशेष ध्यान रखें.

No comments

Powered by Blogger.