क्या नवजात बच्चों को तकिया लगाना जानलेवा हो सकता है

 जब मैंने भी इस प्रकार का एक हेडिंग देखा कि नवजात बच्चों को तकिया लगाना जानलेवा हो सकता है, तो मैं भी थोड़ा सा अचंभित सा रह गया था. उसके बाद मैंने और डिटेल में जाना तो मुझे लगा वास्तव में यह बात सही है.
मुझे लगा यह छोटी सी बात है और इसका ध्यान जल्दी से कोई रखता भी नहीं होगा इसलिए मुझे यह बात जरूर शेयर करनी चाहिए.

हम लोग जैसे अपने आप रहते हैं, वैसे ही हम सोचते हैं कि बच्चे को भी उन सब चीजों की आवश्यकता होती है, जिन वस्तुओं की आवश्यकता हमें होती है.

मुख्यता हर व्यक्ति सोते समय गर्दन के नीचे तकिया लगाना पसंद करता है, और एक निश्चित मोटाई तक तकिया लगाना आरामदायक और जरूरी भी होता है. लेकिन क्या यह बात नवजात शिशु के लिए काम करती है?


दोस्तों जब एक शिशु अपने जीवन की शुरुआत करता है तो शुरुआत के समय वह काफी नाजुक होता है. यहां तक कि उसकी हड्डियां भी बहुत ज्यादा मुलायम होती है, और उन्हें भी बड़ी आसानी से किसी भी डायरेक्शन में आवश्यकता से अधिक मोड़ा जा सकता है.

यहां तक कि मैंने देखा है कि मेरी बेटी जो 3 साल की है उसके हाथ की उंगलियां इतनी ज्यादा पीछे चली जाती है कि मुझे आश्चर्य होता है जबकि हमारी अंगुलियां तो जरा सा भी पीछे नहीं जाती है अब आप सोचिए जो शिशु अभी 1 दिन से लेकर 3 या 6 महीने तक का है उसका शरीर कितना नाजुक होता होगा.


क्या नवजात बच्चों को तकिया लगाना जानलेवा हो सकता है


इसी प्रकार से बच्चे अपनी गर्दन को लगभग 6 महीने तक जल्दी से संभाल भी नहीं पाते हैं. उन्हें उठाने के लिए गर्दन पर सहारा देना कि अधिक आवश्यक होता है, तो उनकी गर्दन भी अत्यधिक नाजुक होती है.

जब आप किसी बच्चे को तकिया लगाते हैं और वह तकिया आवश्यकता से थोड़ा ऊंचा होता है तो उसकी गर्दन अंदर की तरफ मुड़ जाती है ऐसे में उसकी श्वास नली भी मुड़ सकती है और ब्लॉक हो सकती है इसलिए कहा जाता है कि बच्चे की मृत्यु तक हो जाती है. अगर यह समस्या भी नहीं होती है तो और भी दूसरी बड़ी समस्याएं होने का डर रहता है.


असल में बच्चा बहुत छोटा होता है और आप उसके लिए कितना भी पतला तकिया ले ले वह उसके अनुसार ऊंचा ही होता है अर्थात बच्चे को 1 साल तक बिल्कुल भी तकिया नहीं लगाना चाहिए.

और 1 साल के बाद भी बच्चे की आवश्यकता नहीं हो तो तकिया नहीं लगाए हालांकि तकिया आप दाएं और बाएं लगा सकते हैं ताकि बच्चे को उससे सहारा मिल सके.

तो आप छोटी-छोटी बातें अपने मन में उतार ले.
नंबर एक बच्चे का शरीर नाजुक होता है. तकिया लगाने से उसकी सांस नली अंदर की तरफ मुड़कर दब जाती है. जिससे बच्चे को मृत्यु सिंड्रोम हो सकता है. यह अपने आप में काफी बड़ी समस्या है

फैंसी तकियों का इस्तेमाल तो बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए. यह सिर में गर्मी पैदा कर देते हैं और यह कई बार जानलेवा हो सकता है. तो तकिया लगाने से बच्चे की गर्दन की हड्डी  मुड़ने का डर रहता है, क्योंकि गले की हड्डी बहुत नाजुक होती है तो यह एक दूसरी समस्या है जो तकिया लगाने से हो सकती है

तकिया लगाने से बच्चे का सिर पीछे से फ्लैट हो सकता है सिर पर प्रेशर पड़ सकता है तो यह भी एक समस्या  हो सकती हैं. बच्चे को नरम मुलायम बिस्तर पर  सुला दे और तकिया नहीं लगाएं.
इसलिए बच्चे की सुरक्षा के दृष्टिकोण से तकिया नहीं लगाएं.

Post a Comment

Previous Post Next Post

Pregnancy Care items