कैसे पहचाने कि यह प्रेगनेंसी की है या हार्मोनअल डिसबैलेंस है

 प्रश्न था कि मुझे स्पॉटिंग हो रही है, और यह स्पोटिंग मुझे पीरियड डेट से पहले हुई है. तो क्या मैं गर्भवती हो सकती हूं,
एक प्रश्न और आया था कि मुझे हर बार स्पॉटिंग होती है, लेकिन उसके बाद पीरियड आ जाते हैं. मैं गर्भवती नहीं हो पाती हूं. साथ ही साथ मुझे दूसरे लक्षण भी नजर आते हैं. ऐसा क्यों ?
..

यहां हम आपको एक बात स्पष्ट बता दें कि इस स्पॉटिंग तब भी होती है जब आप गर्भवती होने वाली होती है.
 क्योंकि प्रेगनेंसी होने की एक प्रोसेस के दौरान स्पॉटिंग होने की समस्या रहती है, और स्पॉटिंग तब भी होती है, जब आपको पीरियड्स आने वाले होते हैं.

हम आपको इन दोनों में क्या अंतर है. इस बात पर भी चर्चा करेंगे. और साथ ही यह भी बताएंगे कि दोनों अवस्थाओं में स्पॉटिंग कब होती है. और कैसे पहचाने कि यह स्टार्टिंग प्रेगनेंसी से संबंधित है या आपके हार्मोन अल डिसबैलेंस होने के कारण हो रही है.

प्रेगनेंसी के कारण स्पॉटिंग


अगर प्रेगनेंसी होती है, तो स्पॉटिंग की समस्या क्यों आती है.

यह स्पोटिंग किस समय होती है. अगर आपको यह पता चल जाए तो आपकी समस्या काफी हद तक हल हो जाएगी.

 जब प्रेगनेंसी हो जाती है, तो उसके बाद सात से आठ दिन बाद फेलोपियन ट्यूब से भ्रूण गर्भाशय में आ जाता है, और उसके बाद यह गर्भाशय में गर्भाशय की दीवार पर चिपकने की कोशिश करता है.

बल्कि यह जरूरी होता है ताकि सुरक्षित रहें. जब यह गर्भाशय की दीवाल से चिपकता है, तो यह उसको जकड़ लेता है. इस दौरान गर्भाशय की दीवार पर हल्का सा घाव हो जाता है. यह कह सकते हैं, कि यह जब दीवार से चिपकता है, तो उस वक्त दीवार के उस हिस्से से कुछ खून की बूंदें छलक जाती हैं.

25 दिन के बाद आने वाली स्पोटिंग को कैसे पहचाने कि यह प्रेगनेंसी की है या हार्मोनअल डिसबैलेंस है


 यह खून की बूंदे आपको स्पोटिंग के रूप में नजर आ सकती हैं. इस बात का ध्यान रखें यह स्पॉटिंग सिर्फ एक बार ही होती है, और मुश्किल से एक या दो बूंद हल्का सा ब्राउन या गुलाबी रंग का स्पोट आपको नजर आएगा .

यह  स्पॉटिंग आपको लास्ट पीरियड से लगभग 25 दिन के आसपास नजर आती है.
यह स्पॉटिंग प्रेगनेंसी की निशानी होती है.
प्रेगनेंसी की जो स्पॉटिंग होती है वह बिल्कुल एग्जैक्ट 25 दिन पर ही नजर नहीं आएगी मुख्यता हर महिला का मासिक चक्र 28 से 30 दिन का होता है तो यह 25 दिन के आसपास नजर आती है लेकिन जिन महिलाओं का मासिक चक्र 20 दिन के आसपास या 35, 40 दिन का होता है तो यह 25 दिन से पहले और बाद में भी नजर आ सकती है. यह स्पोटिंग महिला के वैल्यूएशन पीरियड पर निर्भर करती है.

हार्मोन अल डिसबैलेंस के कारण स्पॉटिंग


जैसा कि हमने बताया कि हार्मोन अल डिसबैलेंस हो जाने के कारण पीरियड से पहले भी स्पॉटिंग की समस्या नजर आती है, तो इसे कैसे पहचाने कि यह हार्मोन अल डिसबैलेंस के कारण होती है.

 इसका पहचानने का कुछ स्पेशल तरीका नहीं है यह स्पोटिंग आपको लगातार होती रहती है. अर्थात 20 दिन के बाद यह आपको अक्सर नजर आती रहेगी.

 इसमें ब्लड लाल या ब्लैक कलर का हो सकता है. कभी-कभी ब्राउन कलर भी आपको नजर आएगा. जब ब्लडिंग 20 दिन के बाद लगातार रुक-रुक कर होती रहती है, तो स्पष्ट है कि आपको प्रेगनेंसी नहीं है.

 यह हार्मोन अल डिसबैलेंस के कारण आपको स्पोटिंग की समस्या आ रही है. इसके लिए आपको हार्मोन से संबंधित ट्रीटमेंट लेने की आवश्यकता हो सकती है.

तो यह स्पष्ट है कि अगर स्पॉटिंग 25 दिन के आसपास एक बार होती है. हल्की पिंकिया ब्राउन कलर में एक या दो sopt आते हैं. तो यह प्रेगनेंसी के लक्षण के अंतर्गत मानी जाती है.

अगर 20 दिन के बाद लगातार हल्की-हल्की स्पॉटिंग आपको नजर आ रही है. कभी-कभी ब्लैक कलर भी आपको नजर आता है. लाल कलर नजर आता है. तो यह लगातार होने वाली स्पोटिंग आपके हार्मोन अल डिसबैलेंस को दिखाती है.

जल्दी ही आपको पीरियड आ जाएगा तो यह एक छोटा सा अंतर है इस अंतर को देखकर आप पता लगा सकती हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं है और आपके जो भी प्रश्न थे आपको उन प्रश्नों का उत्तर मिल गया होगा.

Post a Comment

Previous Post Next Post

Pregnancy Care items