मेडिटेशन की शुरुआत कैसे करें | Step By Step

TIP : मेडिटेशन एक कला है, लेकिन उस कला को सीखने या विधि को अपनाने से पहले चटाई का होना ज्यादा जरूरी है। यह चटाई आरामदायक होनी चाहिए, मुलायम होनी चाहिए, और गर्मी प्रतिरोधी भी होनी चाहिए। क्योंकि ध्यान करते समय आपका संपर्क ब्रह्मांड की ऊर्जा से होता है, तो यह आपके शरीर से होते हुए पृथ्वी में जाता है। आपको उस ब्रह्मांड की ऊर्जा से कोई लाभ नहीं होता है। ऊर्जा आपके शरीर से होकर गुजरती है, इसके लिए एक तापरोधी चटाई की आवश्यकता होती है। इसके लिए आप कॉटन मैट का इस्तेमाल करें तो अच्छा रहेगा। इसके लिए आप कॉटन योगा मैट भी खरीद सकते हैं।

How to Meditate Step By Step


मेडिटेशन को स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी फायदेमंद माना जाता है, लेकिन कई लोगों में मेडिटेशन को लेकर सवाल उठता है कि मेडिटेशन कैसे करें।

चरण दर चरण ध्यान कैसे करें।

बैठने की प्रक्रिया

सबसे पहले आप वज्रासन, सुखासन या पद्मासन में बैठ जाएं। बैठने की स्थिति में, सुनिश्चित करें कि आपकी रीढ़ सीधी है ताकि आप ठीक से सांस ले सकें। वहीं अगर किसी कारण से आप इन आसनों में नहीं बैठ पा रहे हैं तो आप कुर्सी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

विश्राम अवस्था

 सबसे आप अपने शरीर को ढीला छोड़ कर आराम की मुद्रा में आ जाएं, जिससे सभी मांसपेशियां शिथिल हो जाएं। आप अपने शरीर के एक-एक अंग का ध्यान करें और उन्हें आदेश दें कि वह शिथिल हो जाए शांत हो जाए। इस प्रक्रिया को पैरों से शुरू करें और अपने चेहरे पर लाएं। सुनिश्चित करें कि आपका पूरा शरीर आराम की स्थिति में है।

सांस लेना

अब आपका शरीर पूर्ण रूप से शिथिल अवस्था में आ गया है, जिसके बाद आपको अपनी सांसों पर ध्यान देने की जरूरत है। अपने शरीर को स्वाभाविक रूप से सांस लेने के लिए प्रेरित करें। इसमें गहरी सांस लें और फिर इसी तरह से बाहर निकालें। ध्यान के लाभ प्राप्त करने के लिए इस क्रिया को अपने पूरे मन से कई बार दोहराएं।

Meditation Mat in budget
 

एक बिंदु पर ध्यान दें

तीसरे चरण में अब अपना ध्यान एक बिंदु पर केंद्रित करने का प्रयास करें। इसके लिए आपको अपनी आत्मा या अंतरात्मा पर ध्यान देना चाहिए। इसके लिए आप एक से पांच तक गिनें। इस प्रक्रिया को कई बार दोहराएं। साथ ही आप किसी ऐसी चीज या विचार पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश कर सकते हैं जिससे आपको खुशी का अहसास हो।

सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाएं

अगर आप पहली बार मेडिटेशन कर रहे हैं तो हो सकता है कि आपका मन बार-बार दूसरे विचारों की ओर जाए। इस कारण मन में संतुलन की स्थिति बनाने का प्रयास करना होगा और मन को भटकने नहीं देना चाहिए। अगर किसी कारण से मन भटकता है, तो उसे फिर से एकाग्र करने का प्रयास करें।

भ्रम के जाल से बचना

नींद, खुजली, भावनाओं की भावना, दिवास्वप्न (जागते हुए सपने देखना), बार-बार शुरू होना और कई तरह के विचारों का गुजरना आदि कुछ भ्रम जाल हैं जो ध्यान को तोड़ने का काम करते हैं।

इसलिए, आपको अपने दिमाग को यह समझाने की आवश्यकता होगी कि यह केवल कारक हैं जो आपको विचलित करते हैं, जो ध्यान के रास्ते में बाधा बन सकते हैं। इनसे बचने की कोशिश करें और दिमाग को एकाग्र करें। इन सभी बाधाओं को पार करने के बाद व्यक्ति ध्यान के चरमोत्कर्ष को प्राप्त कर सकता है। यहां तक ​​पहुंचने के लिए नियमित अभ्यास करना पड़ता है।
 

 



ध्यान की प्रक्रिया पूरी होने के बाद अपनी हथेलियों को मलें और आंखों पर लगाएं। इसके बाद धीरे-धीरे अपनी आंखें खोलें और ध्यान से बाहर आएं और अपनी हथेलियों को देखें।

अभी आप जानते हैं कि ध्यान कैसे करना है। अब इसके लिए एक अच्छी क्वालिटी का योगा मैट लें। वैसे आप इसके लिए मोटे कंबल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन अगर कंबल आकार में काफी बड़ा है तो वह है। 

 

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने