प्रेगनेंसी में तोरई – 1 दिन में कितनी तोरई खा सकते हैं

0
434
तोरई

प्रेगनेंसी में तोरई खाने को लेकर कुछ बातों को हम डिस्कशन में लेकर आने वाले हैं. जैसे कि —

तोरई की न्यूट्रिशन वैल्यू क्या होती है, प्रेगनेंसी में तोरई  खाना कितना सुरक्षित,प्रेगनेंसी में तोरई  किन किन बीमारियों में काफी मददगार होती है,  प्रेगनेंसी में तोरई  को अपने भोजन में कैसे शामिल किया जाता है.

तोरई के बारे में एक बात काफी कहीं जाती है कि यह बीमार व्यक्तियों का भोजन है. असल में जब भी किसी व्यक्तियों की तबीयत खराब होती है, तो उसका इम्यून सिस्टम कमजोर माना जाता है, और कमजोर इम्यून सिस्टम में पाचन क्रिया कमजोर हो जाती है, और थोड़ा यह शाकाहारी और बहुत ही ज्यादा आसानी से पचने वाला भोज्य पदार्थ है. इसलिए इसे बीमार व्यक्ति का भोजन कहा जाता है. इससे इस बात का पता चलता है, कि यह कितनी पौष्टिक और आवश्यक भोज्य पदार्थ है.

तोरई एक ऐसा भोज्य पदार्थ है जो सब्जी के रूप में भी प्रयोग में लाया जाता है और जड़ी बूटियों में भी इसका प्रयोग किया जाता है.

तोरई

तुरई की न्यूट्रिशन वैल्यू

तुरई के अंदर आपको विटामिन बी सिक्स, फाइबर, मैग्नीज, कॉपर, पोटेशियम, फोलेट, विटामिन के विटामिन सी, विटामिन ए और प्रोटीन उचित मात्रा में प्राप्त होगा, और इसके अंदर कैलोरी नहीं होती है. इसलिए यह मोटापे को कम करने के लिए भी उत्तम माना जाता है .

प्रेगनेंसी में तोरई खाना कितना सुरक्षित

प्रेगनेंसी में तोरई खाना काफी ज्यादा सुरक्षित माना जाता है जैसे कि हमने कहा कि है बीमार व्यक्ति का भोजन माना जाता है. लेकिन कई बार क्या होता है, कि तोरई को ऐसे स्थान पर बोया जाता है, जहां पर गंदगी होती है.

नदी किनारे यहां पर केमिकल वाला पानी बहता है, ऐसे स्थानों पर अगर आप कोई भी सब्जी या फल की खेती करते हैं, तो उनके अंदर उनका खतरनाक असर आ जाता है, और इसका प्रयोग असुरक्षित हो जाता है. साथ ही साथ कुछ कारणों की वजह से कभी कभी तुरई कड़वी निकल आती है, तो यह तुरई भी नुकसानदायक मानी जाती है. अन्यथा साफ स्थान पर और जैविक विधि से तैयार की गई तुरई अत्यधिक लाभदायक और पौष्टिक होती है.

मल्टीविटामिन(s)

4.3

शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है उसकी पूर्ति के लिए आप मल्टीविटामिंस का प्रयोग कर सकते हैं. यह महिलाओं की ऊर्जा फ्लैक्सिबिलिटी और मजबूती को वापस लाएगा.

  • Your brand choice
  • Your product in your budget
  • Customer reviews
  • Ayurvedic products
  • Must Know About Multivitamins
  • Refund policy on health products is less
Check Current Price

किन बीमारियों में तोरई खाना लाभदायक

तोरई एक छारीय और अत्यधिक सुपाच्य वेजिटेबल्स के अंदर आती है. इसलिए यह है सभी प्रकार की बीमारियों में व्यक्ति को ताकत देने की क्षमता रखती है, लेकिन कुछ विशेष प्रकार की समस्याएं हैं, जहां पर यह जड़ी बूटी वाला लाभ भी देती है जैसे कि —

  • अगर आपकी आंखें कमजोर है तो यह फायदेमंद है.
  • सामान्य जुखाम में तोरई का प्रयोग अपने भोजन में करना लाभदायक होता है.
  • अगर शरीर में कहीं सूजन है तो यह फायदेमंद है.
  • बुखार की समस्या में भी तोरी लेना फायदेमंद रहता है.
  • साइनस की समस्या में तुरई खाना लाभदायक रहता है.
  • अगर व्यक्ति के सीने में दर्द की समस्या है तो आप तुरई का प्रयोग अपने भोजन में कर सकते हैं.
  • अगर किसी व्यक्ति को अस्थमा की शिकायत है तो तुरई भोजन में लेना फायदेमंद है.
  • सिर दर्द की समस्या में भी यह काफी लाभदायक है.
  • कब्ज होने पर तोरई एक रामबाण की तरह कार्य करती है.
  • पीलिया में भी तुरई का भोजन के माध्यम से प्रयोग करना लाभदायक होता है.
  • महिलाओं में मासिक धर्म के विकार में भी यह काफी लाभदायक है.

1 दिन में कितनी तोरई खा सकते हैं

अगर व्यक्ति एक दिन में एक छोटा कटोरी भर कर तोरई की सब्जी अपने भोजन में प्रयोग करता है, तो यह काफी रहती है. इससे थोड़ा अधिक भी ले सकता है कोई समस्या नहीं.

लेकिन दवाई के रूप में तोरई की खुराक हर व्यक्ति के लिए अलग अलग हो सकती है. यह आपकी उम्र, लिंग, स्वास्थ्य और काफी सारे दूसरे कारणों पर निर्भर करती है, इसके लिए आप की खुराक का पता आपके डॉक्टर को ही होगा.
यह आपके स्वास्थ्य और मेडिकल हिस्ट्री के अध्ययन करने के बाद ही पता चलेगा.

प्रेगनेंसी में तोरई

तोरई किन-किन रूपों में उपलब्ध होती है?

तोरई निम्नलिखित रूपों में आपको मार्केट या अपने आसपास मिल सकती है। जैसे-

  • कच्ची सब्जी के रूप में
  • औषधि के रूप में
  • पाउडर के रूप में

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें