Header Ads

गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय - गाय का दूध | Putra Prapti ka Ayurvedic Tarika

नमस्कार दोस्तों गाय के दूध से पुत्र प्राप्ति का तरीका.
दोस्तों वैसे तो पुत्र और पुत्री में कोई भी अंतर नहीं होता है माना जाता है कि पुत्र बुढ़ापे में जाकर सहारा बनता है लेकिन आजकल तो यह देखने में आ रहा है कि एक बार को पुत्री तो सहारा बन जाती है लेकिन पुत्र सहारा बनने में कभी-कभी असमर्थ हो जाता है क्योंकि उसे अपनी रोजी-रोटी कमाने के लिए बाहर रहना पड़ता है और ऐसे में अधिकतर पुत्री ही मां-बाप का सहारा होती है,
putra prapti ka upay

पुत्र पुत्री दोनों ही समान है जिन दंपत्ति के घर में पुत्रियां हैं उनकी इच्छा होती है कि उनके भी एक पुत्र हो तो उनके लिए हम यह POST बना रहे हैं.
इन्हें भी पढ़ें : शिवलिंगी से पुत्र प्राप्ति का यह उपाय अचूक मन जाता है - बाँझ महिला को भी पुत्र होता है
इन्हें भी पढ़ें : आयुर्वेदिक नुस्खे से पुत्र प्राप्ति - शिवलिंगी के बीज और पुत्रजीवक बीज

इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि

दोस्तो हमारे आयुर्वेद में कहा गया है कि अगर आप संतान प्राप्ति की के विषय में सोच रहे हैं तो आपको कम से कम कुछ महीने पहले से ही इसकी तैयारी शुरू कर देनी चाहिए जिससे कि आपकी आने वाली संतान जिस से आने वाली संतान स्वस्थ हो गुणवान हो.

अगर आप के यहां पुत्री संतान पहले से ही है और एक पुत्र प्राप्त करना चाह रहे हैं तो आप यह उपाय कर सकते हैं इसके लिए भी आपको कुछ महीने पहले से ही तैयारी शुरू करनी होगी.

ladka pata karne ka tarika

यह उपाय महिलाओं के लिए है यह बहुत ही साधारण सा उपाय है इसमें आपको कुछ नहीं करना है बस आप को गाय का दूध पीना बस थोड़ी सी जो सावधानी हम बता रहे हैं वह रखिए.

दंपत्ति जब बच्चा चाहे तो महिलाओं को उससे लगभग 3 माह पहले से गाय का दूध पीना शुरू करना है, इसमें कुछ सावधानियां रखनी है जैसे कि --

इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति के लिए सूर्य देव के 2 उपाय
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति के 3 बलशाली टोटके
इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि


आपको जिस भी गाय का दूध पीना है वह गाय देसी गाय होनी चाहिए.

आपने जिस गाय का दूध पीना है उस गाय ने बछड़ा जन्म दिया हो अर्थात पुत्र जन्म दिया आपको उसी गाय का दूध पीना है.

आपको गाय का दूध कम से कम प्रेगनेंसी के 3 महीने बाद तक तो पीना ही है अर्थात 3 महीने
की प्रेगनेंसी तक आप को दूध पीना है, अगर आगे भी आप को दूध अवेलेबल होता है तो आप पीना ना छोड़े, संभव हो तो 9 महीने तक ही पिए.
ऐसा करने से निश्चित ही आपको संतान के रूप में पुत्र की प्राप्ति होगी.

beta, ladka, putra, paida kerna, pregnancy, tips, care, ayuriedic upay

महिला जिस दिन से दूध पीना शुरू करें उस दिन से आपको मांस मदिरा नॉनवेज इत्यादि का सेवन बिलकुल भी नहीं करना है संभव हो सके तो पूरी प्रेगनेंसी इसके सेवन से बचें. महिला को चटपटा तीखा और खट्टा खाने से भी बचना है.

इन्हें भी पढ़ें : क्या माया कैलेंडर के अनुसार के जेंडर प्रेडिक्शन कर सकते हैं
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र रत्न प्राप्ति के लिए तीन आयुर्वेदिक उपाय उपाय #2


लगभग 3 महीने पहले से ही पुरुष को भी अपने भोजन में ऐसी चीजें शामिल करनी है जो पुरुष के स्पर्म को स्ट्रांग बनाती हैं ताकत देती हैं उनके संख्या को बढ़ाती है.

पुरुषों को भी अपने भोजन में तीखा खट्टा चटपटा मांस मदिरा नॉनवेज इत्यादि का सेवन बिलकुल भी नहीं करना है पुरुषों को अपने भोजन में इस दौरान दूध और दूध से बनी चीजें जैसे कि पनीर, मक्खन, घी, मावा आदि से बने भोज्य पदार्थ थोड़ा अधिक मात्रा में ग्रहण करने चाहिए और साथ ही साथ योगा में भी अपना समय व्यतीत करना चाहिए.
-----



No comments

Powered by Blogger.