गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका - Putra Prapti ka Vaigyaanik Tarika

नमस्कार दोस्तों आज आपके सामने गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका आपको बताने जा रहे हैं.  यह पुत्र प्राप्ति के लिए घरेलू उपाय के रूप में भी प्रसिद्ध है. अगर आप इस तरीके से संतान प्राप्ति की कोशिश करेंगे तो आपको अवश्य ही पुत्र की प्राप्ति हो जाएगी.
 
दोस्तो विज्ञान में कभी भी कोई भी चीज 100% नहीं मानी जाती है. इस वजह से हम भी कह रहे हैं कि 99% आपको पुत्र प्राप्त होगा,
जिस भी दंपत्ति की पहले से एक या दो पुत्री है और वह पुत्र चाह रहे हैं तुम्हें इस उपाय को अपना सकते हैं .
 
इन्हें भी पढ़ें  : पुत्र प्राप्ति का आयुर्वेदिक नुस्खा (नींबू + दूध + देसी घी)
इन्हें भी पढ़ें  : प्राचीन ऋषियों द्वारा पुत्री प्राप्ति के दिए गए पांच सूत्र


पुत्र प्राप्ति की वैज्ञानिक विधि

दोस्तों आप सभी एक्स क्रोमोसोम और वाई क्रोमोसोम की थ्योरी को जानते ही होंगे, लेकिन जो दर्शक नहीं जानते उन्हें थोड़ा सा समझा देते हैं क्योंकि इसी पर आगे हमारा लॉजिक आधारित है.

पुरुष में दो प्रकार के क्रोमोसोम होते हैं एक X और एक Y, और महिला के शरीर में केवल X क्रोमोसोम की होता है,


इन्हें भी पढ़ें : 3 फलों की औषधि से पुत्र प्राप्ति का नुस्खा - इसे खाने से पुत्र की प्राप्ति हो जाती है
इन्हें भी पढ़ें : ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है - शिवलिंगी के बीज
 इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि
इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका
इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय - गाय का दूध


महिला का X क्रोमोसोम + पुरुष के X क्रोमोसोम = लड़की (XX)
महिला का X क्रोमोसोम + पुरुष के Y क्रोमोसोम = लड़की (XY)

बस हमें यही कोशिश करनी है कि किसी तरह से पुरुष का Y क्रोमोसोम महिला के X क्रोमोसोम तक पहले पहुंचे. इस कार्य के लिए जो भी उत्तम से उत्तम माहौल हमें बनाना है ताकि पुत्र प्राप्त हो सके.

ladka paida ho, beta paida kerne ka tarika

इसके लिए दो चीजों की आवश्यकता है,
Y क्रोमोसोम की अधिकता होनी चाहिए,
दूसरा X और Y क्रोमोसोम का नेचर हमें पता होना चाहिए.

वाई क्रोमोसोम में वृद्धि के लिए उसको एक तो टाइट कपड़े नहीं पहने हैं दूसरा तीखा और खट्टा खाना छोड़ना पड़ेगा 6 महीने पहले से ही तीसरा दूध और दूध से बनी चीजों का सेवन अधिक करना होगा जैसे कि दही मट्ठा घी पनीर और दूसरी चीजें

इन्हें भी पढ़ें  : क्या प्रेगनेंसी में मूंगफली खा सकते हैं जानिए
इन्हें भी पढ़ें  : क्या गर्भावस्था के दौरान चाट, गोलगप्पे और स्ट्रीट फूड खाना सुरक्षित है

पुरुषों के एक्स वाई क्रोमोसोम में एक्स क्रोमोसोम अधिक शक्तिशाली होता है लेकिन वहां गति में हल्का होता है उसकी चाल धीरे होती है वहीं वाई क्रोमोसोम कमजोर होता है विषम परिस्थितियों में कम समय तक जीवित रह पाता है लेकिन उसकी गति तेज होती है.

putra, beta, ladka, garbh, paida

संतान प्राप्ति के लिए प्रयास करते समय सबसे पहले इस बात का ध्यान रखना चाहिए की महिला का ओवुलेशन पीरियड शुरू हो चुका हूं ओवुलेशन पीरियड मतलब महिला के गर्भ में अंडे निषेचन के लिए उपस्थित होने चाहिए ताकि गर्भ ठहर सकें.

इन्हें भी पढ़ें  : प्रेगनेंसी के समय अक्सर होने वाले कमर दर्द से ऐसे पाएं छुटकारा
इन्हें भी पढ़ें  : महिलाओं में बांझपन के क्या कारण होते हैं - शारीरिक कारण

अगर ओवुलेशन पीरियड से पहले संबंध बनते हैं तो X और Y क्रोमोसोम को अंडाणु का इंतजार करना होगा ऐसी अवस्था में Y क्रोमोसोम अधिक समय तक जीवित नहीं रहता है क्योंकि महिला के शरीर में विषम परिस्थितियां होती है X क्रोमोसोम अधिक समय तक जीवित रह कर पुत्री प्राप्ति का कारण बनता है.
इसलिए ओवुलेशन पीरियड होना चाहिए यह पहली कंडीशन है.

संतान की प्राप्ति के लिए प्रयास करते समय पुरुष को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि महिला पुरुष से पहले चरमोत्कर्ष पर पहले पहुंचे. इसके कई लाभ है. ज्यादा टेक्निकल बात ना करते रहे हम आपको साधारण भाषा में समझाने की कोशिश करते हैं.
 
महिला के चरमोत्कर्ष पर पहुंचने के बाद गर्भाशय का मुंह खुल जाता है, और गर्भाशय तक पहुंचने का रास्ता लिक्विड से भरा होने की वजह से शुक्राणु एक्स और वाई क्रोमोसोम आसानी के साथ गर्भाशय तक पहुंच सकते हैं Y क्रोमोसोम गति में अधिक तेज होता है. इसलिए वह पहले पहुंचकर पुत्र प्राप्ति का कारण बनता है.
 
कोई भी घरेलू या बाजार में पुत्र प्राप्ति की दवा के नाम पर जो भी औषधियां मिलती है. वह वाई क्रोमोसोम को मजबूत बनाने का कार्य करती है, और महिला के शरीर में पुरुष हार्मोन क्रोमोसोम के लिए इन्वायरमेंट को फेवरेबल बनाने के लिए उपयोग में लाई जाती हैं. यह सब संभावना को बढ़ाने का कार्य करती हैं. कोई भी पुत्र प्राप्ति की दवा यह दावा नहीं कर सकती कि पुत्र प्राप्त होगा ही.
वास्तविकता देखी जाए तो कोई भी दवा पुत्र प्राप्ति की दवा नहीं होती है.

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने