21 हफ्ते की प्रेगनेंसी | शारीरिक परिवर्तन और शिशु का विकास

 हम आपसे प्रेगनेंसी के 21वें हफ्ते को लेकर चर्चा करने जा रहे हैं. हम बात करेंगे --
21 हफ्ते में शिशु का विकास कितना हो जाता है, उसकी लंबाई चौड़ाई और वजन कितना होता है, और दूसरे कौन-कौन से परिवर्तन शिशु में होते हैं.गर्भवती महिलाओं में होने वाले परिवर्तन और
किन बातों का ध्यान रखें., इन सब बातों पर चर्चा करेंगे ---

21 हफ्ते में शिशु का विकास

  • प्रेगनेंसी के 21 हफ्ते में शिशु का विकास बहुत तेज गति से हो रहा है. अब तक शिशु का वजन 360 ग्राम के आसपास हो गया है. उसकी लंबाई सिर से लेकर नितंब तक 10.4 इंच या 26 से 27 सेंटीमीटर के आसपास है.


  • शिशु का आकार अब केले के समान हो गया है. हालांकि उससे आकार में काफी बड़ा है. उसके शरीर का झुकाव से धीरे समाप्त होता जा रहा है.


  • अब तक शिशु की स्किन आ गई है, लेकिन यह स्क्रीन पारदर्शी गुलाबी रंग की है. इसके आर पार शिशु के अंग बड़ी आसानी से दिखाई पड़ते हैं.


  • पिछले हफ्तों में शिशु की भौंहे बन गई थी, अब वह भौंहे अधिक स्पष्ट नजर आने लगी हैं. उनका विकास हो रहा है. शिशु के चेहरे पर सभी अंगो का आकार अब थोड़ा और स्पष्ट नजर आने लगा है अर्थात शिशु का चेहरा और इंसानों जैसा लगने लगा है.

  • शिशु एमनियोटिक द्रव को पीता है, और उसे मल के रूप में त्याग देता है. जिसे हम मेकोनियम कहते हैं.


  • आपके शिशु के मसूड़ों में स्थाई दातों के लिए नन्हे दातों की कलियों का निर्माण अब शुरु हो चुका होता है.


  • अब आपका बच्चा नियमित अंतराल पर होता और जागता है, इसलिए आपको कभी कभी उसके हलचल में कोई पैटर्न नजर आ सकता है.

21 हफ्ते की प्रेगनेंसी

शारीरिक परिवर्तन लक्षण और सुझाव


  • गर्भावस्था के 21वें सप्ताह में ब्रेस्ट में से दूध का स्राव हो सकता है. इसे कोलोस्ट्रम के नाम से जाना जाता है. इस समय आपको पेट में मरोड़ भी उठ सकती है.


  • लगातार शिशु का विकास तेज गति से हो रहा है. ऐसे में आपको नींद आने में समस्या का सामना करना पड़ता है. मुख्यतः यह समस्या आपको आपके शरीर का बैडोल हो जाना, इस वजह से महसूस हो सकती है. क्योंकि आप सही तरीके से सो पाने में कठिनाई महसूस कर रही हैं.


  • शरीर बेडौल हो जाने के कारण आपके शरीर का गुरुत्वाकर्षण केंद्र बदल चुका है. ऐसे में आपको कई बार ऐसा भी महसूस हो सकता है, कि अरे आप गिरते-गिरते बचे. इसलिए आपको चलने उठने और बैठने में काफी ध्यान रखने की आवश्यकता है.




  • वैसे तो महिलाओं को गिरने से हर हाल में बचना चाहिए, लेकिन कभी गलती से हल्के-फुल्के तरीके से आप गिर भी गए तो चिंता की बात नहीं होनी चाहिए, क्योंकि आपका शिशु एमनियोटिक द्रव थैली में सुरक्षित रहता है.


  • अब आपको स्ट्रेच मार्क्स पेट, जांघ और ब्रेस्ट पर नजर आ सकते हैं. यह मुख्यतः आपके त्वचा में आई खिंचाव के कारण होता है. कुछ महिलाओं को इस वक्त अपने त्वचा चमकदार नजर आ सकती है. जिसे ग्लो कहते हैं.


  • आपको इस हफ्ते से या इस हफ्ते के बाद से नकली लेबर पेन होने की समस्या शुरू हो सकती है. यह जरूरी नहीं है कि आपको अभी से शुरु हो जाए एक महीने बाद भी हो सकती है. लेकिन आपको जब भी इस प्रकार की समस्या लगे तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से इस संबंध में बात करनी है, और आपको इन्हें पहचान ना आना चाहिए. क्योंकि यह हर महिलाओं के लिए अलग अलग हो सकते हैं, उनको महसूस करना अलग प्रकार का हो सकता है.


  • यदि आपकी चाल-ढाल में बदलाव हो, या आपका शरीर ढीला-ढाला, बेड़ौल सा महसूस करें और साथ में अन्य लक्षण भी हों, जैसे कि दर्द, धुंधला दिखना या हाथों व पैरों में सूजन तो आपको अपनी डॉक्टर को दिखाना चाहिए.


  • यदि आपकी चाल-ढाल में बदलाव हो, या आपका शरीर ढीला-ढाला, बेड़ौल सा महसूस करें और साथ में अन्य लक्षण भी हों, जैसे कि दर्द, धुंधला दिखना या हाथों व पैरों में सूजन तो आपको अपनी डॉक्टर को दिखाना चाहिए.


  • अब महिलाओं का वजन काफी बढ़ चुका है महिलाओं को 300 कैलोरी रोजाना अतिरिक्त ऊर्जा की आवश्यकता होती है इसके लिए महिलाओं को अपने भोजन में इसका समायोजन करना चाहिए.


1 Comments

  1. कुछ लोग कहते है कि उनके 28 हफ्ते में रात मारता है क्या यह सच है

    ReplyDelete
Previous Post Next Post