शिवलिंगी बीज से पुत्र प्राप्ति का उपाय – शिवलिंगी के बीज कब खाना चाहिए

0
7958

दोस्तों शिवलिंगी बीज से पुत्र प्राप्ति का आयुर्वेदिक महत्व तथा इसे लेने का धार्मिक महत्व दोनों ही हैं. धार्मिक महत्व से मतलब है.

अगर हम शिवलिंगी के बीजों को पुत्र प्राप्ति के लिए विधि विधान से लेते हैं, तो इसका फल अवश्य ही फलीभूत होता है. सबसे पहला सवाल यही है, शिवलिंगी के बीज कब खाना चाहिए,और कैसे खाना चाहिए.अगर आप शिवलिंगी के बीजों को पुत्र प्राप्ति के लिए प्रयोग करना चाह रहे हो, तो आपको कुछ सावधानियों का ध्यान रखना होगा. कुछ नियमों का पालन करना होगा. तभी आप इसके संपूर्ण फल की प्राप्ति अपनी इच्छा अनुसार कर पाएंगे.

 
shivlingi beej, shivlingi beej for baby boy
 

शिवलिंगी के बीजों में कुछ इस प्रकार के औषधीय गुण होते हैं, जोकि महिलाओं में पुत्र प्राप्ति के लिए जिम्मेदार तत्व को बढ़ाती है. उनको एक्टिव करती है, तथा पुत्री के लिए जिम्मेदार तत्वों में उदासीनता आती है.

साथ ही साथ शिवलिंगी के बीज महिला के शरीर में हार्मोन को बैलेंस करते हैं, तथा पीरियड्स में आई अनियमितता को भी ठीक करते हैं. इसलिए पुत्र प्राप्ति के लिए शिवलिंग के बीज का प्रयोग किया जाता है.

इन्हें भी पढ़ें : घर पर साबुन से प्रेगनेंसी कैसे चेक करें

इन्हें भी पढ़ें : प्रेग्नेंट हो जाने के बाद नारियल द्वारा पुत्र प्राप्ति का तरीका

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी होने के बाद पुत्र प्राप्ति की आयुर्वेदिक औषधि

इन्हें भी पढ़ें : साइंस और धर्म विज्ञान दोनों के अनुसार पुत्र प्राप्ति का सटीक उपाय

इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति के लिए फेमस आयुर्वेदिक औषधि – बांझपन भी दूर होता है

शिवलिंगी बीज से पुत्र प्राप्ति के उपाय में सावधानियां

आप अगर पुत्र प्राप्ति के लिएशिवलिंगी के बीजों का प्रयोग कर रहे हैं, तो इन सावधानियों को जरूर रखें.

  • यह नुस्खा महिलाओं के लिए है.
  • अगर आप शिवलिंगी के बीजों का प्रयोग कर रहे हैं, तो आपको मांस मदिरा बीड़ी गुटके का त्याग करना होगा.
  • शिवलिंगी औषधि का प्रयोग करने से पहले ही आपको तला, भुना, मीट, मसालेदार, नॉनवेज इत्यादि खाना बिल्कुल छोड़ना होगा.
  • इसके पीछे कारण यह है कि आपका जो शरीर है उसका पाचन तंत्र अत्यंत दुरुस्त होना चाहिए. ताकि शिवलिंगी के बीज आसानी से आपके शरीर में डाइजेस्ट हो सके.
  • शिवलिंगी के बीज 3 महीने तक खाने हैं, तो इस दौरान आपको संयमित जीवन जीना है. केवल निश्चित समय पर ही पुत्र प्राप्ति के लिए प्रयास करना है, अन्यथा पति पत्नी को ब्रह्मचर्य का पालन ही करना है.
shivlingi beej how to use

शिवलिंगी बीज से पुत्र प्राप्ति का उपाय पुरुषों के लिए भोजन में सावधानी

जब से महिला शिवलिंगी औषधि का प्रयोग करें, और मसालेदार चटपटा नॉनवेज खाना छोड़ें, तभी से पुरुष को भी यही सब खाना छोड़ना होगा.अपने भोजन में दूध और दूध से बनी चीजें जैसे कि पनीर मक्खन दूध दही इत्यादि का प्रयोग अधिक करना होगा. साथ ही साथ रोजाना योगाभ्यास भी करना होगा. जिससे पुत्र प्राप्ति के लिए जिम्मेदार Y क्रोमोसोम अधिक बने और पुरुष की स्तंभन शक्ति की मजबूत हो. 

मल्टीविटामिन(s)

4.3

शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है उसकी पूर्ति के लिए आप मल्टीविटामिंस का प्रयोग कर सकते हैं. यह महिलाओं की ऊर्जा फ्लैक्सिबिलिटी और मजबूती को वापस लाएगा.

  • Your brand choice
  • Your product in your budget
  • Customer reviews
  • Ayurvedic products
  • Must Know About Multivitamins
  • Refund policy on health products is less
Check Current Price

FEATURED

30+नेचुरल स्पर्म बूस्टर
(टेस्टोस्टरॉन)

  • आयुर्वेदिक
  • जड़ी बूटियों से निर्मित
  • ब्रांडेड
  • कस्टमर रिव्यूज
  • बजट में (नो एक्स्ट्रा कॉस्ट)

कौन से शिवलिंगी के बीज सर्वोत्तम होते हैं

दोस्तों इस के अलावा और भी कुछ सावधानियां रखनी है. लेकिन उनका वर्णन हम अंत में करेंगे. तभी वह अच्छे से समझ में आएगी उससे पहले हम औषधि तैयार कैसे करते हैं, और उसे कैसे लेना है. इस बात पर चर्चा करते हैं.

आपको 100 ग्राम शिवलिंगी के बीजों की आवश्यकता होगी. यदि यह पौधा आप जानते हैं, आप के आस पास ही है तो आप वहां से प्राप्त कर लीजिए. अन्यथा आप को यह किसी भी जड़ी बूटी विक्रेता या पंसारी के यहां पर बड़ी आसानी से मिल जाएंगे.

शिवलिंगी के बीज ज्यादा पुरानी नहीं होने चाहिए. और उन्हें कीड़ा भी ना लगा हो, इस बात का भी ध्यान रखें.

पुत्र प्राप्ति का नुस्खा

अब आप शिवलिंगी के बीजों पीस लीजिए. यह भी जितने महीन पीसगे उतना ही अच्छा है. उतनी ही आसानी से शरीर में पस जाएंगे पच जाएंगे.

लीजिए आप की औषधि तैयार है. अब आप इन 100 पिसे पाउडर को 30 बराबर बराबर भागों में बांटकर 30 पुड़िया बना ले.

shivlingi beej ka prayog kaise kare

शिवलिंगी बीज औषधि कैसे खाएं

अब आप रोज सुबह सभी दैनिक कार्यों से निवृत्त होने के बाद सूरज निकलने से पहले एक गिलास दूध से इस एक पुड़िया को 30 दिन लगातार खाएं. 30 दिन पूर्ण होने के बाद अगले 30 दिन के लिए आप औषधि तैयार कर ले.

इन्हें भी पढ़ें : मनचाही संतान प्राप्ति का प्राचीन तरीका – part #3

इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति का ये वैज्ञानिक तरीका एक बार जरूर अपनाये – Putra Prapti Part #2

इन्हें भी पढ़ें : इसे खाने से बांझ को भी पुत्र पैदा होता है – Putra Prapti Part #1

इन्हें भी पढ़ें : घर पर टूथपेस्ट से प्रेगनेंसी कैसे चेक करें

पुत्र प्राप्ति के उपाय में दंपत्ति के लिए आवश्यक सावधानियां

इन 30 दिनों आपको ब्रह्मचर्य का पालन करना है

इन 30 दिनों के बाद जब भी महिला की महावारी समाप्त होती है. उसके 5 दिन बाद से आपको पुत्र प्राप्ति के लिए प्रयास करना है, अगले 1 हफ्ते तक.

हमारा कहने का मतलब यह है, कि आपको ओवुलेशन पीरियड में संतान प्राप्ति के लिए कोशिश करनी है, और पुरुष का स्तंभन महिला के स्तंभन से ज्यादा स्ट्रांग होना चाहिए. अर्थात महिला पहले चरमोत्कर्ष पर पहुंचे तो और भी अच्छा है.

shivlingi beej ka upyog kaise kare

 

अगर महिला प्रेग्नेंट हो जाती है, तो भी आप यह शिवलिंगी के बीज की औषधि 3 माह तक अवश्य ही खाएं.
अगर प्रथम महा के बाद प्रयास करने पर महिला गर्भवती नहीं होती है, तो आप आगे इसी प्रकार से अगले महीने प्रयास करें. बाकी समय आपको ब्रह्मचर्य का पालन करना है, और पुरुष की जीवन चर्या जैसी बताई है वैसी ही रखी है खाने पीने का विशेष ध्यान रखना है.

कुछ बातों का ध्यान रखना है जैसे कि हमने बताया था बाद में बताएंगे.

महिला ने जैसे प्रथम महा में औषधि ग्रहण की है या करनी है उसी तरह से 3 माह तक इसी नियम का पालन करते हुए औषधि ग्रहण करने करनी है.

शिवलिंगी और पुत्रजीवक बीज – Current Price

पुत्र प्राप्ति की औषधि लेने में सावधानियां

औषधि सुबह सुबह गाय के दूध से सूरज निकलने से पहले लेनी है. यह सोते उठे ही यह औषधि नहीं लेनी है. सभी दैनिक कार्यों से निवृत्त होने के बाद टॉयलेट, बाथरूम जाने के बाद नहाने के बाद और भगवान शिव का स्मरण करने के बाद सूरज निकलने से पहले यह औषधि दूध के साथ लेनी है.

ladka hone ka upay, pregnancy, female,women

 

इस औषधि को लेने के बाद आपको 1 घंटे के बाद चाहे तो पानी पी सकती है. कम से कम दो ढाई घंटे के बाद ही कुछ खाएं ताकि है, औषधि अच्छे से आपके शरीर में पच सके अपना असर दिखा सके.

शिवलिंगी के बीजों को गर्भवती महिला के लिए भी काफी सुरक्षित माना जाता है. अगर आप इसी बीच गर्भवती हो जाती है. आप एक बार किसी अच्छे आयुर्वेदाचार्य से सभी बातें बताकर ही आगे इस औषधि का प्रयोग करें.

इन्हें भी पढ़ें : पुपुत्र प्राप्ति का यह वैज्ञानिक तरीका 99% पुत्र देगा

इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति के 3 बलशाली टोटके

इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति के लिए सूर्य देव के 2 उपाय

इन्हें भी पढ़ें : ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है – शिवलिंगी के बीज

इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय – गाय का दूध

पुत्र प्राप्ति के लिए कुछ दूसरी जरूरी बातें हैं

एक और इंपॉर्टेंट बात आपको गाय का दूध उस गाय का लेना है. जिस गाय ने बछड़े को जन्म दिया हो, और बछड़ा जीवित भी हो.

हो सके तो उस गाय और बछड़े को गुड़ रोटी भी खिलाएं.  अगर आप हिंदू शास्त्रों की माने तो बछड़े वाली गाय का दूध अगर आप प्रेगनेंसी से 3 माह पूर्व से पी रही है, तो भी यह अपने आप में पुत्र प्राप्ति की अचूक दवा माना जाता है.

shivlingi beej ka upyog kaise kare

 

और अंत में हम आपको बता दें, अगर आप इस प्रयोग को कर रहे हैं. तो किसी और को ना बताएं केवल पति पत्नी को पता हो बस, हो सकता है यह बात ऐसे व्यक्ति को पता चल जाए जो आप के यहां पुत्र प्राप्ति हो यह नहीं चाहता है, तो ऐसे में उसकी जो इच्छा है कि आप के यहां पुत्र ना हो उसकी जो एनर्जी है वह आपके कार्य में बाधा उत्पन्न कर सकती है.

सीधी भाषा में बोले तो बद्दुआ दे सकता है. और बद्दुआ की एनर्जी आपकी इच्छा, पुत्र प्राप्ति की इच्छा को कमजोर बना सकती है.

 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें