प्रेगनेंसी में नाशपाती खाने के लाभ

0
478

प्रेगनेंसी में नाशपाती खाने के लाभ, इस विषय पर बात करने वाले हैं. प्रेगनेंसी में नाशपाती को लेकर दूसरी आवश्यक बातों पर भी चर्चा करेंगे.

दोस्तों बरसात के मौसम में नाशपाती एक काफी पौष्टिक फल माना जाता है, लेकिन प्रेगनेंसी के नजरिए से क्या यह खाना सही होता है. इस पर आज बात करेंगे. हमारे आज के टॉपिक है.

क्या एक गर्भवती स्त्री नाशपाती खा सकती है. नाशपाती खाने से महिला को किस प्रकार के लाभ हो सकते हैं. नाशपाती में कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं. नाशपाती को कैसे खरीदें कैसे रखें. नाशपाती से किस प्रकार के नुकसान हो सकते हैं. नाशपाती की कैसे खानी चाहिए.

क्या एक गर्भवती स्त्री नाशपाती खा सकती है

दोस्तों जहां तक प्रेगनेंसी के दौरान नाशपाती खाने की बात है तो गर्भवती स्त्री के लिए नाशपाती खाना फायदेमंद होता है प्रेगनेंसी के दौरान महिला अपनी सेहत के अनुसार और अपने भोजन की कैपेसिटी के अनुसार 1 से लेकर 2 नाशपाती दिन में खा सकती है अगर महिला को नाशपाती काफी ज्यादा पसंद है तो वह तीन नाशपाती भी 1 दिन में ले सकती है.

प्रेगनेंसी में नाशपाती खाने के लाभ

नाशपाती के पोषक तत्व

नाशपाती पोषक तत्व के नजरिए से काफी महत्वपूर्ण फल होता है इसके अंदर आपको काफी सारी एनर्जी मिलेगी विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन बी सिक्स, फोलिक एसिड साथ ही साथ इसके अंदर आपको काफी सारे मिनरल्स जैसे कि पोटेशियम, कॉपर, मैग्नीशियम इत्यादि प्राप्त होते हैं इसके अंदर फाइबर भी पाया जाता है.

नाशपाती को भोजन में कैसे शामिल करें

  • नाशपाती को अपने भोजन में कई प्रकार से शामिल किया जा सकता है.
  • यह एक फल है तो आप हल्का काला नमक डालकर नाशपाती को ऐसे ही खा सकती हैं.
  • नाशपाती को फ्रूट चार्ट में डालकर भी इसका प्रयोग किया जा सकता है.
  • नाशपाती का प्रयोग सलाद के रूप में भी करना सही रहता है.
  • नाशपाती का जूस निकाल कर भी पिया जा सकता है.
  • नाशपाती को पका कर भी के भी इसका प्रयोग कर सकते हैं. एक ओवन के अंदर शहद, दालचीनी, नट्स और ब्राउन शुगर के साथ ऐसे पकाया जा सकता है. पकाने का तरीका आपका अपना घरेलू तरीका भी हो सकता है आप किस तरह से से पका कर खा सकते हैं उसकी रेसिपी भी अलग हो सकती है.

कुछ सावधानियां

  • नाशपाती को अच्छी तरह से धोकर ही अपने भोजन में प्रयोग में लाना चाहिए.
  • अगर आप नाशपाती खरीदने बाजार जा रहे हैं तो उस पर कोई दाग या धब्बा नहीं होना चाहिए.
  •  उसकी खुशबू पर भी ध्यान दें. नाशपाती पुरानी नहीं होनी चाहिए, ताजी नजर आनी चाहिए.
  •  नाशपाती को फ्रिज के अंदर भी रखा जा सकता है अगर आप उसे पेपर में लपेट कर रखते हैं तो ज्यादा अच्छा है क्योंकि यह दूसरे तेज गंध वाले खाद्य पदार्थों की गंध को सोख लेती है.

 

प्रेगनेंसी में नाशपाती खाने के लाभ

  • नाशपाती खाने से शरीर को अधिक ऊर्जा की प्राप्ति नहीं होती है इसलिए प्रेगनेंसी में मोटापे का शिकार महिलाओं को यह काफी फायदेमंद रहता है.
  • नाशपाती में अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है इस वजह से कब्ज की समस्या में यह काफी फायदेमंद है.
  • ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में नाशपाती सहयोग करती है.
  • पेट में या पैरों में ऐंठन की संभावना को भी कम करती है.
  • नर्वस सिस्टम में सुधार लाने का कार्य करती है.
  • महिला के इम्यून सिस्टम को मजबूत करती है, संक्रमण से बचाव के लिए नाशपाती काफी फायदेमंद रहती है.
  • इसमें पाया जाने वाला बीटा कैरोटीन बैक्टीरिया से होने वाले रोगों को रोकने में सहायक है.
  • इसके अंदर पाया जाने वाला कॉपर रेड सेल्स को बनाने में मदद करता है.
  • गर्भावस्था के दौरान मांसपेशियों को आराम देने में मैग्नीशियम फायदेमंद होता है शारीरिक तनाव और थकान को भी मैग्निशियम कम करता है, और नाशपाती में मैग्नीशियम अच्छी मात्रा में होता है.
  • नाशपाती मतली या उल्टी जैसी समस्याओं को कम करने में मदद करती है.
  • फोलिक एसिड बच्चे के संपूर्ण विकास में महत्वपूर्ण रोल अदा करता है. खासकर मस्तिष्क का विकास नाशपाती में फोलिक एसिड प्रचुर मात्रा में होता है.

नाशपाती के जोखिम

  • नाशपाती खाने से कुछ अधिक नाशपाती खाने से कुछ समस्याएं नजर आ सकती हैं.
  • अगर आप डायबिटीज से पीड़ित है तो आपको नाशपाती नहीं खानी चाहिए.
  • अधिक नाशपाती खाने से गैस की समस्या बढ़ सकती है, डायरिया उल्टी की समस्या भी नजर आती है.
  • महिला को केवल पीले या नारंगी रंग की पक्की भी नाशपाती ही खानी चाहिए.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें