प्रेगनेंसी में पुदीना खाने के फायदे और नुकसान

0
21

 प्रेगनेंसी के दौरान महिला को पुदीने का सेवन करना चाहिए, या नहीं करना चाहिए. इसको लेकर बहुत सारे छोटे छोटे टॉपिक हैं जिसमें हम आपसे चर्चा करेंगे और आप इस बात का आइडिया बहुत आसानी से लगा पाएंगे कि आपको अपनी प्रेगनेंसी के दौरान पुदीने का प्रयोग करना चाहिए या नहीं करना चाहिए. जैसे कि —

क्या प्रेगनेंसी में पुदीना खा सकते हैं? गर्भावस्था के दौरान आपको कितना पुदीना खाना चाहिए? गर्भावस्था में पुदीना खाने का सबसे अच्छा समय कब है? पुदीना का पोषक मूल्य, प्रेगनेंसी में पुदीना खाने के फायदे, प्रेगनेंसी में पुदीना खाने के नुकसान, पुदीना का सेवन करते समय बरती जाने वाली सावधानियां,  क्या गर्भावस्था के दौरान पुदीने की चाय पीना सुरक्षित है? प्रेगनेंसी में पुदीना किस-किस प्रकार से खाया जा सकता है?

क्या प्रेगनेंसी में पुदीना खा सकते हैं

प्रेगनेंसी के दौरान पुदीने का सेवन करना नुकसानदायक नहीं माना जाता है. एक शोध के अनुसार पिपरमिंट एक ऐसी औषधि है, जो काफी अधिक मात्रा में प्रेगनेंसी के दौरान प्रयोग में लाई जाती है.

प्रेगनेंसी में पुदीना खाने के फायदे और नुकसान

गर्भावस्था में पुदीना खाने का सबसे अच्छा समय कब है

प्रेगनेंसी के दौरान पुदीने खाने का समय पहली तिमाही सबसे सही रहती है. क्योंकि इस दौरान महिला को मतली और उल्टी की समस्या काफी ज्यादा नजर आती है. ऐसे में यह समस्या में राहत देने का कार्य करता है.

पुदीने की पोषक वैल्यू

पुदीने में काफी सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जैसे कि पुदीने के अंदर आपको पानी, कैलोरी, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और फाइबर मिलेगा.
साथ ही साथ इसके अंदर काफी सारे मिनरल्स होते हैं. जैसे कि कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम, सोडियम, जिंक और कॉपर इत्यादि.
इसके अलावा इसमें विटामिन सी, थेआमीन, राइबोफ्लेविन और नियासिन भी मिलता है.

प्रेगनेंसी में पुदीना खाने के फायदे

प्रेगनेंसी के दौरान पुदीना खाने के काफी सारे फायदे होते हैं.

  • पुदीने के तेल को सुनने से बुखार को कम करने में काफी मदद मिलती है. यह पाचन क्रिया को भी सुधारने में मदद करता है.
  • पुदीने का इस्तेमाल करने से मॉर्निंग सिकनेस की समस्या में बचाव होता है मतली और उल्टी को कम करने में भी सहायता मिलती है.
  • पुदीने की चाय प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली एसिडिटी को कम करने में काफी मदद करती है
  • पुदीने के अंदर एंटी स्पास्मोडिक प्रभाव मौजूद होते हैं, जो मांसपेशियों की ऐंठन को कम करने में मदद कर सकता है.
  • वही पुदीने के अंदर स्तनों में दूध बढ़ाने वाला गुण पाया जाता है.
  • पुदीने का सेवन करने से प्रेगनेंसी के दौरान गैस की समस्या में काफी राहत मिलती है.

पुदीने के नुकसान

  • जहां तक प्रेगनेंसी में पुदीना लेने से फायदे होते हैं, उसके नुकसान भी आपको पता होना चाहिए.
  • अगर किसी महिला को पुदीना से एलर्जी है तो उसे इसी प्रेगनेंसी के दौरान लेने से परहेज करना चाहिए
  • अगर आप कोई दवाई ले रहे हैं तो उसके साथ पुदीने का इस्तेमाल नुकसानदायक हो सकता है.
  • अगर आप कम रक्तचाप की समस्या से ग्रसित है तो फिर आपको प्रेगनेंसी के दौरान को देना नहीं लेना चाहिए.

पुदीना का सेवन करते समय बरती जाने वाली सावधानियां

लेख में हमने पुदीना के फायदे के साथ-साथ उससे होने वाले नुकसान के बारे में भी बताया है. इसलिए, इसके सेवन के समय कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है. नीचे पढ़े क्या हैं वे सावधानियां

  • पुदीने की पत्तियों का सेवन करने से पहले उन्हें साफ पानी से जरूर धोएं.
  • हमेशा ताजी पत्तियों को ही उपयोग में लाएं.
  • हमेशा सही मात्रा में ही पुदीने का इस्तेमाल करें.
  • अगर पुदीने से किसी प्रकार की एलर्जी है, तो इसके इस्तेमाल से परहेज करें.
  • इसके सेवन के बाद किसी भी तरह की समस्या होती है, तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें.
  • जहां तक प्रेगनेंसी के दौरान पुदीने की चाय पीने का सवाल है, तो प्रेगनेंसी के दौरान पुदीने की चाय पीना सुरक्षित माना जाता है. यह पेड़ को शांत रखने में मदद करता है. साथ ही साथ Acidity की समस्या में भी राहत देता है. मतली और उल्टी की समस्या में भी है काफी कारगर माना जाता है.

पुदीने को किस प्रकार से खाएं

प्रेगनेंसी के देने को अपने भोजन में कई प्रकार से शामिल किया जा सकता है.

  • इसके लिए आपको देने की चाय बना सकते हैं.
  • पुदीने की पत्तियों की चटनी बनाकर अपने भोजन में डाल सकते हैं.
  • पुदीने की पत्तियों को सब्जियों में डाल सकते हैं.
  • फलों के जूस में पुदीने की पत्तियों का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • इस प्रकार से पुदीना आप अपने भोजन में शामिल कर सकते हैं

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें