Header Ads

क्या गर्भावस्था में सोडायुक्त पेय और सॉफ्ट ड्रिंक्स पीना सुरक्षित है

गर्भावस्था एक ऐसा समय होता है जब एक मां के भीतर एक छोटी सी जिंदगी पल रही होती है। ये एक ऐसा एहसास है जिसे शब्दों में नहीं बताया जा सकता बल्कि एक मां ही समझ सकती है। प्रेगनेंसी में हर महिला को अपनी सेहत का ध्यान देना चाहिए। गर्भावस्था में खानपान पर ध्यान देना बहुत ही जरूरी होता जाता है। बेहतर खानपान के साथ ही गर्भवती महिला अपने और अपने बच्चे की देखभाल कर सकती है।

drinking when pregnant


इन्हें भी पढ़ें : पल्स विधि द्वारा जेंडर प्रिडिक्शन
इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में बेटा या बेटी जानने का मिस्र का तरीका
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में क्यूं खाना चाहिये फूलगोभी
इन्हें भी पढ़ें : क्या गाजर खाना प्रेगनेंसी में सुरक्षित है
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था के दौरान किन खाद्य पदार्थों का सेवन सुरक्षित नहीं है  

ऐसी स्थिति में एक महिला को पता होनी चाहिए कि उसकी सेहत के लिए कौन से आहार सही है और कौन से नहीं। कई बार जानकारी के अभाव में और क्रेविंग के चलते महिलाएं कुछ ऐसी चीजें खाने लगती है, जो उनके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है। इस बात का ध्यान दीजिए कि गर्भावस्था के दौरान होने वाली एक छोटी सी गलती भी मां और बच्चे के लिए खतरनाक साबित हो सकती है। ऐसे में इस बात का विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है कि होने वाली मां कुछ भी ऐसा नहीं खाए, जिसका उस पर उसके बच्चे पर गलत असर पड़े। अब यह सवाल उठता है कि प्रेगनेंसी में सॉफ्ट ड्रिंक पीना चाहिए या नहीं।

हां, बशर्ते आप इनका सेवन सीमित मात्रा में करें। सोडा अपने आप में नुकसानदेह नहीं होता है, मगर सॉफ्ट ड्रिंक्स में अक्सर कुछ ऐसी सामग्रियां होती हैं, जिनके सेवन को लेकर गर्भावस्था में आपको सावधानी बरतनी चाहिए।

soda in pregnancy




अधिकांश पेय जैसे कि कोला आदि में कैफीन होती है। माना जाता है कि कैफीन अपरा से होते हुए गर्भस्थ शिशु तक पहुंच सकती है।

थोड़ी मात्रा में सेवन किए जाने पर कैफीन शिशु को नुकसान नहीं पहुंचाती है, मगर अत्याधिक मात्रा में कैफीन अपरा तक रक्त प्रवाह कम कर सकती है, जिससे गर्भस्थ शिशु प्रभावित हो सकता है।
कैफीन मूत्रवर्धक (डाइयुरेटिक) भी होती है और शरीर से पानी व अन्य तरल पदार्थों के साथ-साथ जरुरी विटामिन जैसे कि कैल्शियम आदि के हृास का कारण बनती है। इसलिए यदि आप एक या दो सॉफ्ट ड्रिंक पीती हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप अन्य पौष्टिक व सेहतमंद पेय जैसे कि दूध, लस्सी और ताजा फलों के रस भी लें।

अत्याधिक कैफीन का सेवन आपनी नींद पर भी असर डाल सकता है, जबकि गर्भावस्था में आपको अच्छी नींद की आवश्यकता होती है।
अधिकांश सॉफ्ट ड्रिंक्स में कृत्रिम स्वाद व प्रिजर्वेटिव्स होते हैंं। डाइट सोडा में भी कृत्रिम मीठा (आर्टिफिशियल स्वीटनर) डला हो सकता है। इनमें से किसी का भी अत्याधिक मात्रा में सेवन (शुगर सब्स्टीट्यूट, प्रिजर्वेटिव, आर्टिफिशियल फ्लेवर व कलर) गर्भवती महिला के लिए उचित नहीं है। इसके अलावा, सॉफ्ट ड्रिंक आपके शरीर में खाली कैलोरी देती हैं, इससे कोई पोषक तत्व प्राप्त नहीं होते।

इन्हें भी पढ़ें : क्या प्रेगनेंसी में मूंगफली खा सकते हैं जानिए
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में गुड़ खाने के फायदे नुकसान
इन्हें भी पढ़ें : क्या गर्भावस्था में पास्ता खाना चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : क्या गर्भावस्था में अंडा खा सकते हैं – Step by Step Information


वैसे ऐसा देखा गया है कि गर्भावस्था में महिलाओं को सॉफ्ट ड्रिंक पीने लगती हैं। इस तरह की आदत मां और बच्चे की सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है। सबसे आम कार्बोनेटेड पेय सोडा है, लेकिन गर्भावस्था के दौरान ज्यादा पीने से स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। इसलिए सोडा या सॉफ्ट ड्रिंक के सेवन के बारे में विशिष्ट दिशानिर्देशों का पालन करना महत्वपूर्ण है, जो डॉक्टर द्वारा प्राप्त किया जा सकता है।
आपके बच्चे के विकास के लिए विटामिन और खनीजों की जरूरत होती है। कार्बोनेटेड पेय या सॉफ्ट ड्रिंक में किसी भी तरह का पौष्टिक तत्व नहीं होता है। इसे पीने से आपका वजन बढ़ सकता है। आप इसकी जगह फ्रेश और शुद्ध फलों का जूस पी सकती हैं।

lemon soda during pregnancy


एक शोध के मुताबिक, गर्भावस्था में सॉफ्ट ड्रिंक, सोडा और दूसरे शुगर से भरपूर ड्रिंक पीने से बच्चे में वजन बढ़ सकता है। विशेषज्ञों की मानें तो गर्भावस्था में जो महिलाएं हर रोज सॉफ्ट ड्रिंक पीती हैं उनके होने वाले बच्चों का बीएमआई यानी बॉडी मास इंडेक्स काफी हाई होता है।
इनकी बजाय आप नीचे बताए गए ताजगी प्रदान करने वाले पेय ले सकती हैं, जैसे कि:

ताजा फलों का रस
नींबू पानी
आम पन्ना
लस्सी या दूध से बने अन्य पेय
नारियल पानी





No comments

Powered by Blogger.