Header Ads

जल्दी गर्भवती होने के 22 तरीके

 जो दंपत्ति संतान चाहते हैं, लेकिन महिला गर्भवती नहीं हो पा रही है. इसके लिए हम 22 टिप्स देंगे जिन्हें अपनाकर महिला के गर्भवती होने की संभावना काफी प्रबल हो जाती है और यह ऐसे उपाय हैं जो कि आप अपने जीवन चर्या को बिना बदले बस थोड़ा सा ध्यान रखते हुए बड़ी आसानी से कर सकते हैं.

दोस्तों किसी भी इंसान का शरीर बहुत ही कंपलेक्स होता है, और उसे समझना बड़ा ही मुश्किल होता है. लेकिन इसकी बनावट इस प्रकार की है कि हम अपनी दिनचर्या में थोड़ा बहुत परिवर्तन करके अपनी काफी सारी परेशानियों को बड़ी आसानी से दूर कर सकते हैं.

ऐसे ही किसी महिला को अगर गर्भवती होने में परेशानी हो रही है तो उसे कुछ विशेष बातों का ध्यान रखने की आवश्यकता होती है अगर वह इन सब बातों का ध्यान रखें रखेगी तो गर्भधारण की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है.

जल्दी गर्भवती होने के 22 तरीके

1.ज़्यादा शारीरिक व्यायाम न करें

हमारे समाज में मान्यता है कि जो व्यक्ति व्यायाम करता है उसका शरीर हष्ट पुष्ट रहता है बात सही भी है. व्यायाम करना ठीक रहता है  लेकिन जो महिलाएं ज्यादा व्यायाम करती हैं. खेलकूद में ज्यादा इंटरेस्ट रखती हैं ऐसी महिलाएं जल्दी से गर्भवती नहीं हो पाती हैं इसके पीछे कई वैज्ञानिक कारण हो सकते उनके पास जाना तो हम नहीं चाहते हैं क्या कारण है लेकिन अगर आप मां बनना चाह रहे हैं तो आपको व्यायाम खेलकूद से थोड़ा सा आराम लेना होगा

2.मीठी चीजों का सेवन

मीठी चीजों का सेवन पति पत्नी दोनों को चाहिए कि वह मीठी चीजों का सेवन जैसे की मिठाइयां कोल्ड ड्रिंक्स सोडा इत्यादि का सेवन ना करें तो ज्यादा अच्छा है. शरीर के अंदर कैल्शियम की कमी हो जाती है तो इस वजह से पति और पत्नी दोनों की क्षमताओं पर असर पड़ता है.

3.जरूरी विटामिन

गर्भवती स्त्री को अपने डॉक्टर से परामर्श करके विटामिन अनुपूरक के तौर पर लेना शुरू कर देना चाहिए. इसमें विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन के, और विटामिन ई के साथ-साथ फोलिक एसिड भी होता है. यह सब के सब गर्भावस्था के लिए काफी आवश्यक होते हैं.

इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय - गाय का दूध
इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि
इन्हें भी पढ़ें : 3 फलों की औषधि से पुत्र प्राप्ति का नुस्खा - इसे खाने से पुत्र की प्राप्ति हो जाती है
इन्हें भी पढ़ें : ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है - शिवलिंगी के बीज
 

4.चाय कॉफी का सेवन

दंपत्ति जो की संतान की प्राप्ति की इच्छा रखते हैं. उन्हें चाय कॉफी का सेवन कम से कम करना चाहिए. अगर आप ज्यादा चाय कॉफी का सेवन करेंगे, तो इसमें उपस्थित कैफीन गर्भाधान के मार्ग में रुकावट पैदा करती है.

5.भरपूर नींद लें

किसी भी महिला को अपने मेटाबॉलिज्म और हार्मोन के संतुलन के लिए कम से कम 7 से 8 घंटे की नींद लेना जरूरी है साथ ही साथ रात को जल्दी सोए और सुबह जल्दी उठे और कोशिश करें दिन में भी थोड़ा सा आराम जरूर करें. शरीर के गर्भधारण करने की क्षमता में वृद्धि होती है.

 6. गर्भ-निरोधक दवाएं लेना बंद करें

किसी भी गर्भवती होने वाली स्त्री को  इस प्रकार की दवाइयों के सेवन से बचना चाहिए जो गर्भाधान का विरोध करती हूं जरूरी नहीं कि ऐसी दवाएं गर्भनिरोधक गोलियां ही हो दूसरे प्रकार की कई दवाएं जो आप ले रही होती हैं कभी-कभी उनकी वजह से भी गर्भाधान नहीं हो पाता है.

7. ज्यादा दवाई ना लें

यह बात पति और पत्नी दोनों के लिए है, जैसे कि छोटी-मोटी परेशानियां खांसी, जुखाम, बुखार, सर दर्द या बदन दर्द के लिए हम तुरंत इनमें राहत देने वाली गोलियां खाना पसंद करते हैं. इस प्रकार की दवाई भी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती हैं. कम से कम इस प्रकार की दवाइयों का सेवन करें, और अपने डॉक्टर से सलाह करके ही प्रयोग में लाएं.

8. अच्छा खानपान जरूरी है

किसी भी दंपत्ति को अगर संतान की प्राप्ति करनी है, तो उसे अपने भोजन को काफी संतुलित करना होगा समय से खाना है. भरपूर मात्रा में पानी पीना है. और वह जो भी भोजन खाएं उसमें पौष्टिकता अवश्य होनी चाहिए. बाहर का तला भुना और फास्ट फूड खाने से हमेशा बचे. अपने खान-पान में फल और हरी पत्तेदार सब्जियों को शामिल करें। इसके अलावा, उन्हें ऐसी चीज़ें भी खानी चाहिए जिसमें फ़ॉलिक एसिड, विटामिन-बी 12 और ओमेगा-3 फ़ैटी एसिड प्रचूर मात्रा में मौजूद हों.

9. स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं

यथाशीघ्र संतान प्राप्ति के लिए एक स्वस्थ जीवन शैली को अपनाना अत्यधिक आवश्यक होता है. आपको अपने भोजन करने का समय और सोने का समय सुबह को उठने का समय नियमित करना है सुबह शाम थोड़ा सा टहलने आप जा सकते हैं, योगा कर सकते हैं. भरपूर मात्रा में आपको पानी पीना है. कोशिश करें आपको पसीना जरूर आए इससे शरीर के टॉक्सिक एलिमेंट बाहर निकलते हैं.

10. महिला अपने ओवुलेशन पीरियड को पहचाने

महिला अपने ओवुलेशन पीरियड को पहचाने किसी भी महिला को अगर गर्भवती होना है तो उसे अपने ओवुलेशन का पता होना बहुत जरूरी होता है. क्योंकि ओवुलेशन पीरियड में ही महिला गर्भधारण कर पाती है. इसके लिए महिला अपने शरीर के तापमान के द्वारा इस बात का पता चला सकती है. आती है उससे भी आपके ऑडिशन पीर का पता चल जाता है इसके लिए हमने पहले से वीडियो बनाए हुए हैं आप उन्हें देखें तो आपको काफी मदद होगी.

11.थायराइड अवश्य चेक कराएं

थायराइड घटने और बढ़ने से दोनों प्रकार से प्रजनन क्षमता पर प्रभाव पड़ता है अगर वजन बढ़ जाता है या वजन कम हो जाता है दोनों ही अवस्था में गर्भवती स्त्री की मां बनने की क्षमता प्रभावित होती है.

इन्हें भी पढ़ें : आयुर्वेदिक नुस्खे से पुत्र प्राप्ति - शिवलिंगी के बीज और पुत्रजीवक बीज
इन्हें भी पढ़ें : शिवलिंगी से पुत्र प्राप्ति का यह उपाय अचूक मन जाता है - बाँझ महिला को भी पुत्र होता है
इन्हें भी पढ़ें : प्राचीन ऋषियों द्वारा पुत्री प्राप्ति के दिए गए पांच सूत्र
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति का आयुर्वेदिक नुस्खा (नींबू + दूध + देसी घी)
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति के लिए सूर्य देव के 2 उपाय
 

12. नशे की लत छोड़ें

कोई भी स्त्री हो या पुरुष हो, वह अगर वह नशे का आदी है, तो उसकी प्रजनन क्षमता पर बहुत नेगेटिव प्रभाव पड़ता है. ड्रग शराब नशीली दवाएं तंबाकू आदि का सेवन महिला और पुरुष दोनों को नहीं करना चाहिए.

13. डॉक्टर से चेकअप कराएं

अगर दंपत्ति को कंसीव करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, तो उसे सबसे पहले डॉक्टर से मिलकर अपना चेकअप करा लेना चाहिए. क्योंकि हो सकता है, कि कुछ हेल्थ संबंधी परेशानी हो. जिसकी वजह से गर्भधारण नहीं हो पा रहा है. जितनी जल्दी ऐसी समस्या का निदान हो जाए उतना सही रहता है.

14. तनाव से बचें

अगर गर्भवती स्त्री किसी भी प्रकार के तनाव में रहती है. चाहे वह तनाव उसे घर से प्राप्त हो रहा हो, या उसे अपने ऑफिस से तनाव मिल रहा हो. किसी भी स्थिति में अगर महिला तनाव में है तो उसकी प्रजनन क्षमता पर बहुत नेगेटिव प्रभाव पड़ता है. बल्कि कहे तो शरीर की क्षमता अर्थात हर प्रकार की क्षमता पर प्रभाव पड़ता है. महिला बीमार रहने लगती है. मानसिक स्थिति ठीक नहीं होती है. ऐसे में शरीर स्वयं प्रेगनेंसी जैसे बड़े कार्य को अवॉइड करता है. चाहे शरीर स्वस्थ ही क्यों ना हो.

15. मानसिक रूप से तैयार रहें

अगर पति या पत्नी दोनों संतान के लिए मानसिक रूप से पूर्ण रूप से तैयार नहीं होते हैं, तो भी संतान की प्राप्ति में बाधा आती है. इसलिए पति और पत्नी दोनों को एक संतान की जिम्मेदारी लेने के लिए पूर्ण रूप से तैयार होना चाहिए. यह भी आवश्यक है.

16. व्यायाम का चयन

पति या पत्नी दोनों को किसी डॉक्टर से या व्यायाम स्पेशलिस्ट से इस बारे में जानकारी जरूर लेनी चाहिए कि कौन-कौन से व्यायाम ऐसे हैं जिन्हें करने से प्रजनन क्षमता मजबूत होती है और उन बयानों को नियमित तौर पर करना चाहिए.

17. सही उम्र का रखें ध्यान

गर्भधारण करने के लिए एक सही उम्र का होना भी ज़रूरी है.सही उम्र में गर्भधारण करने से मॉं और बच्चा दोनों ही स्वस्थ रहते हैं। एक महिला के शरीर में उम्र के साथ-साथ अंडों की मात्रा और गुणवत्ता धीरे-धीरे कम होने लगती है. 25 से 30 साल की उम्र में महिला के गर्भधारण करने की संभावना ज़्यादा रहती है. वहीं, 30 साल की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते प्रजनन क्षमता कमज़ोर पड़ने लगती है. 40 की उम्र तक महिला की प्रजनन क्षमता केवल पांच प्रतिशत रह जाती है.

18. अपनी क्षमता को पहचाने

जैसा कि हमने इसी वीडियो में आपको पहले बताया है कि व्यायाम और खेल कूद से आपकी क्षमताओं पर प्रभाव पड़ता है इसी प्रकार से बहुत सारे ऐसे कार्य हो सकते हैं जो अपने आप जीवन में करते हैं इसकी वजह से भी आपकी क्षमताओं पर प्रभाव पड़ सकता है आप ऐसे कार्य को पहचाने और उनसे बचें. जैसे कि आप अपनी क्षमता से अधिक शारीरिक मेहनत करते हैं या आप अपने ऑफिस के काम की वजह सेअपने दिमाग को बहुत ज्यादा स्ट्रेस देते हैं.  ऐसी महिलाएं जो घर का काम अपनी क्षमता से ज्यादा करती हैं यह भी दिक्कत की बात है.

19. नियमित तौर पर मिलन करें

अगर आप संतान प्राप्ति की इच्छा रखते हैं तो पति और पत्नी को नियमित तौर पर मिलन करना सही रहता है. इसका मतलब यह नहीं है कि आप और रोजाना यह कार्य करें. आप चाहे तो नियम बना ले जैसे कि एक दिन छोड़कर. इससे क्षमता में वृद्धि होती है.

इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति के 3 बलशाली टोटके
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र रत्न प्राप्ति के लिए तीन आयुर्वेदिक उपाय #1
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति में स्वर विज्ञान का योगदान
इन्हें भी पढ़ें : पुत्री प्राप्ति में स्वर विज्ञान का योगदान
इन्हें भी पढ़ें : साइंस और धर्म विज्ञान दोनों के अनुसार पुत्र प्राप्ति का सटीक उपाय
 

20.सुबह के समय कोशिश करें

रात भर एक अच्छी नींद लेने के बाद सुबह आपके शरीर में काफी ज्यादा स्फूर्ति और ताजगी और ताकत रहती है इस समय संतान प्राप्ति के लिए कोशिश की जा सकती है.

21. वैवाहिक जीवन में मधुरता

यह भी एक बहुत इंपॉर्टेंट फेक्टर होता है अगर पति और पत्नी में प्यार है तो वह जो भी कार्य करेंगे उसमें सफलता अवश्य मिलती है मतभेद एक प्रकार की नेगेटिव एनर्जी को उत्पन्न करता है जो कि कार्य में रूकावट डालती है.

22. पति भी रखें ध्यान

 ऐसा नहीं है कि महिला गर्भवती नहीं हो रही तो सारी जिम्मेदारी महिला की होती है पति को भी अपनी सेहत का भरपूर ध्यान रखना चाहिए. उसे भी सही में जीवन जीना चाहिए समय से सोना उठना बैठना उतना ही जरूरी पति के लिए भी है. वह भी अपनी अपने भोजन की पौष्टिकता पर सही तरह से ध्यान रखें.

No comments

Powered by Blogger.