Header Ads


Pregnancy Care items

पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि | पुत्र प्राप्ति का सरल उपाय

अगर पहले से ही कन्या के माता पिता है. और आप एक पुत्र प्राप्ति की इच्छा रखते हैं, तो आप किस प्रकार से अपने पुत्र प्राप्ति की इच्छा की पूर्ति कर सकते हैं. यह पुत्र प्राप्ति का सरल उपाय माना जाता है.

दोस्तों अगर आप पहले से ही एक या दो कन्या के माता पिता है, तो तभी आप यह उपाय अपनाएं. ऐसी अवस्था में उपाय ज्यादा कारगर होते हैं,

ayurvedic medicine, putra prapti ke ayurvedic upay

जिन स्त्रियों के संतान नहीं है. वह भी इस प्रयोग को अपना सकते हैं.


इन्हें भी पढ़ें : महिलाओं में बांझपन के क्या कारण होते हैं - महिला की उम्र के कारण
इन्हें भी पढ़ें : बिना प्रेगनेंसी के प्रेगनेंसी वाले लक्षण कब आते हैं
 

पुत्र प्राप्ति की औषधि लक्ष्मणा बूटी

गर्भ में पुत्र प्राप्ति के लिए दोस्तों इस के लिए एक बूटी आती है. जिसे हम लक्ष्मणा बूटी कहते हैं. लक्ष्मणा बूटी आपको किसी भी जड़ी बूटी विक्रेता, पंसारी या आयुर्वेदिक मेडिकल पर प्राप्त हो जाएगी.

दोस्तो लक्ष्मणा बूटी का प्रयोग बांझ स्त्री और पुत्र प्राप्ति के लिए किया जाता है. इसके साक्ष्य हमारे वेदों और पुराणों में भी मिलते हैं.

इसके लिए हमारे शास्त्रों में संस्कृत में श्लोकओं द्वारा इसके गुणों का बखान किया गया है, जिसके अनुसार इसका प्रयोग करने से बांझ स्त्री भी पुत्र को जन्म दे देती है.

कैसे तैयार करें औषधि

आपको इसके लिए 5 ग्राम लक्ष्मणा बूटी लेनी है. जिसे बारिक महीन पीस लेना है. साथ ही साथ आपको 5 ग्राम शिवलिंगी के बीज भी चाहिए होंगे.

हम सभी जानते हैं कि शिवलिंगी के बीज भी पुत्र प्राप्ति के लिए जाने जाते हैं. इन्हें भी आप महीन पीस लें दोनों को मिला ले. आपके पास 10 ग्राम औषधि तैयार हो गई है.

अब आप इस 10 ग्राम औषधि के 12 हिस्से कर ले,

इन्हें भी पढ़ें : आयुर्वेदिक नुस्खे से पुत्र प्राप्ति - शिवलिंगी के बीज और पुत्रजीवक बीज
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति के 3 बलशाली टोटके
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र रत्न प्राप्ति के लिए तीन आयुर्वेदिक उपाय उपाय #2
इन्हें भी पढ़ें : प्रेग्नेंट होने में कितना समय लगता है
इन्हें भी पढ़ें : मां बाप बनने की क्षमता को प्रभावित करने वाले तत्व - आलस्य

 


ladka paida karne ka tarika, prachin tarika

पुत्र प्राप्ति के लिए लक्ष्मणा बूटी को लेने का तरीका

अगर आपके पीरियड रेगुलर नहीं है, तो पहले ट्रीटमेंट लेकर आप अपने पीरियड्स को रेगुलर करवाइए.

क्योंकि रेगुलर पीरियड्स पर ही आपको रेगुलर ओवुलेशन की डेट प्राप्त होगी. इस औषधि को लेने से पहले आपको यह पता होना चाहिए कि आपके ओवुलेशन पीरियड कब है.

क्योंकि यह औषधि आपको केवल 1 महीने में 4 दिन ही लेनी है और वह 4 दिन ओवुलेशन पीरियड से ठीक पहले के 4 दिन होंगे.

आप औषधि का सेवन करेंगे करेंगी तो आपको अपनी पति के संपर्क में नहीं आना है.

औषधि 4 दिन लेने के बाद जब समाप्त हो जाएगी, तब आपका ओवुलेशन पीरियड शुरू हो जाएगा. अगले 5 दिन तक आपको रोज अपने पार्टनर के साथ मिलकर संतान प्राप्ति के लिए प्रयास करना है.

इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति के लिए सूर्य देव के 2 उपाय
इन्हें भी पढ़ें : ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है - शिवलिंगी के बीज


पहले महा गर्भ ठहरता है, तो ठीक है, वरना फिर अगले माह आपको यही प्रोसेस दोहराना है. चार और औषधि के हिस्से आपको खाने हैं. जैसा कि पहले महीने आप ने खाए थे. फिर ओवुलेशन पीरियड में संतान प्राप्ति के लिए कोशिश करनी है.

3 माह तक आपको कोशिश करनी है. गर्भ नहीं ठहरता है, तो फिर एक-दो महीने छोड़कर आप यही प्रोसेस अपनाएं.
जब भी आपके गर्भ ठहरेगा, आपको पुत्र ही प्राप्त होगा.
 
शास्त्रों में वर्णित श्लोकों के बांझ स्त्री को भी इस प्रयोग के बाद संतान प्राप्ति होती है बल्कि पुत्र की प्राप्ति हो जाती है.

और किन किन बातों का ध्यान रखें

औषधि आपको सुबह सूर्य निकलने से पहले सभी आवश्यक कार्यों से निवृत्त होने के बाद लेनी है.

 यह आपको गाय के दूध से लेनी है. अगर गाय का दूध बछड़े वाली गाय का हो, तो अति उत्तम .
औषधि लेने के बाद आपको भगवान शिव का स्मरण करना है. तो बहुत अच्छा होगा.
और इस प्रयोग के बारे में आपको किसी दूसरे व्यक्ति से भी नहीं बताना है.

No comments

Powered by Blogger.