Header Ads

गर्भावस्था के दौरान किन खाद्य पदार्थों का सेवन सुरक्षित नहीं है - Food Avoid in Pregnancy

नमस्कार दोस्तों आज हम चर्चा करने वाले हैं कि हमें कौन कौन से खाद्य पदार्थ प्रेगनेंसी के समय पर खाने से बचने हैं और किन पदार्थों को हमें कम मात्रा में खाना है उसको इसका मुख्य कारण यह है कि आपकी प्रतिरोधक प्रणाली में प्रेगनेंसी के समय बदलाव आ जाता है इस समय शिशु की सुरक्षा आपकी प्रतिरोधक प्रणाली की प्राथमिकता होती है, इस कारण से आपकी प्रतिरोधक क्षमता आप की सुरक्षा कम और आपके बच्चे के सबसे ज्यादा करते हैं जिसकी वजह से आप कुछ असुरक्षित हो जाते हैं इस कारण से आपको छोटी-मोटी बीमारी बहुत जल्दी पकड़ ले रखी है खांसी, जुखाम,बुखार, फूड प्वाइजनिंग, पेट दर्द, सर दर्द, दस्त , कब्ज आदि समस्याएं  काफी जल्दी आपको पकड़ लेती है इनसे बचने के लिए आपको अपने खाने-पीने पर बहुत ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता होती है कुछ चीजों का खाना सीमित करना पड़ता है और कुछ चीजें खाना छोड़ देना पड़ता है,
आइए इस विषय पर चर्चा करते हैं.



diet for pregnant lady, good food for pregnant women

प्रेगनेंसी के दौरान आपके शिशु की अपनी प्रतिरोधक क्षमता ना के बराबर होती है, इस दौरान वहां सिर्फ महिला की प्रतिरोधक क्षमता पर ही, उसके द्वारा दी गई सुरक्षा पर ही आश्रित होता है, शिशु की सुरक्षा के लिए हमें खाने पीने की चीजों का चयन काफी सावधानी से करना होता है कुछ खाद्य पदार्थ काफी नुकसानदायक हो सकते हैं.

इन्हें भी पढ़ें : गर्भ अवस्था में इन बातों का ध्यान रखें बच्चा तेज दिमाग वाला होगा
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में लीची का सेवन सुरक्षित है या नहीं  
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में अनार खाने के क्या फायदे है


कच्चा अंडा : प्रेगनेंसी में कच्चे अंडे को खाने से बचना चाहिए क्योंकि इसमें साल्मोनेला जीवाणु के होने की प्रबल संभावना होती है इसलिए कच्चे अंडे को न खाकर आप उसे उबालकर जब तक कि वह ठोस ना हो जाए तब तक नहीं खाना चाहिए हमेशा कंडे कच्चे अंडे से बने फूड आइटम्स खाने से बचें जैसे कि केक में कच्चे अंडे का इस्तेमाल होता है इसे खाने से बचें.

कच्ची सब्जियां : वैसे तो कच्ची सब्जियां सबसे ज्यादा पौष्टिक होती है लेकिन कच्ची सब्जियों में बैक्टीरिया और गंदगी रहने का खतरा भी उतना ही ज्यादा होता है तो सब्जियों को कच्चा खाने से नुकसान ज्यादा होने का खतरा बना रहता है| इसी श्रंखला में हमें  सलाद को बिना सोचे समझे नहीं खाना चाहिए सलाद या फलों और सब्जियों की टॉपिंग को लेकर हमें सावधान रहना चाहिए, इनका प्रयोग करने से पहले हमें सुनिश्चित करना चाहिए कि यह बैक्टीरिया फ्री है  और साफ पानी से धुली हुई है.

foods to eat during pregnancy, pregnancy food list

इन्हें भी पढ़ें : क्या प्रेगनेंसी में गर्म पानी से नहाना सुरक्षित है
इन्हें भी पढ़ें : क्या प्रेगनेंसी में घी खाना फायदेमंद होता है

विशेष प्रकार के मांस और मांस से बने उत्पाद
गर्भावस्था के दौरान कलेजी (लीवर) का सेवन सुरक्षित नहीं है। हालांकि, अन्य सभी तरह के ताजा मीट-मांस खाए जा सकते हैं। बस यह सुनिश्चित करें कि आप मांस को अच्छी तरह पकाएं, जब तक उसमें बीच में कोई गुलाबी अंश न बचे.
आपको रोस्टेड किए गए मीट को खाने से पहले थोड़ा सावधानी रखने की आवश्यकता होती है क्योंकि यह कभी-कभी अच्छे से पके हुए नहीं होते हैं.
बेहतर है कि क्योर्ड मीट जैसे कि पार्मा हैम और सलामी का सेवन न किया जाए। इनसे लिस्टिरियोसिस और टोक्सोप्लास्माोसिस होने का खतरा रहता है.

 मछली : मछली के अंदर शिशु के विकास के लिए आवश्यक काफी सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं कुछ मछलियों के अंदर मर्करी पाया जाता है जोकि स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक हानिकारक होता है, मछली खाने से पहले यह सुनिश्चित करें कि आप ऐसी कोई मछली नहीं खा रहे हैं जिसके अंदर मरकरी की उच्च मात्रा स्थित है साथ ही साथ आपको इस बात का भी ध्यान रखना है कि आप जो भी मछली खा रहे हैं वह अच्छी तरह से पकी हुई होनी चाहिए.

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में क्यूं खाना चाहिये फूलगोभी
इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय - गाय का दूध


जिस प्रकार से कच्चे मांस को खाने से बचना है उसी प्रकार से मछली को भी कच्चा खाने से परहेज करना है किसी भी गर्भवती महिला को क्योंकि उस में बैक्टीरिया हो सकते हैं, आप कोशिश करें कि आप मछली को हफ्ते में मात्र एक बार या ज्यादा से ज्यादा दो बार ही खाएं.

कुछ चीज़ और डेयरी उत्पाद

सफेद, फफूंदयुक्त पपड़ी वाली चीज़ जैसे कि ब्री, कैमेम्बर्ट और ब्लू वीन्ड चीज़। इसके अलावा अपाश्च्युरीकृत चीज़ से भी दूर रहें, जैसे कि भेड़ या बकरी के दूध से बनी चीज़। इन सभी चीज़ में लिस्टीरिया जीवाणु हो सकता है। लिस्टीरिया जीवाणु लिस्टिरियोसिस इनफेक्शन पैदा कर सकता है, जो आपके शिशु के लिए हानिकारक हो सकता है।

अपाश्चयुरीकृत दूध और इससे बने डेयरी उत्पादों का सेवन गर्भावस्था में सुरक्षित नहीं है। इनमें भोजन विषाक्तता पैदा करने वाले जीवाणु मौजूद हो सकते हैं।

कच्चे दूध में भी जीवाणु हो सकते हैं, जो कि डायरिया या टीबी जैसे संक्रमण पैदा कर सकते हैं।

बाहर रेस्टोरेंट आदि मे खाना खाते समय पनीर से बने खाद्य पदार्थ जैसे कि टिक्का और कच्चे पनीर के सैंडविच और सलाद न खाएं, क्योंकि यह बता पाना मुश्किल होता है कि पनीर ताजा है या नहीं।

food for pregnant women, what to eat when pregnant

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान केसर खाना चाहिए या नहीं खाना चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : अल्कोहल से जेंडर प्रिडिक्शन 1 मिनट में

फलों के जूस : फल सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं यह नेचुरल पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं वह प्रेगनेंसी में इनका प्रयोग करना भी चाहिए लेकिन हमें इस बात का ध्यान रखना है  हम जिन फूल का प्रयोग कर रहे हैं कोई भी फल ऐसा ना हो जो नेचुरल तरीके से न पकाया गया हो | इन्हें खाने से पूर्व अच्छी तरह से धोना भी आवश्यक है, हमें इस बात का विशेष ध्यान रखना है कि बाजार से निकलवा कर ताजे फलों का जूस हमें प्रयोग में नहीं लाना है घर पर ही जूस बनाकर गर्भवती महिला को पिलाना है
बाजार में मुख्यतः सफाई का इतना ध्यान नहीं रखा जाता है अगर ध्यान रखा भी जाता है तो गाड़ियों के द्वारा जो धुआँ निकलता है उसके पोलूशन, धूल मिट्टी के कारण तथा बाजार में जमा कूड़े पर बैठने वाले मक्खी मच्छरों द्वारा फल दूषित हो ही जाते हैं, फिर उसके बाद आप उसको पन्नी में लेकर आओगे, जो पॉलीथिन यूज़ करोगे वह स्वयं रोगों की जननी होती है.

 पेय पदार्थ : 
बेहतर है कि एक दिन में 200 मि.ग्रा. से ज्यादा कैफीन का सेवन न किया जाए। इसका मतलब है कि एक दिन में दो कप इंस्टेंट कॉफी, दो कप चाय या पांच कैन कोला से ज्यादा का सेवन नहीं किया जाना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान कैफीन का अत्याधिक मात्रा में सेवन गर्भपात या कम जन्म वजन शिशु का कारण बन सकता है. इसकी बजाय आप कैफीनमुक्त (डीकैफीनेटेड) पेय ले सकती हैं.

pregnancy diet


बेहतर है कि आप गर्भावस्था के दौरान मदिरा का सेवन बंद कर दें। यदि आप गर्भावस्था के दौरान भी पीना चाहें, तो सप्ताह में एक या दो बार, एक या दो यूनिट से ज्यादा शराब न लें। नशे में धुत्त तो कभी न हों.

जल जनित बीमारियों के खतरे से बचने के लिए आपको सुनिश्चित करना होगा कि आप फिल्टर किया हुआ, बोतल बंद या उबला हुआ पानी ही पीएं.



No comments

Powered by Blogger.