प्रेगनेंसी में काली मिर्च खाएं या नहीं खाएं | Eat black pepper in pregnancy or not

आज हम प्रेगनेंसी के दौरान काली मिर्च खाने को लेकर बात कर रहे हैं. हम इसके विभिन्न पहलुओं पर बात करेंगे. जो इस प्रकार से हैं.

सर्वप्रथम क्या प्रेगनेंसी में काली मिर्च खाना सही होता है. काली मिर्च की न्यूट्रिशन वैल्यू क्या होती है.
काली मिर्च को अपने भोजन में कैसे शामिल करें. सावधानियां


इन सब बातों पर चर्चा करेंगे ताकि आप इस बात का पता लगा सके कि आपकी सेहत के अनुसार आपके शरीर के अनुसार आपको काली मिर्च खाने चाहिए या नहीं खानी चाहिए.


प्रेगनेंसी के दौरान बहुत-सी महिलाओं को क्रेविंग की समस्या नजर आती है ऐसे में कुछ महिलाएं मसाले के प्रति काफी ज्यादा आसक्ति रखती हैं, अर्थात उन्हें मसालेदार चीजें खाने की काफी ज्यादा इच्छा होती है.



लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान तेज मसाला जैसे कि हरी मिर्च लाल मिर्च आदि का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है. क्योंकि आपको एसिडिटी सीने में जलन और पाचन सहित कई अन्य समस्याएं हो सकती है इन सब के बजाय अपनी इच्छा की पूर्ति के लिए गर्भवती महिला को काली मिर्च का प्रयोग करना चाहिए.

Eat black pepper in pregnancy or not


काली मिर्च की तासीर काफी गर्म होती है. इसलिए काली मिर्च अधिक नहीं खानी चाहिए. लेकिन इसके अंदर काफी सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं. इसका फायदा गर्भवती महिला को हो सकता है.


क्या गर्भावस्था के दौरान काली मिर्च खाना सुरक्षित है

प्रेगनेंसी के दौरान कालीमिर्च का सेवन करना फायदेमंद रहता है और यह सुरक्षित भी है, लेकिन तभी तक जब आप इसकी संयमित मात्रा ही अपने भोजन में शामिल करें. आपके अनुसार इसकी संयमित मात्रा कितनी है. यह आप अपने डॉक्टर से जान सकते हैं.

अगर आप कुछ तीखा खाना चाह रहे हैं तो काली मिर्च का प्रयोग आप अपने भोजन में जीरा पाउडर के साथ मिलाकर सलाद में कर सकते हैं , वेजिटेबल्स में इसका प्रयोग कर सकते हैं.

काली मिर्च न्यूट्रिशन वैल्यू

काली मिर्च के अंदर पोषक तत्व काफी अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं इसके अंदर आपको विटामिन सी और दूसरे विटामिन मिलेंगे. इसके अलावा इसके अंदर --
आयरन,
कैल्शियम,
पोटेशियम,
मैग्नीशियम,
कॉपर जैसे मिनरल्स भी पाए जाते हैं.

यह एक अच्छा एंटी ऑक्सीडेंट है.


काली मिर्च को अपने भोजन में कैसे शामिल करें

भारत देश के विभिन्न हिस्सों में काली मिर्च को विभिन्न प्रकार से अपने भोजन में शामिल किया जाता है इसमें मुख्यता यह भोजन में मसाले के रूप में प्रयोग लाई जाती है जब हम घर का मसाला तैयार करते हैं तो उसमें काली मिर्च एक कंपोनेंट के रूप में प्रयोग होती है.

सर्दी खांसी में शहद में मिलाकर भी काली मिर्च का प्रयोग किया जाता है.

जाड़ों में चाय के अंदर काली मिर्च का प्रयोग कर सकते हैं.

घर में जो भी दाल, सब्जियां बनती है उसके अंदर आप एक चुटकी काली मिर्च सब्जी बनाने के बाद छिड़ककर आप प्रयोग कर सकते हैं.

सलाद के ऊपर भी काली मिर्च छिड़ककर बहुत से स्थानों पर प्रयोग में लाई जाती है. 

गर्मियों में दही में डालकर काली मिर्च का प्रयोग किया जा सकता है.

सावधानियां

प्रेगनेंसी के दौरान काली मिर्च को बहुत अधिक प्रयोग में नहीं लाना चाहिए. इसकी संयमित मात्रा ही प्रयोग में लाएं.
गर्मियों के मौसम में काली मिर्च का सेवन करने से बचना चाहिए.

अगर आपको गर्भपात की समस्या पहले हुई है या होने का डर है तो काली मिर्च का प्रयोग करने से पहले डॉक्टर से  अवश्य पूछे.

बहुत अधिक पुरानी काली मिर्च का प्रयोग अपने भोजन में नहीं करें.

अगर आपको काली मिर्च से एलर्जी है तो आप प्रेगनेंसी में बिल्कुल भी काली मिर्च नहीं खाए.

Post a Comment

Previous Post Next Post

India's Best Deal