प्रेगनेंसी किट कितनी देर में बताती है कि प्रेगनेंसी है या नहीं | प्रेगनेंसी टेस्ट कब, कैसे, कितने दिन बाद करना चाहिए

 ऐसे बहुत सारे प्रश्न आते हैं, कि हमने प्रेगनेंसी किट के द्वारा टेस्ट किया और हम कंफर्म नहीं हो पा रहे हैं, कि टेस्ट पॉजिटिव है या नेगेटिव है.

कुछ महिलाओं के प्रश्न आते हैं कि हमने प्रेगनेंसी किट से टेस्ट किया है. लेकिन हमने 10 मिनट बाद देखा तो दोनों लाइने नजर आ रही थी . जिसमें एक लाइन हल्की गुलाबी नजर आ रही थी क्या मैं गर्भवती हूं. 

आज 2 प्रश्नों को लेकर चर्चा करने जा रहे हैं 

प्रेगनेंसी किट कितनी देर में बताती है कि प्रेगनेंसी  है या नहीं
प्रेगनेंसी टेस्ट कब, कैसे, कितने दिन बाद करना चाहिए.


प्रेगनेंसी चेक में प्रेगनेंसी हारमोंस की मात्रा

दोस्तों पहले हम आपको यह बता दें कि जब हम प्रेगनेंसी चेक करते हैं तो आखिरकार यूरिन के द्वारा प्रेगनेंसी हम क्यों चेक करते हैं.

दोस्तों जब भी कोई महिला गर्भवती होती है, तो जैसे ही उसकी प्रेगनेंसी कंफर्म होती है. सबसे पहले एक प्रेगनेंसी हारमोंस जिसे हम एचसीजी हार्मोन के नाम से जानते हैं. वह हारमोंस महिला के शरीर में बनने लगता है. इस हारमोंस के बनने से ही यह कंफर्म होता है, कि महिला गर्भवती है.

यहां प्रेगनेंसी कंफर्म होने से हमारा मतलब यह है, कि प्रेगनेंसी हो गई है.

HCG हारमोंस महिला के शरीर में शुरुआती समय में बनता है, तो यह महिला के ब्लड और यूरिन के अंदर नहीं पाया जाता है.  जैसे-जैसे यह हारमोंस अधिक मात्रा में बनने लगता है, तो यह महिला के ब्लड और यूरिन में उचित मात्रा में प्राप्त होने लगता है. 

प्रेगनेंसी किट कितनी देर में बताती है कि तक प्रेगनेंसी  है या नहीं | प्रेगनेंसी टेस्ट कब, कैसे, कितने दिन बाद करना चाहिए

यह हार्मोन हर 24 घंटे में अपनी क्वांटिटी का डबल हो जाता है, तो गर्भवती के पीरियड मिस होने से लेकर अगले 4 से 5 दिन तक यह इतनी उचित मात्रा में शरीर में आ जाता है, कि इसके द्वारा अर्थात इस हार्मोन का पता लगाकर कि यह हारमोंस महिला के शरीर में है, या नहीं है. प्रेगनेंसी कंफर्म की जाती है.

प्रेगनेंसी टेस्ट कब, कैसे, कितने दिन बाद करना चाहिए

यहां  हमने आपको बताया है, कि पीरियड मिस होने से लेकर अगले 4 से 5 दिन.  यह 4 से 5 दिन ,  7 से 8 दिन भी हो सकते हैं. यह महिला महिला पर निर्भर करता है. किसी महिला में यह हारमोंस पीरियड मिस होने वाले दिन से या उसके 2 दिन बाद 3 दिन बाद से ही अच्छी मात्रा में बनने लगता है.

किसी किसी महिला को यह 7 से 8 दिन में इतना बनता है, कि प्रेगनेंसी चेक हो सके.  मतलब कुछ महिलाओं को पीरियड मिस होने के 7 से 8 दिन के बाद प्रेगनेंसी कंफर्म होती है.

अगर आप यह पता नहीं लगा पा रहे हैं, कि महिला को प्रेगनेंसी है, या नहीं है. कभी-कभी लक्षण आ रहे होते हैं, और Result Negative (नेगेटिव) दिखा रहा होता है.

हम लोग कंफ्यूज हो जाते हैं, तो आप प्रेगनेंसी मिस होने वाले तारीख से 8 से 10 दिन बाद चेक करें बिल्कुल कंफर्म हो जाएगा.

कभी-कभी ऐसा भी होता है, कि लक्षण किसी और कारण की वजह से आ रहे होते हैं. हार्मोन अल डिसबैलेंस की वजह से पीरियड मिस हो जाते हैं, और हम समझते हैं कि प्रेगनेंसी है. 8 दिन के बाद चेक करें जो रिजल्ट आता है वह सही होगा.

कभी-कभी जिस किट से आप चेक कर रहे होते हैं वह किट खराब होती है. इस कारण से भी कंफर्म नहीं होता.

जब आप प्रेगनेंसी चेक करें तो मॉर्निंग के पहले यूरिन से ही चेक करें क्योंकि उसके अंदर एचसीजी हार्मोन का लेबल उच्चतम होता है रिजल्ट सबसे सही आता है

प्रेगनेंसी किट कितनी देर में बताती है कि प्रेगनेंसी  है या नहीं

यह प्रश्न भी कई बार आता है कि मैंने 10 मिनट के बाद देखा तो एक लाइन जिसके ऊपर C लिखा है वह डार्क पिंक है, और दूसरी लाइन भी हल्की-हल्की नजर आ रही है तो क्या मैं गर्भवती हूं.

हम यहां क्लियर अपने सभी दर्शकों को यह बताना चाहते हैं कि जो भी दंपत्ति प्रेगनेंसी चेक करते हैं तो उन्हें सबसे पहले तो मॉर्निंग का पहला यूरिन लेना चाहिए.

 जो प्रेगनेंसी किट होती है, उसमें एक ड्रॉपर आता है. उससे मात्र दो से तीन बूंद ही प्रयोग में लानी चाहिए.

2 से 3 मिनट के अंदर जो रिजल्ट आता है. वही रिजल्ट सही होता है. अगर 2 से 3 मिनट के अंदर लाइन हल्की पिंक नजर आती है, और एक डार्क लाइन नजर आती है. तो प्रेगनेंसी हो सकती है.

 आप 2 से 3 दिन बाद या 5 दिन बाद फिर से चेक करें, लेकिन अगर दो से 3 मिनट तक मात्र एक ही लाइन नजर आ रही है और उसके कुछ देर बाद दूसरी लाइन नजर आने लगती है. वह भी हल्के से, तो वह रिजल्ट नहीं माना जाता है.

 जो रिजल्ट 2 से 3 मिनट में आ गया है वही कंफर्म होता है.
तो हमें उम्मीद है आगे हमारे दर्शक कंफ्यूज बिल्कुल भी नहीं होंगी.

Post a Comment

Previous Post Next Post

India's Best Deal