प्रेगनेंसी में हींग खाना चाहिए या नहीं खाना चाहिए

0
380

नमस्कार दोस्तों , प्रेगनेंसी में हींग खाना चाहिए या नहीं खाना चाहिए, इस विषय पर बात कर रहे हैं. क्या प्रेगनेंसी के दौरान हींग खाना सुरक्षित रहता है, या इनको नहीं खाना चाहिए. इस संबंध में बात करेंगे.

आप बड़े आसानी से इस बात का पता लगा सके कि आपको प्रेगनेंसी के दौरान हींग खाने में किन किन बातों की सावधानी रखनी चाहिए या फिर नहीं खाना चाहिए. 

दोस्तों यह एक ऐसा खाद्य पदार्थ है, जो भारतीय रसोई के बहुत बड़ी मात्रा में प्रयोग में लाया जाता है.  इसका प्रयोग रोजाना सब्जी को फ्राई करने के दौरान किया जाता है. यह एक मसाला होने के साथ-साथ औषधीय गुण भी रखता है. लेकिन क्या प्रेगनेंसी में लिया जा सकता है.

प्रेगनेंसी में हींग खाना चाहिए या नहीं खाना चाहिए

गैस जैसी समस्याओं में हींग का प्रयोग करना बताया जाता है. अगर आपको सांस लेने में समस्या हो रही है, तो यह काफी फायदेमंद माना जाता है. इसके और भी काफी सारे स्वास्थ्य लाभ है. लेकिन इसे सावधानीपूर्वक खाने की सलाह भी दी जाती है.

प्रेगनेंसी में हींग खाने के संभावित नुकसान

  • भारत में भोजन तैयार करने में, हींग को बहुत कम मात्रा (सिर्फ एक चुटकी) में मिलाया जाता है ताकि गर्भावस्था के दौरान इसे कोई नुकसान न पहुंचे. हालांकि, हींग का ओवरडोज गर्भवती महिलाओं के लिए असुरक्षित साबित हुआ है. कच्ची हींग खाने से इसके तेज स्वाद के कारण मिचली और उल्टी भी हो सकती है.
  • यदि आप हींग का बहुत अधिक सेवन करते हैं, तो सूजे हुए होंठ, डकार, गैस बनना, गला संक्रमण और दस्त होने की संभावना है. ब्लड प्रेशर की समस्या वाली गर्भवती माताओं के लिए, हींग ब्लड प्रेशर नियंत्रण में हस्तक्षेप के कारण प्रतिबंधित है.
  • कुछ शोधकर्ताओं का ऐसा मानना है कि यदि गर्भवती महिलाएं हींग का इस्तेमाल करती हैं तो उन्हें गर्भपात का अंदेशा बढ़ जाता है क्योंकि इसके अंदर ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो बच्चे के नुकसान दायक होते हैं, और वह संकुचन को बढ़ावा देने का कार्य करते हैं.
  •  हींग को एक उच्च कोटि का गर्भनिरोधक माना जाता है. तो ऐसे में कुछ गुण होने के साथ-साथ प्रेगनेंसी के मद्देनजर इसका प्रयोग करना ठीक नहीं रहता है.
  • अगर आपको हींग से एलर्जी है तो भी आपको होंठों में सूजन, गैस, गले में इन्फेक्शन, दस्त, आदि चीज़ें हो सकती हैं.
  • हींग में मौजूद तत्व विशेष रूप से बच्चे के शरीर में दूध के जरिये मिलकर शिशु के शरीर में ब्लड डिसऑर्डर की समस्या उत्पन्न कर सकता है. इसलिए इसका सेवन प्रेग्नेंट और स्तनपान करवाने वाली महिला को नहीं करनी चाहिए.
  • अधिक हींग का सेवन करने से महिला के दूध में भी इसकी गंध आ सकती है. जिसकी वजह से बच्चे आपका दूध पीना छोड़ सकता है. इसलिए आपको प्रेगनेंसी के बाद भी जब तक आप दूध पिला रहे हैं, आपको हींग नहीं लेना है या फिर अत्यधिक कम मात्रा में लेना है.
  • जिन महिलाओं को गर्भपात की समस्या अक्सर रहती है या जिन्हें डॉक्टर द्वारा प्रग्नैंसी में गर्भपात का खतरा बताया जाता है. उन्हें अलग से प्रिकॉशंस रखने की सलाह दी जाती है. ऐसी महिलाओं को हींग का सेवन थोड़ी भी मात्रा में अपने भोजन के द्वारा नहीं करना चाहिए.
  • जिन महिलाओं को प्रेगनेंसी होने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है, या प्रेगनेंसी नहीं हो रही है, और वह अपने भोजन में हींग का इस्तेमाल करती है, तो उन्हें हींग का इस्तेमाल बंद कर देना चाहिए.
  • .क्योंकि इसके अंदर पाए जाने वाले एंटी प्रेगनेंसी गुण आप की प्रेगनेंसी को रोक सकते हैं आप 4 से 5 लोगों के भोजन में एक चुटकी हींग डालती है, तो यह सामान्य माना जाता है, लेकिन अगर प्रेगनेंसी होने में पहले से ही समस्या है, तो आपको इतना भी नहीं लेना चाहिए.

किस स्थिति में हींग का सेवन लाभदायक हो सकता है

  • पेट दर्द, इनडाईजेसन और गैस की स्थिति में हींग का पानी पीना बेहद लाभदायक हो सकता है.
  • उल्टी और दस्त होने पर भी इसका सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है.
  • महिलाओं में अचानक ही पीरियड रुक जाने पर asafoetida का उपयोग करने से लाभ मिल सकता है.
  • हालांकि हींग के कुछ फायदे हैं लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान उसके नुकसान ज्यादा होते हैं इसलिए आपको प्रेगनेंसी के दौरान हींग खाने से बचना है.

हींग का अध्ययन चल रहा है, अस्थमा, खाँसी, ब्रोंकाइटिस, गले में खराश, क्रुप, H1N1 स्वाइन फ्लू आदि के रोगियों के लिए भी फायदेमंद पाया जाता है. हींग भी पेट, जलन, पेट की जलन, आंतों की गैस, या चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम के इलाज के लिए जाना जाता है. 

यहां तक कि कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि हींग तंत्रिका संबंधी विकारों और ऐंठन के लिए सहायक है. त्वचा संबंधी समस्याओं में भी यह काफी फायदेमंद साबित नजर आ रहा है लेकिन प्रेगनेंसी में नहीं लेना है.

क्या हींग से गर्भ गिरना संभव है

हींग एक मसाला है जो भारतीय रसोई में आमतौर पर पाया जाता है. यह प्रकृति में काफी गर्म होता है और इसका स्वाद बहुत ही तीखा होता है. इसकी बहुत थोड़ी सी मात्रा एक समय के भोजन में प्रयोग में लाई जाती है.

प्रेगनेंसी के दृष्टिकोण से हींग का प्रयोग प्रेग्नेंसी के समय ना के बराबर ही करना चाहिए.  आपको प्रेगनेंसी में इसकी मात्रा का ज्ञान अवश्य होना चाहिए.

4 से 5 व्यक्तियों के भोजन में हींग का प्रयोग दो से तीन चुटकी ही किया जाता है. इतनी मात्रा से ही इसका स्वाद भोजन में आ जाता है.

अगर गर्भवती महिला प्रेगनेंसी के दौरान एक चौथाई चम्मच हींग का प्रयोग 1 दिन में करती है तो यह प्रेग्नेंसी के लिए काफी नुकसानदायक हो जाता है. संकुचन की अवस्था बन जाती है.

अगर महिला की प्रेगनेंसी कमजोर है और  उसके साथ गर्भपात की स्थिति हो सकती है, तो ऐसी महिला को हींग का प्रयोग अपने भोजन में बिल्कुल नहीं करना चाहिए. यह महिला को गर्भपात की ओर ले जा सकता है.

 मजबूत और सामान्य प्रेगनेंसी में घर में प्रयोग होने वाले हींग की सामान्य मात्रा ही लेनी चाहिए और इसमें प्रेगनेंसी को कोई खतरा नहीं होता है.

तो हम कह सकते हैं हींग से गर्भ गिराना संभव है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें