Header Ads


Pregnancy Care items

गर्भावस्था के दौरान मकई दाने के लाभ और साइड इफेक्ट | Corn grains or popcorn during pregnancy

 हम चर्चा करने जा रहे हैं, प्रेगनेंसी के दौरान मक्का के दाने या पॉपकॉर्न खाने को लेकर. क्या प्रेगनेंसी के दौरान पॉपकॉर्न खाना चाहिए या नहीं खाना चाहिए. अगर आप इस दुविधा में है तो आप की दुविधा को समाप्त कर देंगे. आज के टॉपिक है.
क्या मकई दाना प्रेगनेंसी में सुरक्षित है.

मकई दाना गर्भावस्था के दौरान कब खाना चाहिए.
मकई के पोषक तत्व कौन कौन से होते हैं.
मकई दाने के लाभ और साइड इफेक्ट.
कुछ जरूरी बातें सावधानियां.
अपने भोजन में मकई कैसे शामिल करें.


corn grains or popcorn during pregnancy

क्या मकई दाना खाना सुरक्षित है

मकई दाना काफी पौष्टिकता से भरपूर होते हैं. प्रेगनेंसी के दौरान मकई दाना, अगर हम संयमित मात्रा में खाएं तो यह नुकसान नहीं देता है. वैसे सभी महिलाओं की प्रेगनेंसी एक समान नहीं होती है. इसलिए इसका सेवन करने से पूर्व अगर आप अपने डॉक्टर से एक बार कंसल्ट कर ले तो ज्यादा सही रहेगा.

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में अदरक खाने के फायदे और नुकसान
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में कौन सी चाय फायदा करती है कौन सी चाय नुकसान
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में कौन से 14 ड्राई फ्रूट खाने चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में चिकन खाने के फायदे
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में प्याज खाने के लाभ और नुकसान

मकई दाना कब खाएं

मकई दाना के लिए कहा जाता है, कि इसे संयमित मात्रा में ही खाना चाहिए. और डॉक्टर से पूछ कर ही खाना चाहिए. कब खाना चाहिए और कितनी मात्रा में खाना चाहिए, इसकी जानकारी भी आपको अपने डॉक्टर से ही लेना उचित रहता है.

मकई दाने के पोषक तत्व

मकई दाने में काफी सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं इसके अंदर आपको सभी प्रकार के फैटी एसिड मिलेंगे साथ ही साथ विटामिन K, विटामिन E, विटामिन A, फॉलेट, विटामिन B6, नियासिन, थायमिन, राइबोफ्लेविन, पैंटोथैनिक एसिड आदि विटामिंस इसके अंदर होते हैं.


काफी सारे मिनरल्स भी मकई दाना में पाए जाते हैं जैसे कि पोटेशियम, सोडियम, जिंक, मैंगनीज ,सेलेनियम, कॉपर, फास्फोरस, मैग्नीशियम, कैल्शियम, और आयरन इत्यादि.

 
दूसरे मुख्य पोषक तत्व जैसे कि कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, शुगर, प्रोटीन , जल और ऊर्जा भी इसके अंदर होते हैं.

मकई दाने से होने वाले फायदे

  • मक्का के अंदर आयरन उचित मात्रा में होता है. इसकी कमी से एनीमिया रोग होने की संभावना होती है. आयरन खून के अंदर होमोग्लोबिन नामक प्रोटीन बनाने का कार्य करता है, जो कि पूरे शरीर के अंदर ऑक्सीजन पहुंचाने का कार्य करता है.  भ्रूण के लिए भी आयरन काफी महत्वपूर्ण होता है, उसके विकास में मदद करता है.


  • मकई दाना में काफी सारे विटामिंस पाए जाते हैं. यह सभी विटामिन महिला के स्वास्थ्य के लिए और गर्भस्थ शिशु के विकास के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण होते हैं.


  • कभी-कभी गर्भावस्था के दौरान आयरन और जिंक जैसे मिनरल्स की कमी के कारण बाल झड़ने लगते हैं. अगर महिला मकई दाना अपने भोजन में शामिल करती है,तो बाल झड़ने की समस्या में काफी राहत नजर आती है.


  • गर्भस्थ शिशु के जन्म दोषों को दूर करने में मकई दाना महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है. क्योंकि इसके अंदर लगभग लगभग सभी आवश्यक पोषक तत्व, मिनरल्स, विटामिन होते हैं जो गर्भस्थ शिशु को जन्म दोष से बचा सकते हैं.


  • गर्भवती स्त्री की आंखों की समस्या के लिए मकई दाना लाभदायक होता है.


  • अगर गर्भवती स्त्री के शुरुआती समय में मकई जाने का इस्तेमाल करती है तो उसे मतली जैसी समस्याओं में काफी राहत मिल सकती है.

मकई दाना के साइड इफेक्ट

 मकई दाना के साइड इफेक्ट भी नजर आते हैं. इसीलिए इसे खाने से पहले डॉक्टर से सलाह लेने की बात कही जाती है.


  •  मकई दाना में काफी अच्छी मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है, जो मधुमेह का कारण बन सकता है. और गर्भावस्था के दौरान रक्तचाप बढ़ने का कारण भी बन सकता है. अगर महिला को पहले से ही उच्च रक्तचाप की समस्या प्रेगनेंसी के दौरान नजर आ रही है, तो मकई दाना बिल्कुल नहीं खाना है.


  • प्रेगनेंसी के दौरान मकई दाना खाने से अपच की समस्या का सामना करना पड़ सकता है. और वैसे भी प्रेग्नेंसी के दौरान कब्ज की समस्या रहती है.


  • मकई दाना में कार्बोहाइड्रेट भी उचित मात्रा में पाया जाता है. इसलिए यह है वजन बढ़ाने का कार्य भी करता है. अगर गर्भावस्था के दौरान महिला का वजन पहले से ही अधिक है, तो मकई दाना खाने से परहेज करें.


  • शरीर में ग्लूकोस का मुख्य स्रोत कार्बोहाइड्रेट होता है, जो कि मकई में काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है. इस कारण से मधुमेह की समस्या होने का खतरा रहता है.


  • प्रेगनेंसी के दौरान कुछ मकई उत्पादों को खाने से बचना चाहिए. जिनमें सबसे मुख्य उत्पाद है, पॉपकॉर्न इसके साथ-साथ कॉर्न सिरप और कॉर्न स्टार्च को भी अपने भोजन में शामिल करने से बचें.

इन्हें भी पढ़ें : यह खाद्य पदार्थ प्रेगनेंसी में कम ही खाएं
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान कितना तरबूज खाना चाहिए और कब
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में खीरा खाने के 8 फायदे और 6 नुकसान
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में आम खाने के नुकसान और फायदे
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में लौकी का जूस पीते समय यह ध्यान रखना

आवश्यक सावधानियां

  1. आपको प्रेगनेंसी के दौरान हमेशा ताजे मकई दानों का ही सेवन करना है.
  2. कम भुना  या कच्चा मकई खाना असुरक्षित होता है.
  3. इसे हमेशा अच्छे से भूनकर या उबालकर ही खाएं.
  4. मकई को हमेशा एयर टाइट डब्बे में बंद करके ही फ्रिज में रखें.
  5. जब तक आप मक्के का सेवन नहीं करते हैं तब तक उसके छिलके को उसके ऊपर से ना उतारे.
  6. ऑलरेडी प्रिपेयर्ड पैक्ड फूड खाने से परहेज करें.

कैसे भोजन में शामिल करें

  1. आप भुट्टे को भून कर के भी खा सकते हैं.
  2. मकई दाना को उबालकर उसमें नमक मिलाकर भी सेवन किया जा सकता है.
  3. मकई को घर पर बने पिज़्ज़ा पास्ता अन्य व्यंजनों में भी डाल कर खाया जा सकता है.
  4. मकई का सलाद और सूप भी बनाया जाता है इस प्रकार से भी से भोजन में शामिल कर सकते हैं.

 


 


No comments

Powered by Blogger.