प्रेगनेंसी में मछली | 1 हफ्ते में महिला कितनी मछली खा सकती है

0
123
प्रेगनेंसी में मछली

प्रेगनेंसी में मछली खाने से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बातों पर.

कौन सी मछली प्रेगनेंसी के दौरान हफ्ते में एक बार खाई जानी चाहिए. कौन सी मछली हफ्ते में दो बार खाई जाना ठीक रहता है. कौन सी मछली प्रेगनेंसी के दौरान बिल्कुल नहीं खानी चाहिए.1 दिन में महिला कितनी मछली खा सकती है. मछली खाते समय किन किन सावधानियों को रखें.

जिन मछलियों में पारा अधिक होता है, उन्हें खाना खतरनाक क्यों होता है, और दूसरी जरूरी बातें इन सब पर चर्चा कर रहे हैं. 

प्रेगनेंसी के दौरान मछली खाने के फायदे और नुकसान को लेकर हम दूसरे आर्टिकल में चर्चा कर चुके हैं.

आज हम बात कर रहे हैं, की प्रेगनेंसी के दौरान कौन-कौन सी मछलियां प्रेगनेंसी के दौरान हफ्ते में एक बार खाई जा सकती है. कौन सी मछली प्रेगनेंसी के दौरान हफ्ते में दो बार खाई जा सकती है.
इसके पहले बात करते हैं कि प्रेगनेंसी के दौरान 1 दिन में कितनी मछली खा सकते हैं.

प्रेगनेंसी में मछली | 1 दिन में महिला कितनी मछली खा सकती है

एक दिन में कितनी मछली खाएं

किसी भी महिला की डाइट काफी सारी बातों पर निर्भर करती है. जैसे कि —
प्रेगनेंसी से पहले महिला किस प्रकार का भोजन करती आ रही है.
महिला का लाइफस्टाइल किस प्रकार का है.
महिला जिस क्षेत्र में रहती है, वहां का एनवायरमेंट कैसा है.
प्रेगनेंसी के दौरान महिला के शरीर की प्रकृति किस प्रकार की है.
महिला की ओरिजिनल डाइट कैसी है.
इस आधार पर हर एक महिला की 1 दिन में  मछली खाने की खुराक अलग-अलग हो सकती है.
लेकिन स्टैंडर्ड की बात करें, तो महिला लगभग 1 दिन में 113 ग्राम मछली खा सकती है.

प्रेगनेंसी में हफ्ते में एक बार खाई जाने वाली मछलियां

यह कुछ मछलियों के नाम है जो आप हफ्ते में एक बार बड़े आराम से खा सकती हैं इनके नाम आपकी स्क्रीन पर दिखाई पड़ रहे हैं..

  • फ्लाउंडर
  • अटलांटिक क्रॉकर
  • ब्लैक सी बास
  • एन्कोवी
  • कैट फिश
  • क्लैम
  • क्रा फिश
  • अटलांटिक मैकेरेल
  • बटर फिश

और भी दूसरी प्रजाति की मछलियां हो सकती हैं, जिन्हें प्रेगनेंसी के दौरान 1 हफ्ते में एक बार खाना चाहिए. जिनका नाम यहां नहीं है. उनके विषय में आप अपने डाइट एक्सपर्ट से जान सकते हैं.

प्रेगनेंसी के दौरान हफ्ते में 2 बार खाई जाने वाली मछलियां

  • शीप्सहेड
  • बफैलो फिश
  • कार्प फिश
  • मोंक फिश
  • स्नैपर
  • ग्राउपर
  • हैलीबट
  • माही फिश
  • ब्लू फिश
  • रॉक फिश
  • सेबल फिश

यह सब मछलियां हफ्ते में दो बार खाई जा सकती हैं. इस प्रकार की दूसरी प्रजाति के विषय में आप अपने डाइट एक्सपर्ट से पता कर सकते हैं.

इन मछलियों को प्रेगनेंसी में नहीं खाना चाहिए

ऐसी बहुत सारी मछलियां है, जो भोजन के तौर पर काफी लोकप्रिय हैं. लेकिन उनके अंदर पारे की मात्रा कुछ अधिक होती है. ऐसी मछलियों को प्रेगनेंसी के दौरान खाने से बचना चाहिए.

  • मार्लिन
  • ट्यूना फिश
  • बिगेये फिश
  • शार्क
  • सार्ड फिश
  • टाइल फिश
  • किंग मैकेरल
  • ऑरेंज रफी

प्रेगनेंसी में मछली खाने में क्या क्या सावधानी रखें

मछली को अच्छे से ही साफ करके अपने भोजन के प्रयोग में लाना चाहिए.

जब आप बाजार से मछली खरीद कर लाते हैं. तो उसकी सिर,आते, किडनी, लीवर आदि जो पार्ट होते हैं, उन्हें निकलवा दें. क्योंकि उनमें हानिकारक तत्व होने की संभावना होती है.

प्रेगनेंसी के लिए जो भी मछलियां आप प्रयोग में लाते हैं. उन्हें स्वच्छ पानी में पाला गया हो. स्वच्छ पानी की मछलियों का ही प्रयोग करें.
इस बात का विशेष ध्यान रखें कि मछली को अच्छी तरह से पका कर ही प्रेगनेंसी में मछली खानी चाहिए. इससे उसमें मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया समाप्त हो जाते हैं.
जिन भी महिलाओं को मछली से एलर्जी है. उन्हें प्रेगनेंसी के दौरान पौष्टिकता के लिए मछली का प्रयोग बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए.

कुछ प्रश्न

क्या प्रेगनेंसी में रोहू मछली खाएं.

पहले भी बताया है, कि प्रेगनेंसी में ऐसी मछलियों का प्रयोग नहीं करना चाहिए. जिनमें उच्च मरकरी होता है. रोहू ऐसी मछली है. जिसमें मरकरी की मात्रा अधिक होती है. प्रेगनेंसी में नुकसानदायक है.

स्थानीय जल में पाली गई मछलियां, क्या प्रेगनेंसी में खानी चाहिए.

 यह इस बात पर निर्भर करता है, कि मछलियों को किस प्रकार के पानी में पाला गया है. अक्सर स्थानीय मछलियों वाले पानी में हानिकारक तत्व होने की संभावना अधिक होती है. क्योंकि यह पानी बहता नहीं है. इसलिए इनसे बचने की कोशिश करें.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें