Header Ads

गर्भ में लड़का हो ने के 8 लक्षण : मिथक या सच्चाई | Part 1

प्रेग्नेंसी के समय ऐसे लक्षण जिनसे हम यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि गर्भ में लड़का है या लड़की है जो लक्षण लगभग लगभग 70 से 80% तक फिट बैठते हैं उनमें से बहुत सारे लक्षणों को मिथक माना जाता है क्योंकि मिथक साइंस के द्वारा माना जाता है और साइंस किसी भी चीज को 100% सिद्ध होने पर ही मानती है ऐसे बहुत सारे लक्षण हैं जिन्हें साइंस नहीं मानती है कि यह गर्भ में लड़का है या लड़की है यह बताने के लक्षण है ऐसे ही कुछ लक्षणों पर हम चर्चा करते हैं जिन्हें समाज में जेंडर परीक्षण के लिए प्रयोग में लाया जाता है लेकिन इन्हें साइंस मिथक मानती है.


गर्भ में लड़का हो ने के 8 लक्षण : मिथक या सच्चाई


1.चेहरे पर  कील मुंहासे निकलना - Face per Pimples Hona

ऐसा माना जाता है कि गर्भावस्था के दौरान अगर गर्भ में लड़का होता है तो महिला के चेहरे पर कील मुंहासे ज्यादा निकलते हैं.
विज्ञान के अनुसार ऐसा कुछ भी नहीं होता है असल में गर्भावस्था के दौरान हारमोंस के स्तर में उतार-चढ़ाव होने की वजह से त्वचा संबंधी परेशानियां होती हैं इनका लड़का होने से कोई लेना-देना नहीं है ऐसा वैज्ञानिक मानते हैं. 


2. गर्भवती का वजन ज्यादा बढ़ना - Pregnancy me Weight jayada Hona

ऐसा माना जाता है कि अगर गर्भवती स्त्री का वजन अपेक्षाकृत ज्यादा बढ़ता है तो गर्भ में महिला के लड़का होता है और वह ज्यादा खाना भी खाती है.
वैज्ञानिकों का मानना है कि गर्भावस्था में खानपान गर्भ में शिशु के विकास की वजह से घट बढ़ सकता है. अगर गर्भ में लड़का है तो ऐसा नहीं है, कि वजन तेजी से बढ़ेगा यह गर्भ में लड़की होने के कारण भी हो सकता है यह गर्भ में लड़का होने की बजाय मधुमेह का एक लक्षण हो सकता है. इस वजह से भी आपका वजन घट बढ़ सकता है.

3. प्रेग्नेंसी के समय सर दर्द की समस्या - Pregnancy me Ser Deard Hona

लड़का होने के लक्षणों में यह भी एक लक्षण है, कि अगर महिला के गर्भ में लड़का होता है तो महिला को सर दर्द की समस्या ज्यादा रहती है. लेकिन वैज्ञानिक इसे एक मिथक ही मानते हैं. क्योंकि प्रेगनेंस क्योंकि गर्भावस्था के दौरान तनाव, पानी की कमी और थकान जैसी समस्याएं सर दर्द का कारण होती हैं. इसका गर्भ में लड़का होने से कोई भी संबंध नहीं है, अगर आप इस दौरान व्यायाम करें अपनी डाइट का ख्याल रखें प्रसन्न रहें तो यह समस्या नहीं होगी.

4. पिता का वजन बढ़ना - Father ka Weight Badna

यह एक बड़ा ही पॉपुलर सिम्टम्स माना जाता है. खासकर भारतीय समाज में अगर गर्भ में महिला के बेटा होता है तो महिला के पति का वजन बढ़ता है.
वैज्ञानिकों ने सिर्फ इस पर इतना ही कहा है कि यह तो अत्यंत बचकानी बात है इसका संबंध महिला के गर्भ से किस प्रकार हो सकता है.



5. ठंड के समय गर्भधारण करना - Winter me Pregnant Hona

समाज में माना जाता है कि महिला अगर जाड़े के मौसम में गर्भाधान करती है, तो महिला के गर्भ में काफी हद तक लड़का होने के चांसेस बहुत ज्यादा रहते हैं. लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि इस बात का ठंड से कोई लेना देना नहीं है. अगर यह सच होता तो गर्मियों के मौसम में कोई लड़की ही पैदा नहीं होती.

6. महिला के पेशाब का रंग - Pregnant Women ka Urin Color

माना जाता है कि अगर महिला के पेशाब का रंग अपेक्षाकृत थोड़ा सा गाढ़े रंग का हो गया है तो गर्भ में लड़का है.
लेकिन वैज्ञानिक ऐसा नहीं मानते हैं उनका कहना है कि यह कार्य पानी के ज्यादा या कम पीने की वजह से भी हो सकता है या महिला जो दवाई आदि का सेवन करती हैं उसकी वजह से भी इस प्रकार की घटना हो सकती है इसका गर्भ में लड़का या लड़की होने से कोई संबंध नहीं है.



7. गर्भवती स्त्री को उल्टियां कम - Pregnant Women Ko Vomiting Kam Hona

ऐसा महिलाएं कहती हैं कि अगर गर्भवती स्त्री को उल्टियां कम हो रही है तो यह गर्भ में लड़का है इसकी निशानी है.लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि इसमें कोई सच्चाई नहीं है. किसी महिला को ज्यादा या किसी महिला को कम उल्टी होने की या मतली लगने की समस्या हो सकती है. यह सब महिलाओं के हारमोंस के उतार-चढ़ाव पर निर्भर करता है.

इन्हें भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के समय बुखार क्यों आता है
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान बुखार आने पर सावधानियां
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में अनार खाए या नहीं खाए

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान चाय पीना 
 

8. खट्टा चटपटा खाने का मन करना - Sour, Spicy khane ka Man Hona

माना जाता है कि महिला अगर तीखा खाना पसंद करती है खट्टा खाना पसंद करती है तो घर में लड़का है लेकिन वैज्ञानिकों के अनुसार ऐसा कुछ भी नहीं होता है भोजन खाने की इच्छा सामान्य होती है इसका गर्भ में स्थित लिंग से कोई संबंध नहीं यह मिथक मात्र है.

No comments

Powered by Blogger.