Header Ads

  • Latest

    ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है - शिवलिंगी के बीज | putra prapti ke upay Shivlingi seeds

    नमस्कार दोस्तों आज हम आपके सामने एक POST पुत्र प्राप्ति के संबंध में लेकर आए हैं जिसमें हम आपको शिवलिंगी के द्वारा कैसे एक बंध्या स्त्री भी पुत्र की प्राप्ति कर सकती है दोस्तो आप इस तरीके का इस्तेमाल तभी करें जब आप के यहां एक या दो पुत्री पहले से ही हो.

    {शिवलिंगी के बीज कैसे प्राप्त होंगे इसकी जानकारी आर्टिकल के अंत में दी गई है}

    shivlingi beej how to use, shivlingi beej kab khana chahiye


    You May Also Like : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय - गाय का दूध
    You May Also Like : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका


    पुत्र प्राप्ति का उपाय - Putra Prapti ke Upay



    माना जाता है इसका प्रयोग तभी ज्यादा कारगर होता है जब आप के यहां पहले से ही पुत्रियां होती है,
    ऋषि मुनियों की मानें तो अगर आप पहली संतान या पुत्र होने के बाद भी पुत्र की इच्छा के लिए इसका प्रयोग करते हैं तो महिला को गर्भपात के चांस बन जाते हैं, इस बात का कोई वैज्ञानिक प्रमाण तो नहीं है, बस मान्यता ही है लेकिन शिवलिंगी के बीज अगर महिला और पुरुष दोनों प्रयोग करते हैं तो इससे पुरुषों के स्पर्म में बढ़ोतरी होती है और महिला अगर बच्चे पैदा करने में सक्षम ना हो तो उसके यहां संतान की प्राप्ति होती है वह भी पुत्र संतान की.

    अगर महिला लगातार 21 दिन तक शिवलिंगी के बीजों का सेवन करती है उसके यहां पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है ऐसा आयुर्वेद में माना जाता है | किस तरह से उन बीजों का सेवन करें और क्या क्या सावधानी रखें उस संबंध में चर्चा करते हैं

    You May Also Like : 3 फलों की औषधि से पुत्र प्राप्ति का नुस्खा - इसे खाने से पुत्र की प्राप्ति हो जाती है

    अगर महिला 5 शिवलिंगी के बीजों का रोज सुबह के समय खाली पेट 21 दिन तक सेवन करती है तो महिला को उसके बाद पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है.

    , pregnancy and care, beta, manchai santan


    इसके लिए आप 108 शिवलिंगी के बीजों को खरल में कूट कर अत्यधिक महीन कर ले, पाउडर जितना महीन होगा उतना ही पचने में आसानी होगी, अब इस पिसे हुए पाउडर की आप बराबर बराबर 21 पुड़िया बना ले |


    21 दिनों का यह चूर्ण आपको रोज गाय के दूध के साथ या बकरी के दूध के साथ लेना है

    कुछ बातों का ध्यान रखें

    स्त्री और पुरुष दोनों हैं अर्थात पति और पत्नी दोनों ही 21 दिन तक अपने लिए औषधि तैयार करें.

    You May Also Like : पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि

    शिवलिंगी के बीज ज्यादा पुरानी नहीं होने चाहिए और उन्हें कीड़ा भी ना लगा हो इस बात का भी ध्यान रखें

    जितने दिन आपको औषधि प्रयोग करनी है उससे 10 दिन पहले से आपको तीखा खट्टा मसालेदार नॉनवेज खाना छोड़ना होगा कुल मिलाकर आपका पाचन तंत्र मजबूत होना चाहिए जिससे आप जो भी खाए वह आसानी से पच जाए

    दूध ऐसी गाय या बकरी का होना चाहिए जिसने पुत्र को जन्म दिया है अर्थात बछड़ा या बकरी का बच्चा

    पति पत्नी जब इस उपाय को करें तो किसी तीसरे को ना बताएं इसके पीछे धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों कारण है
    You May Also Like : 3 फलों की औषधि से पुत्र प्राप्ति का नुस्खा - इसे खाने से पुत्र की प्राप्ति हो जाती है
    You May Also Like : ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है - शिवलिंगी के बीज 


    putra prapti ke ayurvedic upay, shivlingi beej for baby boy


    इन दिनों ब्रह्मचर्य का पालन करें, इन दिनों ब्रह्मचर्य का पालन करें और जब महिला को नेक्स्ट महावारी आती है उसके समाप्त होने के 5 दिन बाद से एक हफ्ते तक संतान प्राप्ति का प्रयास करें.
    You May Also Like : आयुर्वेदिक नुस्खे से पुत्र प्राप्ति - शिवलिंगी के बीज और पुत्रजीवक बीज
    You May Also Like : पुत्र प्राप्ति का आयुर्वेदिक नुस्खा (नींबू + दूध + देसी घी)


    अगर आपको इस बार सफलता प्राप्त नहीं होती है गर्भ में संतान प्राप्ति को लेकर तो ठीक इसके बाद आप इसे दोबारा अगले 2 बार और अपना सकते हैं ठीक इसी तरह
    क्योंकि यह एक आयुर्वेदिक उपाय है तो आप किसी वैद्य से भी परामर्श कर सकते हैं.

    अगर आपको शिवलिंगी के बीजों की आवश्यकता है तो आप नीचे दी गई इमेज पर क्लिक करके जान सकते हैं कि आपको शिवलिंगी कैसे प्राप्त होगी और किस कीमत में प्राप्त होगी.





    3 comments:

    1. Jis estri kabhi Santana hi nahi paida hue hai to kya Karen

      ReplyDelete
      Replies
      1. संतान नहीं होने के बहुत सारे कारण होते हैं. इसके लिए तो ट्रीटमेंट ही लेना होगा

        Delete
    2. Shivling bij phle se v le sakte h

      ReplyDelete

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad

    /*################## my map Code ###########*/ /* ########## my code End #######*/