Header Ads

  • Latest

    प्रेगनेंसी में शहद का सेवन कितना फायदेमंद - Honey benefits during pregnancy

    शहद स्वाद से भरा मीठा पदार्थ है। कई लोग चीनी की जगह इसका इस्तेमाल करते हैं। हजारों सालों से इसका इस्तेमाल भोजन और दवाईयों के रुप में किया जाता है। यह सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है लेकिन जब आप प्रेग्नेंट हों तो ये जानना बहुत जरूरी हो जाता है कि कौन सी चीज खानी चाहिए और कौन सी नहीं या कोई भी चीज कितनी मात्रा में खानी चाहिए। इसलिए आपका ये जानना भी जरूरी है कि क्या प्रेंग्नेंसी में शहद खाना सुरक्षित है ? प्रेंग्नेंसी में शहद खाने से क्या फायदे और क्या नुकसान होते है? आज हम आपको बताने जा रहे हैं प्रेंग्नेंसी के दौरान शहद खाने को लेकर आपके मन में उठने वाले हर सवाल का जवाब!!!!

    You May Also Like : प्रेगनेंसी में नारियल पानी का फायदा 
    You May Also Like : प्रेग्नेंसी के समय केला खाने के फायदे

    shahad ke fayde in hindi, shahad ke nuksan

    क्या शहद खाना प्रेंग्नेंसी में सुरक्षित है।
    शहद में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं।
    शहद खाने से क्या लाभ और क्या हानियां हो सकती है।
    कितनी मात्रा में शहद खाना चाहिए।
    कौन सा शहद खाना चाहिए।

    You May Also Like : क्या गाजर खाना प्रेगनेंसी में सुरक्षित है 
    You May Also Like : गर्भावस्था में पत्तागोभी खाना कितना सुरक्षित

    क्या शहद  खाना प्रेंग्नेंसी में सुरक्षित है - Pregnancy me Honey Khana Safe Hai
    भारतीय समाज में प्राचीन काल से ही शहद का प्रयोग औषधि के रूप में किया जा रहा है
    प्रेंग्नेंसी में महिलाओं को अपने खान–पान का खास ख्याल रखना होता है। साथ ही उन्हें इस बात की जानकारी भी होनी जरूरी है कि बच्चे के लिए कौन सी चीज लाभदायक है और कौन सी हानिकारक। ऐसे में सवाल ये उठना लाजिमी है कि क्या गर्भावस्था में शहद का सेवन किया जा सकता है तो इसका जवाब है हां, गर्भावस्था में शहद का सेवन करना सुरक्षित है लेकिन एक संतुलित मात्रा में, साथ ही शहद पाश्च्युरीकृत और प्रमाणित होना चाहिए। जहां तक संभव हो सरकार द्वारा प्रमाणित शहद ही खरीदें।

    शहद में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं Honey ke Poshak Tatva
    शहद के अंदर प्रोटीन, फाइबर, फैट नहीं पाया जाता, इसमें कम मात्रा में बहुत से विटामिन और मिनरल होते हैं। इनमें कैल्शियम, कॉपर, आयरन, मैगनीशियम, फॉसफोरस, पोटैशियम और जिंक शामिल हैं।
    शहद के अंदर फ्रक्टोज़, ग्लूकोज़, सकरोज़, माल्टोज़, उच्च शर्कराएं काफी अच्छी मात्रा में पाई जाती है ।


    अगर आप सही कीमत पर शहद खरीदना चाहते हैं तो आप यहां पर जाकर देख सकते हैं

    कितनी मात्रा में शहद खाना चाहिए - Pregnancy me Kitna Shahad Khana Chaheye
    आमतौर पर एक गर्भवती महिला दो से पांच चम्मच शहद का सेवन कर सकती है परन्तु ध्यान रहें कि इसमें कैलोरी की मात्रा 180 से 200 रहें।
    ऐसी महिलाएं जिन्हें शुगर की समस्या है वह शहद न खाएं।
    तथा ऐसी महिलाएं जो प्रेग्नेंसी के समय मोटापे का शिकार है उन्हें शहर इससे अधिक कम मात्रा में लेना है, वे मैक्सिमम दो चम्मच शहद ही ले ।

    कौन सा शहद खाना चाहिए - Kun sa Shahad Khaye 
    एक बॉटुलिज्म नाम का भी सिंड्रोम  होता है, जो कभी कभी शहद के अंदर पाया जाता है यह आपके शिशु को नुकसान पहुंचा सकता है, अगर आप कच्चे शहद की तुलना में पाश्च्युरीकृत शहद  का प्रयोग करें , तो आपको किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना होगा क्योंकि पाश्च्युरीकृत शहद में बॉटुलिज्म सिंड्रोम समाप्त कर दिया जाता है।

    शहद खाने के लाभ - Honey benefits during pregnancy or Fayade

    kya pregnancy me shahad khana chahiye, can eat honey during pregnancy

    You May Also Like : प्रेगनेंसी के दौरान इन 16 बातों का ध्यान रखें - Part #2
    You May Also Like : गर्भावस्था के प्रथम सप्ताह में नजर आने वाले लक्षण


    इम्यूनिटी सिस्टम को बढ़ाने में मददगार


    शहद आपकी रोग–प्रतिरोधक क्षमता अर्थात आपके इम्यून सिस्टम बूस्ट करता है क्योंकि, इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट के गुण मौजूद होते हैं इस कारण यह आपको कई प्रकार की बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करता है, यहां तक कि इससे छोटे मोटे घाव, पेट में होने वाली जलन तक में बहुत आराम मिलता है।

    इंसोमेनिया में मिलता है

    आराम शहद का हाईपोनेटिक एक्शन यानी कि सम्माोहक कर देने वाले गुण के कारण यह इंसोमेनिया में लाभदायक है। प्रेगनेंसी के दौरान रात को सोने से पहले एक ग्लास दूध में एक चम्मच शहद मिलाने से आप आराम से सो सकती है।

    तनाव से राहत

    एक शोध में यह बात सामने आई है कि जो भी गर्भवती महिला शहद का सेवन करती हैं उनके बॉडी को एंटी-ऑक्सीडेंट मिलता है। क्योंकि, शहद में एंटी-ऑक्सीडेंट की प्रचुर मात्रा पाई जाती है जो आपके बॉडी को ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाने का काम करता है। साथ ही नेचुरल एंटीऑक्सीडेंट न केवल आप में सुधार करता है बल्कि बच्चे के विकास में भी मदद करता है।


    लड़ता है छालों से 

    बहुत से शोधों में खुलासा हो चुका है कि शहद के नियमित सेवन से छालों के लिए जिम्मेदार बैक्टिरियां हेलीकोबैक्टर कम पनता है।

    गले दर्द की समस्या से छुटकारा

    शायद आपको पता होगा कि इसमें एंटीवायरल के गुण मौजूद होते हैं जो आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं, इसलिए गर्भावस्था में यह सर्दी-खांसी से बचा सकता है।
    नींबू या अदरक की चाय में शहद डालकर धीरे-धीरे पीने से गले के दर्द में राहत मिलती है।
    You May Also Like : प्रेगनेंसी से बचने के घरेलू उपाय
    You May Also Like : बेकिंग सोडा और यूरिन से कैसे करते हैं जेंडर प्रेडिक्शन केवल 1 मिनट में - Gender prediction


    सर्दी-जुखाम में मिलती है राहत 


    एंटीवारयल प्रोपर्टी के चलते शहद से प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली सर्दी, कफ और जुखाम में बहुत आराम मिलता है। कफ के लिए शहद एक रामबाण इलाज है।

    नींद की समस्या से राहत

    अक्सर प्रेगनेंसी में नींद की समस्या रहती है, ऐसे में इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप शहद का प्रयोग कर सकती हैं। इसके लिए आप सोने से पहले गुनगुने दूध में एक चम्मच शहद मिलाकर पी लें इससे आपको काफी अच्छी नींद आएगी।

    ऐलर्जी में भी राहत 

    शहद के नियमित सेवन से लगभग सभी तरह कि मौसमी ऐलर्जी से राहत मिलती है।

    रक्त की कमी को दूर करने में मदद

    शहद में प्रोटीन होता है, जिसका सेवन गर्भावस्था में करने से लाभ होता है। शहद में कुछ हार्मोन होते हैं जो गर्भस्थ महिला के रंग-रूप को बनाए रखते हैं। गर्भावस्था में रक्त की कमी आ जाती है। इस दौरान रक्त को बढ़ाने वाली चीजों का सेवन अधिक किया जाना चाहिए। महिलाओं को एक चम्मच शहद प्रतिदिन पिलाते रहने से रक्त की कमी नहीं होती।

    best foods in pregnancy time, garbhavastha, food, shahad

    कब्ज की समस्या से छुटकारा

    प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या बेहद आम है ऐसे में शहद आपको कब्ज की समस्या से छुटकारा दिलाने का काम करता है। इसके अलावा, इसके सेवन से कम भूख लगने और अपच की समस्या से छुटकारा मिलती है।

    शहद के नुकसान - Pregnancy me Shahad ke Nuksan


    गेस्टेशनल डायबिटीज

    अगर आपको गेस्टेशनल डायबिटीज है तो भी आप थोड़ी मात्रा में शहद का सेवन कर सकती है।
     शहद में हाई शुगर पाया जाता है, जिससे रक्त में शर्करा की मात्रा बढ़ जाती हैं और महिला को गेस्टेशनल डायबिटीज की शिकायत हो जाती है।

    अगर आपको ओरिजिनल जंगल की मक्खी का शहद मिलता है तो यह सबसे अच्छा शहद माना जाता है अगर आप मार्केट से शहर खरीद रहे हैं तो आप ऑर्गेनिक सहज ही खरीदने की कोशिश करें आप यह शहद ऑनलाइन भी जाकर खरीद सकते हैं अगर आप जानना चाहते हैं तो हम आपको लिंक दे रहे हैं.



    [शहद के बारे में और उसकी कीमत को जानने के लिए यहां अमेजन पर क्लिक करें]

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad

    /*################## my map Code ###########*/ /* ########## my code End #######*/