Header Ads


Pregnancy Care items

Home remedies and treatment for baby's salivation

 हमने आपसे लार टपकने को लेकर काफी सारे टॉपिक पर चर्चा की है, जैसे कि
क्या यह सामान्य है, लार टपकना कब शुरू होती है, क्या यह बच्चे के विकास में मदद करती है, लार टपकने के क्या क्या कारण हो सकते हैं.  
इन सब विषयों पर बात की है. आज हम अपने इस Article के माध्यम से आप से चर्चा करेंगे

अगर बच्चे की लार टपक रही है तो डॉक्टर से कब मिलना चाहिए.
लार टपकने के क्या क्या इलाज हो सकते हैं और
लार टपकने के क्या क्या घरेलू उपाय हैं


आपको इस समस्या का कुछ हल अवश्य प्राप्त होगा


लार टपकने के कुछ सामान्य और कुछ असामान्य कारण होते हैं. अगर बच्चे की लार टपकने के कुछ असामान्य कारण आपको नजर आते हैं, तो उस अवस्था में डॉक्टर से मिलना काफी आवश्यक हो जाता है.

 वैसे माना जाता है कि अगर 2 साल तक बच्चे की लार टपकती है, तो यह सामान्य बात होती है. अगर आपको लगता है, कि बच्चे की लार 2 साल के बाद भी लगातार टपक रही है, और जो कारण हमने बताए हैं. आपको उनमें से कुछ कारण नजर आ रहे हैं. तो उस अवस्था में आपको डॉक्टर से अवश्य मिलना चाहिए. लगभग 2 साल के बाद डॉक्टर से मिलना बनता है.

बच्चे की लार टपकने पर घरेलू उपाय और इलाज

लार टपकने के क्या क्या इलाज हो सकते हैं?

  • बच्चों में लार की समस्या तंत्रिका तंत्र से संबंधित विकारों के कारण भी आती है. तो उन तंत्रिका तंत्र से संबंधित विकारों को दूर करने के लिए डॉक्टर आप का इलाज चला सकते हैं.


  • अगर बच्चे के मुंह से लार किसी असामान्य कारण से आ रही है, अर्थात शरीर में किसी प्रकार की कमी है, कोई रोग है, तंत्रिका तंत्र का विकार है, तो उस अवस्था में डॉक्टर कभी-कभी सर्जरी का सहारा भी लेते हैं.


  • मुख के अंदर किसी प्रकार का संक्रमण हो जाने पर या घाव हो जाने पर भी कभी-कभी लार अधिक बनती है, तो इसके लिए माता पिता को देखना चाहिए कि यह क्यों हो रहा है. अगर कोई घाव है, तो उसका इलाज कराना चाहिए.


  • सामान्य अवस्था में लार टपकने के कारण बच्चे मुख के आसपास की त्वचा पर लाल लाल चकत्ते बन जाते हैं. इसके लिए बच्चे को तो डॉक्टर को दिखाना चाहिए या फिर डॉक्टर की सलाह पर आवश्यक हिलिंग या पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल कर बच्चे की त्वचा को सुरक्षित करना चाहिए.


बच्चों की लार को रोकने के घरेलू उपाय क्या है?

देखिए लार बनना एक सामान्य प्रक्रिया है लार को बनने से रोकना, इस बारे में सोचना भी ठीक नहीं है. हां इतना जरूर है कि अगर बच्चे के लार बन रही है, तो बच्चे की त्वचा को उससे किस प्रकार से बचाया जा सके इसके उपाय किए जा सकते हैं.

  • अधिकतर देखा जाता है, कि बच्चे के लार अधिक बनती है, तो बच्चे के गले में एक विशेष प्रकार का कपड़ा बांध दिया जाता है. यह कपड़ा उसकी पूरी छाती को कवर करता है. इस कपड़े की क्वालिटी यह होती है, कि यह लार को सोख लेता है. लार बच्चे की त्वचा के संपर्क में नहीं आती है.  Drool Bib भी कहा जाता है.


  • माना जाता है कि अगर बच्चे को टीथिंग टॉय दिया जाए, और बच्चा उसका प्रयोग करता है, तो लार बनने की प्रक्रिया को काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है. लेकिन उसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है.


  • बेबी टिशू के द्वारा बच्चे की बहती हुई लार को साफ किया जा सकता है.  ऐसा करने पर बच्चे की त्वचा सुरक्षित रहती है .


हमारे पास एक प्रश्न आया था कि क्या लार टपकना मंद बुद्धि का प्रतीक होता है.


अक्सर देखा गया है कि मंदबुद्धि बच्चों के लार टपकती है, लेकिन यह मंदबुद्धि होने का प्रतीक नहीं है. इसके कई और भी कारण होते हैं कई कारणों से लार टपक सकती है.

अक्सर माता पिता ही है जानना चाहते हैं कि उनके बच्चे के लार निकलने की समस्या कब तक रह सकती है.

 यह समस्या लगभग 2 वर्ष तक की उम्र होते होते समाप्त हो जाती है तब तक बच्चा लार निकलना सीख लेता है और दांत भी निकल जाते हैं तब यह समस्या ठीक हो जाती है.


No comments

Powered by Blogger.