बालासन योग करने के क्या फायदे हैं?

0
56

बालासन वास्तव में, योग करते समय योगियों द्वारा विश्राम की मुद्रा है। इस आसन में योगी का शरीर भ्रूण की स्थिति में आ जाता है। बालासन मूल रूप से जांघों को सुडौल बनाने और कमर दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है।

यदि इस आसन का अभ्यास शरीर को गुरुत्व बल के विरुद्ध पूरी तरह से धकेल कर किया जाए तो आसानी से मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक राहत मिल सकती है।

बालासन का अभ्यास हमेशा तब करना चाहिए, जब आप तेज सांस ले रहे हों और आराम करना चाहते हों। इसलिए इस आसन को  व्यायाम के बीच में या व्यायाम के बाद में भी किया जा सकता है।

बालासन के फायदे

बालासन शरीर की खोई हुई ऊर्जा को लौटाने और आराम करने की मुद्रा है, जिससे शरीर को आराम और ताजगी मिलती है। इस आसन के अभ्यास के दौरान रीढ़ की हड्डी या स्पाइनल कॉलम में शिथिलता आती है।

बालासन शरीर में मांसपेशियों को आराम देता है और पीठ दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है, खासकर अगर दर्द पीठ के निचले हिस्से, गर्दन और कंधों में हो।

बालासन व्यायाम भी घुटने को खिंचाव और राहत देता है, इसी तरह पैरों की मांसपेशियां और जोड़ ठीक होते हैं और उन्हें आराम से चलने में मदद करते हैं।

चूंकि, यह आसन भ्रूण की आकृति बनाता है, इसलिए इस आसन के दौरान शरीर को उतना ही आराम मिलता है, जितना कि भ्रूण को मां के गर्भ में मिलता है।

इस आसन के अभ्यास से आपके मन में सकारात्मक भावनाओं का संचार होता है। इसके अलावा यह मन के किसी गहरे कोने में पड़े नकारात्मक विचारों को नष्ट करने में भी मदद करता है।

इसके अलावा बालासन करने के और भी कई फायदे हैं–

बालासन योग करने के क्या फायदे हैं?
  • यह कमर, छाती और कंधों के तनाव को दूर करने में मदद करता है।
  • बालासन काम या कसरत से होने वाली थकान को दूर करता है।
  • यह आसन तनाव और चिंता को दूर करने में भी मदद करता है।
  • बालासन पेट के अंदर के अंगों की मसाज भी करता है।
  • इस आसन के अभ्यास से पेट के आंतरिक अंग अच्छे से काम करते हैं।
  • यह आसन रीढ़ की हड्डी को अच्छा खिंचाव और खिंचाव देता है।
  • बालासन पीठ के निचले हिस्से और गर्दन के दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है।
  • यह आसन पूरे शरीर में रक्त संचार को बढ़ाता है।
  • यह आसन टखनों, कूल्हों और जांघों को फैलाने में मदद करता है।
  • बालासन ठीक से सांस लेने में मदद करता है और मन को शांत करता है।
  • यह ऐंठन, मांसपेशियों और घुटने के लिगामेंट में खिंचाव में मदद करता है

बालासन करने का सही तरीका

ज्यादातर लोग आपको योगासन करते समय लंबी सांस लेने की सलाह देते हैं।  बालासन के अभ्यास के दौरान आप इसे व्यावहारिक रूप से अनुभव कर सकेंगे।

इस आसन को करते समय आपका शरीर पहले मिनट में लंबी सांसें खींचने लगता है, जिसका अनुभव आप अपनी पीठ पर भी करते हैं। इस आसन का धीरे-धीरे अभ्यास करने से आप भविष्य में भी रीढ़ की हड्डी को अधिक झुकाकर किए जाने वाले आसन कर सकेंगे।

Sweat Belt, Waist Trimmer Belt for Women & Men

Sweat Belt, Waist Trimmer Belt for Women & Men

 

Yoga Mats For Women & Men

Yoga Mats For Women & Men

 

Hand gripper

Hand gripper

 

Pro Spin Fitness Bike

Pro Spin Fitness Bike

 

Running Machine

Running Machine

 

Home Gym Set

Home Gym Set

 

बालासन करने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

बालासन का अभ्यास सुबह के समय करना चाहिए। लेकिन अगर आप इस आसन को शाम के समय कर रहे हैं तो जरूरी है कि आपने कम से कम 4 से 6 घंटे पहले खाना खा लिया हो।

यह सुनिश्चित करना भी जरूरी है कि आसन करने से पहले आपने शौच कर लिया है और पेट पूरी तरह से खाली है।

बालासन में क्या सावधानियां रखनी चाहिए

यदि आपको निम्नलिखित समस्याएं हैं तो बालासन का अभ्यास करने से बचें।

  • बालासन में अगर आपको झुकने में दिक्कत हो तो आप फर्श पर तकिया रख सकते हैं।
  • अगर आप डायरिया या घुटने की चोट से परेशान हैं तो बालासन का अभ्यास बिल्कुल न करें।
  • उच्च रक्तचाप के रोगी बालासन को बिल्कुल न लें।
  • प्रारंभ में किसी योग प्रशिक्षक की देखरेख में बालासन करें।
  • जब बैलेंस बनने लगे तो आप इस आसन को खुद भी कर सकते हैं।
  • बालासन का अभ्यास शुरू करने से पहले हमेशा डॉक्टर से सलाह लें।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें