Header Ads

प्रेगनेंसी के छठे महीने में क्या खाएं क्या ना खाएं

दोस्तों प्रेगनेंसी के छठे महीने को लेकर चर्चा करने वाले हैं कि
प्रेगनेंसी के छठे महीने में क्या खाएं क्या ना खाएं 
कौन कौन से व्यायाम आवश्यक होते हैं 


प्रेगनेंसी के छठे महीने में क्या खाएं क्या ना खाएं 

गर्भावस्था का छठवां महीना चल रहा है, शिशु इस वक्त तक काफी परिपक्व हो जाता है. फिर भी ध्यान रखने की आवश्यकता तो होती है. जिसमें आपका शिशु बाहरी गतिविधियों को महसूस कर सकता है, सुन सकता है. आपकी आवाज पर वह रिस्पॉन्स दे सकता है. उसके लिए आपको एक अच्छा वातावरण उपलब्ध करवाना है. चिंता और परेशानी दोनों आपकी सेहत के लिए बिल्कुल भी सही नहीं है, यह बच्चे के विकास को रोक सकती हैं. साथ ही साथ आपको अपने खान-पान पर भी बहुत ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता होती है छठे महीने में महिला का आहार किस प्रकार का होना चाहिए इस पर भी चर्चा कर लेते हैं.


  • स्वस्थ गर्भावस्था के लिए स्वस्थ खानपान बहुत ज्यादा जरूरी होता है आप क्या खाती हैं आप क्या पीती है इसका सीधा असर आपके घर पर शिशु पर पड़ता है. इसलिए आप जो भी खाए, पौष्टिक खाना खाएं.
  • हो सकता है आपके खाने पीने की पसंद में कुछ बदलाव हो गया हो, हार्मोन इफेक्ट होता है. इस दौरान आपको जो भी खाना पसंद आ रहा है जो आपको पहले पसंद नहीं था आप ऐसा वही भोजन ले जो स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से उत्तम हो.
  • गर्भावस्था के दौरान आपको विटामिन सी की पूर्ति के लिए मुनक्का खजूर दूध टमाटर ब्रोकली इत्यादि का सेवन फायदेमंद होता है.
  • रात के समय आपको ऐसा भोजन करना है जो पचने में आसान हो इससे आपकी कई सारी समस्या दूर रहेंगी.  स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की बात कर रहे हैं हम.  हो सके तो आप खाना सूरज डूबने के आसपास ही खाले यह बहुत सही रहेगा. 
  • आप अपना भोजन करते समय इस बात का ध्यान रखें कि प्रेगनेंसी के दौरान कब्ज की समस्या होती है फाइबर युक्त भोजन लेने की कोशिश ज्यादा करें.
  • प्रेगनेंसी में संतरे कुछ महिलाओं को कभी-कभी फायदा नहीं करते हैं. उन्हें खाना मना किया जाता है, लेकिन अधिकतर महिलाएं प्रेग्नेंसी के समय संतरे खा सकती हैं. संतरे में विटामिन सी और फाइबर अच्छी मात्रा में होता है जो मा, बच्चे दोनों को फायदा करता है. 
  • प्रेग्नेंसी के समय महिलाओं को इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि उनके शरीर में आयरन की कमी ना हो. वह इस प्रकार का भोजन खाएं. जिससे कि आयरन की कमी दूर हो पाए और वह चाहे तो डॉक्टर के सलहा पर अनुपूरक भी ले सकते हैं. 
  • आपको इस प्रकार का भोजन नहीं खाना है जो कच्चा चाहे वह कच्चा मांस और चाहे पर कच्ची सब्जियां हो चाहे वह कच्चा दूध ही क्यों ना हो या दूध से बने प्रोडक्ट ही क्यों ना हो आपको खाने से पहले इस बात को सुनिश्चित जरूर करना है कि आपके खाद्य पदार्थ में किसी भी प्रकार का बैक्टीरियल इनफेक्शन नहीं होना चाहिए आप जो भी भोजन खाए अच्छे से पका कर खाएं.
  • आपको बासी भोजन से, जंक फूड से और बाजार के पैक्ड फूड से भी बचना है.
  • क्या खाने से बचें जिनमें मरकरी की उच्च मात्रा पाई जाती है साथ ही साथ हम आपको यह भी बता दें कि आपको अपने भोजन में इस बात का भी ध्यान रखना है कि आप को गर्म तासीर के भजन नहीं खाने हैं.


इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी का छठा महीना शारीरिक लक्षण और बदलाव
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के 5 महीने की सावधानियां
इन्हें भी पढ़ें : पांचवे महीने में महिला को कैसा भोजन खाना चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के चौथे महीने स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं
इन्हें भी पढ़ें : तीसरे महीने गर्भ में शिशु का विकास

आवश्यक व्यायाम 


प्रेगनेंसी को स्वस्थ बनाए रखने के लिए काफी सारे योगा और व्यायाम भी प्रेग्नेंसी के समय फायदेमंद होते हैं.
अगर आप पहले से ही योगा कर रहे हैं आपको योगा के विषय में जानकारी है तो आप योगा कर सकते हैं अन्यथा आप योगा किसी ट्रेनर के अंदर ही करें या उसकी सलाह पर ही करें अपने आप और इंटरनेट की सलाह पर बिल्कुल भी रिस्क ना ले यह नुकसानदायक हो सकता है.

प्रेगनेंसी के छठे महीने में जॉगिंग करना

जॉगिंग करना

प्रेगनेंसी में घूमना या हल्के हल्के जोगिंग करना काफी फायदेमंद माना जाता है लेकिन यह तब तक ही ठीक रहता है जब तक कि आप थक ना जाए, अगर आपको जरा सी भी थकान महसूस हो तो आपको आराम करना चाहिए.
प्रेगनेंसी के छठे महीने में किगल  करना

किगल व्यायाम

जैसा कि आप पिक्चर में देख रहे हैं देखने में यह व्यायाम बड़ा ही आसान लगता है लेकिन प्रेग्नेंसी के समय यह व्यायाम इतना आसान नहीं होता है इस व्यायाम को करने से काफी फायदे हैं इससे श्रोणि भाग की मांसपेशियां मजबूत होती है इसके अलावा गर्भावस्था के दौरान मूत्र ना रोक पाने की जो समस्या होती है उस समस्या में भी आराम मिलता है वैसे यह समस्या प्रेगनेंसी हारमोंस की वजह से मांसपेशियों में जो मुलायम पन आ जाता है उसकी वजह से होती है जो बाद में ठीक हो जाती है.

इन्हें भी पढ़ें : तीसरे महीने प्रेगनेंसी चेक अप
इन्हें भी पढ़ें : दूसरे महीने गर्भावस्था का ध्यान कैसे रखें – Two months pregnant care
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में सांस फूलने की समस्या - Breathlessness in pregnancy
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए - Part #10
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए - Pregnancy Tips Part #5

प्रेगनेंसी के छठे महीने में चेयर पोज़ करना

चेयर पोज़

चेयर पोज़ को उत्कष्टासन भी कहा जाता है. इससे टखनों, जांघों और रीढ़ की हड्डी मज़बूती होती है। यह आसन गर्भावस्था के लिए फ़ायदेमंद माना जाता है.

No comments

Powered by Blogger.