जिनसेंग के फायदे पुरुषों के लिए – Ginseng benefits in Hindi

0
261

जिनसेंग के फायदे पुरुषों के लिए क्या होते हैं आप हम उस टॉपिक पर बात करें उससे पहले जिनसेंग के विषय में छोटी-छोटी बातें जान लेते हैं.

जिनसेंग (Ginseng in Hindi) मुख्य रूप से चाइना ओरिजन का पौधा है. यह अमेरिका और साइबेरिया जैसी जगह पर भी पाया जाता है. यह एक आयुर्वेदिक औषधि के रूप में सदियों से प्रयोग में लाया जा रहा है. इसके बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ होते हैं.
जिनसेंग के लाभ अश्वगंधा के समान ही होते हैं, इसे इसलिए अश्वगंधा को भी देसी जिनसेंग कहा जाता है.

जिनसेंग के फायदे पुरुषों के लिए - Ginseng benefits in Hindi

 

जिनसेंग पौधे की जड़ को औषधीय रूप में प्रयोग में लाया जाता है. यह पौधा मुख्य रूप से वियतनाम, कोरिया, नेपाल और चीन में पाया जाता है.

हजारों सालों से जिंसेंग को टॉनिक के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है. यह मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं, एक सफेद और दूसरा लाल रंग का. सफेद जनसंघ को धूप में सुखाकर शुद्ध किया जाता है, और वही लाल जिनसेंग को भाप में पका कर शुद्ध किया जाता है.

यह प्रश्न बहुत आता है, जिनसेंग का हिंदी नाम क्या है.

हम आपको बता दें जिनसेंग भारतीय औषधि नहीं है. यह एक विदेशी औषधि है. जिसके गुण अश्वगंधा के समान होते हैं. इसलिए जिनसेंग को हिंदी में जिनसेंग के नाम से ही जाना जाता है. भारतीय औषधि नहीं होने के कारण जिनसेंग का कोई हिंदी नाम नहीं होता है. जिनसेंग का आयुर्वेदिक नाम भी जिनसेंग है.

जिनसेंग  न्यूट्रिशन वैल्यू

जिनसेंग के अंदर शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट, anti-inflammatory और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं.

आपको इसके अंदर विटामिन सी, लोहा, सोडियम, प्रोटीन, पोटेशियम, वसा, कार्बोहाइड्रेट और कुछ मात्रा में कैलोरी भी मिलती है.

विटामिन सी के साथ-साथ इसमें विटामिन B1, B2, B12 और फोलिक एसिड विटामिन भी थोड़ा कम मात्रा में मौजूद होते हैं

जिनसेंग में दो महत्वपूर्ण यौगिक पाए जाते हैं, जिन्हें जिनसेनोसाइड्स और जिंटोनिन कहा जाता है.

Current Price

जिनसेंग के फायदे – Ginseng benefits in Hindi

जैसा कि हमने बताया है कि अश्वगंधा को देसी जिंसेंग कहा जाता है. इसका रूप रंग आकार जिनसेंग के समान ही होता है, और गुण भी जिनसेंग के समान ही होते हैं.

यह पुरुषों के लिए बहुत उत्तम औषधि मानी जाती है. पुरुषों के शारीरिक, मानसिक और पुरुषत्व शक्ति के लिए वरदान से कम नहीं है.

जिनसेंग के फायदे पुरुषों के लिए

जिनसेंग को जड़ी बूटियों के राजा के रूप में भी माना जाता है. चीनी चिकित्सा पद्धति में इसका प्रयोग मुख्य जड़ी-बूटी के रूप में होता है. यह पुरुषों की योन शक्ति को बढ़ाने के लिए जानी जाती है. पुरुषों के यौन व्यवहार पर यह सकारात्मक प्रभाव दिखाती है. इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व मर्दाना शक्ति के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं.

शुक्राणु उत्पादन और गुणवत्ता

पिछले 25 वर्षों से लगातार पुरुषों के शुक्राणु गुणवत्ता को लेकर कई देशों में रिसर्च की जा रही है. सभी रिसर्च में यह सामने आ रहा है कि लगातार वातावरणीय और लाइफस्टाइल परिवर्तन के प्रभाव के कारण पुरुषों के शुक्राणु गुणवत्ता लगातार कम होती जा रही है.

साथ ही साथ पुरुषों की शुक्राणुओं की संख्या में भी 25 से 30% तक कमी आ गई है. यह अपने आप में बहुत बड़ी गिरावट है.

कुछ एशियाई देशों में शुक्राणुओं की गुणवत्ता उनकी संख्या को बढ़ाने के लिए जिंसेंग का प्रयोग बड़े पैमाने पर किया जाता है.

इसके अंदर पाए जाने वाले पोषक तत्व टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को उत्तेजित करके उसके निर्माण प्रक्रिया को तेज करने का कार्य करते हैं.

स्पर्म क्वांटिटी और क्वालिटी

जिंसेंग केवल स्पर्म उत्पादन क्षमता को ही प्रभावित नहीं करता है, बल्कि यह स्पर्म की क्वांटिटी और क्वालिटी दोनों को मेंटेन करने का कार्य करता है. इससे पुरुषों के पिता बनने की क्षमता में अभूतपूर्व वृद्धि होती है.

टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की उचित मात्रा और प्रॉपर ब्लड सरकुलेशन और ऑक्सीजन की ब्लड में भरपूर मात्रा की वजह से शुक्राणुओं की जीवन शक्ति बढ़ जाती है.

लिंग उत्तेजना में लाभदायक

जिंसेंग की एक बहुत खास बात यह होती है कि यह पुरुष के प्राइवेट पार्ट में ब्लड सरकुलेशन को बढ़ाने में बहुत मदद करता है जिसकी वजह से लिंग के अंदर तनाव काफी समय तक बना रह सकता है.

कामेच्छा में वृद्धि

जिन पुरुषों को धीरे-धीरे काम इच्छा में कमी होने लगती है, उनके लिए यह औषधि काफी लाभदायक है. क्योंकि शरीर में टेस्टोस्टेरोन हारमोंस की कमी के कारण काम इच्छा भी धीरे-धीरे कम होने लगती है.

यह टेस्टोस्टेरोन की मात्रा को इंप्रूव करने का कार्य करता है, तो धीरे-धीरे काम इच्छा भी सामान्य होने लगती है.
पुरुषों के स्तंभन शक्ति को बढ़ाने का कार्य लाल रंग का जिनसेंग करता है.

TIP: पुरुषों के
समग्र विकास जैसे कि शारीरिक विकास, मानसिक विकास और मर्दाना ताकत के विकास इत्यादि
के लिए आयुर्वेद के अंदर काफी सारी जड़ी बूटियां प्रयोग में लाई जाती है जैसे कि –

केसर, सफेदमूसली, शतावरी, अश्वगंधा, शिलाजीत, गोखरू, विदारीकंद, स्वर्ण भस्म, कौंच के बीज, मेथीपाउडर, जिंक, सालम पंजा, काली मूसली, टोंगकैट
अली
इत्यादि. इन जड़ी-बूटियों से बने नुस्खे
बहुत लाभदायक और शक्तिशाली होते हैं.

know current price of pure Ginseng

जिनसेंग के सामान्य लाभ

  • यह याददाश्त पर सकारात्मक प्रभाव डालता है. अल्जाइमर की समस्या को दूर करने में लाभदायक है.
  • ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है यह लो ब्लड प्रेशर और हाई ब्लड प्रेशर दोनों प्रकार के समस्याओं में कार्य करता है.
  • वात रोगों की वजह से हृदय संबंधी समस्याओं को दूर करने में लाभदायक है.
  • यह रक्तनलिका को मुलायम रखने में मदद करता है.
  • यह क्रॉनिकल ब्रोंकाइटिस के समस्या में भी लाभदायक माना जाता है.
  • किडनी स्वास्थ्य में भी इसके सकारात्मक परिणाम देखने में आते हैं. किडनी के समस्याओं को दूर करता है.
  • रक्त शर्करा को कंट्रोल कर डायबिटीज की समस्या को नियंत्रित करता है.
  • यह आर्थराइटिस जैसी समस्याओं में भी काफी गुणकारी सिद्ध हुआ है. दर्द में कारगर है.
  • इम्यून सिस्टम को मजबूत रखता है. इस वजह से खांसी, जुखाम, बुखार,फ्लू जैसे छोटी-मोटी समस्याएं परेशान नहीं करती हैं.
  • क्रोनिक फेटीग सिंड्रोम
  • टीबी रोग में इसके सकारात्मक परिणाम देखे गए हैं.
  • कैंसर कीमोथेरेपी के साइड इफेक्ट को दूर करने में सहायता करता है
  • यह शारीरिक ताकत को बढ़ाने में बहुत महत्वपूर्ण रोल अदा करता है. इसकी वजह से शरीर में स्फूर्ति ताजगी और ऊर्जा बनी रहती है. फिटनेस लेवल अच्छा रहता है. यह खिलाड़ियों के लिए बहुत फायदेमंद है.
  • यह मस्तिष्क से रिलैक्स करने वाले तत्वों को रिलीज करता है. अनिद्रा की समस्या दूर होती है.
  • हरपीज सिंप्लेक्स टाइप-2 के कारण संक्रमण के लक्षण
  • इम्यून सिस्टम को बढ़ाता है.
  • भूख बढ़ाने में मदद करता है.
  • इसकी मदद से वेट को कंट्रोल किया जा सकता है. अर्थात अधिक है तो वह कम होने लगता है और कम होने पर वेट बढ़ने भी लगता है.
  • मजबूत और स्वस्थ फेफड़ों के लिए आप इसका प्रयोग कर सकते हैं.
  • मस्तिष्क की कार्य क्षमता को बढ़ाने के लिए भी जिंसेंग का प्रयोग किया जा सकता है.
  • सामान्य व्यक्ति के एनर्जी लेवल को बनाए रखने में यह मदद करता है.
  • एजिंग इफेक्ट से बचने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है.
  • शरीर के अंदर आंतरिक सूजन में यह शानदार काम करता है.
  • स्ट्रेस फ्री लाइफ जीने के लिए आप इसका प्रयोग कर सकते हैं.

—-

जिंसेंग का प्रयोग करने से मनुष्य का शरीर बीमारियों के प्रति कम संवेदनशील हो जाता है. इसका मुख्य कारण यही है, कि इसकी वजह से संपूर्ण बॉडी की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होने लगती है. इसे आप अपने आप में कंप्लीट जड़ी बूटी या आयुर्वेदिक मेडिसन मान सकते हैं.

जिंसेंग के नुकसान

किसी भी जड़ी-बूटी के यहां बहुत सारे फायदे होते हैं.

कुछ परिस्थितियों में वह नुकसानदायक भी होती है. मुख्यतः जड़ी बूटियां उनकी सही मात्रा नहीं लेने पर आपको नुकसान दे सकती हैं, जैसे कि —

जिनसेन का उपयोग सही तरीके से नहीं करने पर सिरदर्द, पाचन जैसी समस्याएं और नींद से जुड़ी समस्या नजर आ सकती हैं.

हाई बीपी की समस्या में डॉक्टर की सलाह से ही जिनसेंग का प्रयोग करना चाहिए.

अगर आप पहले से ही शुगर की दवा ले रहे हैं, तो यह शुगर को कम करने का काम करता है. शुगर अधिक कम हो सकती है. अगर शुगर की दवा ले रहे हैं तो डॉक्टर से पूछताछ का सेवन करें वरना नुकसान हो सकता है.

जिनसेंग का प्रयोग कैसे करें

जिंसेंग पाउडर की चाय बना कर आप सुबह शाम इसे ले सकते हैं या आप इसके जड़ की भी चाय बनाकर पी सकते हैं. हालांकि भारत के अंदर इसकी जड़ मिलना इतना आसान नहीं होता है.

साथ ही साथ कॉफी के साथ भी इसका प्रयोग किया जा सकता है.

मार्केट में जिनसेंग पाउडर या जिनसेंग कैप्सूल आपको प्राप्त हो जाते हैं. आप इनका भी प्रयोग सुबह-शाम दूध के साथ कर सकते हैं. यह भी एक बहुत अच्छा तरीका है.

आप रोजाना 2 से 3 ग्राम जिनसेंग पाउडर अपनी डाइट में शामिल कर सकती है. लेकिन इसे दो से तीन बार में ही लेना चाहिए. वही आप 1 से लेकर 2 कैप्सूल रोजाना अपनी डाइट में आयुर्वेदाचार्य की सलाह से शामिल कर सकते हैं.

आपके प्रश्न

Q. जिनसेंग का हिंदी नाम क्या है?

Ans : जिनसेंग एक विदेशी जड़ी बूटी है. जिस का उत्पादन भारत में नहीं होता है. इसलिए जिंसेंग को हिंदी में जिनसेंग  के नाम से ही जाना जाता है. इसका कोई दूसरा नाम हिंदी में नहीं लिया जाता है.

Q. जिंसेंग और अश्वगंधा में क्या अंतर है?

Ans : जिंसेंग एक विदेशी जड़ी बूटी है, और अश्वगंधा भारत के अंदर भारतीय जंगलों में पाई जाने वाली जड़ी बूटीहै. दोनों के गुण और क्षमता लगभग एक ही प्रकार के होते हैं, और इनके लाभ भी लगभग एक ही समान है.
इन दोनों के रूप रंग आकार को देखकर  कन्फ्यूजन भी पैदा हो जाता है. एक भारतीय और एक विदेशी आती है. साधारण व्यक्ति दोनों में जल्दी से अंतर नहीं कर पाता है.

Q. क्या जिनसेंग रोज लिया जा सकता है?

Ans : यह एक प्राकृतिक जड़ी बूटी है. इसे रोज लिया जा सकता है. यह इम्यून सिस्टम को मजबूत करने का कार्य करती है, और मानसिक शांति के लिए अत्यधिक लाभदायक है.
यह पुरुषों के इम्यून सिस्टम को भी मजबूती प्रदान करती है. शरीर को ऊर्जा प्रदान करने का कार्य करती है.
इसकी मात्रा को लेकर आपको अपने डॉक्टर से सर्वप्रथम सलाह लेनी चाहिए.

Q. जिनसेंग के महिलाओं के लिए क्या लाभ है?

Ans : जिनसेंग हृदय को स्वस्थ रखने का कार्य करता है, और यह  महिलाओं के पीरियड में आने वाली समस्याओं को भी ठीक करने की क्षमता रखता है. महिलाओं के हारमोंस को संतुलित करने में मदद करता है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें