Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

शुक्रवार, 5 जुलाई 2019

पुत्र प्राप्ति के लिए सूर्य देव के 2 उपाय


नमस्कार दोस्तों दोस्तों हमने बहुत सारे POST ऐसे बनाए हैं जिसमें वैज्ञानिक तरीके से आयुर्वेदिक तरीके से पुत्र प्राप्ति के सूत्रों को बताया गया है लेकिन दोस्तो आस्था भक्ति और विश्वास भी एक बहुत बड़ी ताकत होती है जिससे की एक पॉजिटिव एनर्जी का निर्माण होता है और यह पौधे पॉजिटिव एनर्जी हमें पुत्र प्राप्ति या पुत्री प्राप्ति की इच्छा को फलीभूत कर सकती है आज हम अपने इस POST के माध्यम से भगवान सूर्य के दो उपाय या कह सकते हैं टोटके जो भी आप समझे लेकर आए हैं जिन्हें आस्था पूर्वक और विश्वास पूर्वक करने से आपके यहां अवश्य ही मनचाही संतान की प्राप्ति होगी
baby gender control, beta, surya, sun, ladka, putra

दोस्तों पुत्र प्राप्ति के लिए जो उपाय बताने जा रहे हैं एक तरह से कह सकते हैं कि यह टोटके नहीं है धार्मिक उपाय है मंत्रों की शक्ति से आप और आपका जो अपने ईश्वर पर विश्वास है उस विश्वास की ताकत से एनर्जी से आप इस कार्य को अपनी इच्छा को स्वरूप प्रदान करेंगे, फलीभूत करेंगे |


पहला उपाय

पुत्र रत्न की चाह रखने वाली स्त्री रविवार को प्रातः काल उठकर सिर धो कर खुले बाल फैला कर उगते सूर्य को जल दे तथा उनसे योग्य एवं बुद्धिमान पुत्र प्राप्त की प्रार्थना करें तो उससे उसकी मनोकामना अवश्य ही पूरी होती है।  इस प्रयोग को 16 रविवार तक करना चाहिए।

यह संडे टू संडे करना है अगर आप इसे रविवार से रविवार ना करके रोज करें और 16 रविवार तक करें तो और भी अच्छा रहे, यह लगभग लगभग साडे 3 महीने से थोड़ा ज्यादा का समय है
इससे आप रोज प्रातः नियम से उठेंगे तो धीरे-धीरे आपका शरीर भी निरोगी होने लगेगा, सुबह उठने के अपने ही फायदे होते हैं, यह नियम भी आपको फायदा देगा 

santan prapti ke totke, manchai santan paida kerne ka tarika


You May Also Like : प्रेगनेंसी में दी जाने वाली बेस्ट ड्रिंक 
You May Also Like : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय - गाय का दूध


आप अपनी व्यवस्था अनुसार अपने घर में सोने या चांदी से निर्मित सूर्य यंत्र की स्थापना पुत्र रत्न की चाह रखने वालों को करना चाहिए और प्रतिदिन यंत्र को पूर्व दिशा की ओर रखकर उसकी तरफ मुख कर कर बैठ कर दीपक जलाकर यंत्र और सूर्य देव को प्रणाम करना चाहिए।

 इसके साथ    !! ॐ सूर्याय नमः !!
मंत्र का 108 बार जप करना चाहिए ।
आप अपने सामने जो दीपक लगाएंगे उसमें 4 बत्तियां होनी चाहिए जो बगल वाली से 90 अंश पर जलनी चाहिए अर्थात चारों दिशाओं में 1 - 1 बत्ती चाहिए जलनी चाहिए और और जब तक आप यह मंत्र जाप करें तब तक यह है दीपक भी जलता रहना चाहिए।
40 दिन तक आप नियम पूर्वक करें और इसके बाद आप संतान प्राप्ति के लिए कोशिश करें, लेकिन आपको यह साधना बंद नहीं करनी है प्रेगनेंसी के कम से कम तीन से चार महा होने तक तो करनी ही चाहिए 
40 दिन का मतलब यह नहीं कि आपको 41वें दिन ही कोशिश करनी है, 40 दिन के बाद जब भी उचित समय हो तब

इन दोनों उपायों में आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए

महिला को इस दौरान सात्विक भोजन ही ग्रहण करना है नॉनवेज तो भूल जाइए
घर में हमेशा पॉजिटिव माहौल होना चाहिए नेगेटिविटी नहीं होनी चाहिए मतलब लड़ाई झगड़े लगा बुझाई इससे अलग रहे
अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें
पति के साथ संबंध ना के बराबर ही बनाएं ताकि आपके पति में पुरुष तत्व बलवान हो सके, साथ ही साथ पति को दूध और दूध से बनी चीजों का सेवन अधिक करना चाहिए
You May Also Like : पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि
You May Also Like : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका



dharmik upay, surya dev ke upay

You May Also Like : प्राचीन ऋषियों द्वारा पुत्री प्राप्ति के दिए गए पांच सूत्र 
You May Also Like : आयुर्वेदिक नुस्खे से पुत्र प्राप्ति - शिवलिंगी के बीज और पुत्रजीवक बीज


जिस समय पत्नी अपनी साधना या उपाय पूरा करने के बाद पति के साथ संतान प्राप्ति की कोशिश करें उस वक्त महिला का ओवुलेशन पीरियड होना ही चाहिए अगर आप महावारी शुरू होने से 5 दिन पहले से कोशिश करोगे जब महिला का गर्भाशय का मुंह बंद होता है तो आप कितने भी उपाय कर ले कोई फायदा नहीं होगा
और जब से उपाय शुरू करें तब से रोज बछड़े वाली गाय का दूध अगर मिल जाए तो उसे पी यह आपकी पुत्र प्राप्ति की संभावना को और बढ़ा देगा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें