Header Ads

प्रेगनेंसी का सातवां महीना लक्षण,बदलाव और शिशु का विकास

नमस्कार दोस्तों, प्रेगनेंसी के 6 महीने समाप्त हो चुके हैं ऑलमोस्ट प्रेगनेंसी अब धीरे-धीरे समाप्ति की ओर है अब सातवां महीने में प्रेगनेंसी में कदम रख दिया है. प्रेग्नेंसी के सातवें महीने में --

शरीर में कौन-कौन से बदलाव दिखाई पड़ते हैं
शरीर में कौन-कौन से लक्षण आपको नजर आ सकते हैं
साथ ही साथ सातवें महीने में बच्चे के विकास और आकार पर भी हम चर्चा करेंगे



पूरी प्रेगनेंसी पर एक नजर दौड़ाई जाए तो बीच के 3 महीने प्रेगनेंसी का हैप्पी टाइम माना जाता है और पहली तिमाही और तीसरी तिमाही में काफी सावधानी रखने की आवश्यकता होती है. अब आप तीसरी तिमाही में कदम रख रहे हैं. आपको काफी सावधानी रखने की आवश्यकता होती है. जिसमें शिशु काफी बड़ा हो चुका है. आपको उसका अब अधिक ख्याल रखने की आवश्यकता होती है. प्रेग्नेंसी के सातवें महीने में कौन-कौन से लक्षण नजर आते हैं. उस पर में एक बार चर्चा कर लेते हैं.

pregnensee ke saataven maheene mein shaareerik badalaav


प्रेग्नेंसी के सातवें महीने के लक्षण - Pregnancy ke Saatve Mahene me Lakshan

  • गर्भवती स्त्रियों को दूसरी तिमाही के अंत तक स्तनों से रिसाव शुरू हो जाता है. यह पीले रंग का पदार्थ होता है. जिसे कोलोस्ट्रम के नाम से जाना जाता है यह रिसाब दिन में कभी भी हो सकता है जैसे-जैसे प्रेगनेंसी का अंतिम टाइम नजदीक आता जाता है, वैसे वैसे यह रंगहीन होता जाता है. यह बहुत ही सामान्य सी प्रक्रिया है इसमें घबराने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं होती है.
  • महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान हल्का-हल्का स्राव होने की समस्या भी नजर आती है यह स्राव होना एक तरह से ठीक भी होता है क्योंकि यह किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचाता है लेकिन अगर दुर्गंध की समस्या होने लगे तो डॉक्टर से बार जरूर डिस्कस करना चाहिए.
  • प्रेगनेंसी का सातवां महीना शुरु हो चुका है. इस महीने कुछ महिलाओं को संकुचन की समस्या हो सकती है. अर्थात डिलीवरी पेन जैसा महसूस हो सकता है. अक्सर यह फॉल्स प्रेगनेंसी पेन होता है. यह कुछ-कुछ प्रेगनेंसी पेन जैसा होता है. लेकिन इसका नेचर बिल्कुल वैसा नहीं होता है इसलिए इसे फॉल्स प्रेगनेंसी पेन कहा जाता है, फिर भी इस पर नजर बनाकर रखना बहुत जरूरी होता है, और जब भी आप डॉक्टर से मिले तो इस बारे में जरूर चर्चा करें.
  • पिछले महीनों की तरह इस महीने भी महिलाओं को अपच की समस्या रहती है जैसे-जैसे पर प्रेगनेंसी और बढ़ती जाएगी यह समस्या बढ़ने की संभावना ज्यादा रहती है. क्योंकि जगह भी कम होती जाती है, शिशु के विकास के कारण, तो समस्या और बढ़ सकती है. इसलिए अपने भोजन पर विशेष ध्यान दें. ऐसा भोजन खाएं जो पचने में आसान हो.

इन्हें भी पढ़ें : तीसरे महीने महिला के शरीर में बदलाव और बच्चे का विकास
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के चौथे महीने गर्भ में शिशु का विकास
इन्हें भी पढ़ें : पांचवे महीने में महिला को कैसा भोजन खाना चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी का छठा महीना शारीरिक लक्षण और बदलाव
इन्हें भी पढ़ें : प्रेग्नेंट होने पर आने वाले लक्षण

सातवें महीने में शारीरिक बदला - Pregnancy ke Saatve Mahene me Body Changes

  • प्रेग्नेंसी के सातवें महीने में स्तन और बड़े नजर आ सकते हैं और निपल्स के आसपास कारण और ज्यादा गहरा हो सकता है.
  • जैसे कि हमने पिछले महीने को डिस्कस करते हुए बताया था कि शरीर में सूजन क्यों आती है उसी कारण से सूजन इस महीने भी रह सकती है रक्त के तेज प्रवाह की वजह से सूजन और अतिरिक्त भोजन संचय के कारण भी सूजन हो सकती है. साथ ही साथ रक्त के तेज प्रभाव के कारण हाथ और पैरों में झनझनाहट भी महसूस हो सकती है.
  • इस महीने महिला का वजन 4 से 5 किलो एक्स्ट्रा हो जाता है अधिक वजन बढ़ने के कारण महिला को सांस लेने में तकलीफ हो सकती है महिलाओं को खुले स्थान में रहने की सलाह दी जाती है.
  • गर्भस्थ शिशु काफी बड़ा हो गया है उसका हिस्सा अब नाभि से ऊपर की ओर भी जगह घेर रहा है जैसे जैसे ऐसा होता जाएगा वैसे वैसे महिलाओं को सोने में तकलीफ का सामना करना पड़ सकता है.
  • और जैसे जैसे पेट बढ़ता जाएगा वैसे वैसे महिलाओं को अब झुकने में काफी समस्या का सामना करना पड़ सकता है बल्कि झुकना तो बिल्कुल ही छोड़ देना है.
  • कुछ महिलाओं को सातवें महीने से पहले ही लेकिन कुछ महिलाओं को सातवें महीने में स्किन में खिंचाव और रेखाएं नजर आ सकती हैं और उनमें खुजलाहट भी हो तो बड़ी बात नहीं.
pregnensee ke saataven maheene mein shishu ka vikaas


इन्हें भी पढ़ें : क्या तिल का तेल खाने से गर्भपात हो सकता है
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में 1 दिन में कितना कीवी खा सकते है
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान आयरन के लिए खाद्य पदार्थ

गर्भस्थ शिशु का विकास

  • सातवें महीने में गर्भ शिशु का वजन 1 किलो से डेढ़ किलो के बीच में हो सकता है और उसकी लंबाई 14 इंच के आसपास होती है. आप कह सकते हैं शिशु अपने आप में काफी बड़ा हो चुका है. 
  • इस महीने से शुरू आंख खुल सकता है बंद भी कर सकता है.
  • शिशु की पलके और भौंह भी आ गई है. वह जम्हाई लेने लगता है, अंगड़ाइयां लेता है. आपकी आवाज पर प्रतिक्रिया भी दे सकता है. 
  • सातवें महीने के आस-पास शिशु के त्वचा के नीचे चर्बी जमने लगती है फैट बनने लगती है.
  • अब शिशु का सिस्टम काफी विकसित हो चुका है वह आवाजें सुन सकता है बाहर की रोशनी पर भी प्रतिक्रिया दे सकता है. 


No comments

Powered by Blogger.