Header Ads

प्रेगनेंसी में किस महीने से कितने बादाम खाने चाहिए | Benefits of almond in pregnancy

 प्रेगनेंसी के दौरान प्रेगनेंसी के दौरान बादाम खाने के फायदे को लेकर चर्चा करें उससे पहले हम आपको बताना चाहेंगे, बादाम कैसे खाना चाहिए. खासकर गर्मियों के मौसम में क्योंकि बादाम गर्म तासीर का होता है, इसलिए गर्भवती महिला को से समझ कर खाना चाहिए.
कौन से महीने से बादाम खाना चाहिए.
आइए चर्चा करते हैं.


इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान आमला खाएं या नहीं
इन्हें भी पढ़ें : दूध पीने के फायदे और दूध के प्रकार
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में खजूर कब खायें कैसे खाएं
इन्हें भी पढ़ें : कीवी खाने के फायदे और नुकसान

दोस्तों बादाम गर्म तासीर का होता है अगर आप बादाम को ऐसे ही खाएंगे तो यह आपको नुकसान दे  सकता है. खासकर गर्मियों के मौसम में तो नुकसान देगा. इसलिए बादाम को शाम के समय आप भिगोकर रख दें और सुबह उसका छिलका उतार कर खाते हैं तो बादाम की तासीर ठंडी हो जाती है और फिर यह गर्मियों के मौसम में आपको नुकसान नहीं देगा.

प्रेगनेंसी के दौरान कितना बदाम खाना चाहिए इसको लेकर आपको बहुत सारी बातें मिलेंगी
कोई कहता है आधा कप बादाम खाने चाहिए.
कोई कहता है  8 से 10 बादाम गर्भवती महिला को खाना चाहिए

लेकिन जहां तक आयुर्वेद की बात है और जहां तक हमें पता है दो से तीन बादाम 1 दिन में काफी होते हैं बस आपको बादाम पीसकर और दूध के साथ खाना है. बादाम काफी गरिष्ठ भोजन है यह आसानी से नहीं पचता है.

बादाम खाने के फायदे - Pregnancy Me Badam Khane Ke Fayade


बादाम की सबसे फेमस बात यही है कि यह दिमाग को ताकत देता और यह आपके गर्भस्थ शिशु को भी ताकत देगा, उसे दिमाग को ताकत देगा. बादाम में पाया जाने वाला फोलिक एसिड बच्चे के दिमाग और न्यूरोलॉजिकल सिस्टम को विकसित करने में मदद करता है.

प्रेगनेंसी के दौरान अपच और कब्ज जैसी समस्याएं होना आम बात होती है ऐसे में ऐसे खाद्य पदार्थ काफी फायदेमंद होते हैं जिनमें अधिक फाइबर पाया जाता है बादाम उनमें से एक है.

बादाम में अच्छी मात्रा में कैल्शियम होता है और गर्भवती स्त्री को कैल्शियम की काफी आवश्यकता भी होती है बल्कि अतिरिक्त कैल्शियम की आवश्यकता होती है बादाम उसकी पूर्ति में सहायता करता है.

एक गर्भवती स्त्री को 1 दिन में औसतन 27 मिलीग्राम आयरन की आवश्यकता होती है और बादाम आयरन से भी भरपूर होता है तो यह इसकी पूर्ति में काफी मदद करता है इस वजह से खून की कमी और एनीमिया जैसे रोगों की रोकथाम में मदद मिलती है.

अगर गर्भवती स्त्री नट्स का प्रयोग करती है ड्राई फ्रूट खाती है तो बच्चे को एलर्जी वाले रोग कम होते हैं और बादामी ड्राई फ्रूट से है.

बादाम एक गरिष्ठ भोजन जरूर है लेकिन यह वजन को संयमित रखने में काफी मदद करता है. वजन को कम करता है अगर महिला प्रेगनेंसी के दौरान अधिक वजन लिए हुए हैं, उसे काफी कुछ खाने से परहेज करना पड़ता है लेकिन वह बदाम खा कर पोषक तत्वों की कमी को पूरा कर सकती है.

इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में अमरूद खाने के जबरदस्त फायदे
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में कब दूध पीना चाहिए और कब नहीं पीना चाहिए
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में स्वस्थ रहने के लिए 5 बेहतरीन जूस
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में कब आंवला खाना चाहिए कब नहीं खाना चाहिए

प्रेगनेंसी में बादाम कब से खाएं - Pregnancy Me Badam Kab Khana Chaheye


खाने को तो बादाम गर्भवती महिला किसी भी महीने से खाना शुरु कर देती है. लेकिन इसके बारे में कोई रिसर्च उपलब्ध नहीं है. इसलिए बादाम कब से खाना चाहिए यह कोई नहीं बता पाएगा, लेकिन आपको इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है तो आप अपने डॉक्टर से इस संबंध में सलाह कर सकते हैं, अगर आपको डॉक्टर भी इस संबंध में कुछ बता पाने में असमर्थ है तो आप 3 महीने के बाद से बादाम का सेवन शुरू करें क्योंकि 3 महीने तक आते-आते गर्भावस्था काफी परिपक्व हो जाती है उस स्थिति में गर्भपात की स्थिति भी आगे ना के बराबर होती है.
तो आप अपनी मर्जी से दो से तीन बादाम दूध के साथ 3 महीने के बाद से लेना शुरू कर सकती हैं.

No comments

Powered by Blogger.