Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

गुरुवार, 29 अगस्त 2019

अल्कोहल से जेंडर प्रिडिक्शन 1 मिनट में

नमस्कार दोस्तों दोस्तों हम सभी जानते हैं कि हिंदुस्तान के अंदर जेंडर प्रेडिक्टर करवाना एक कानूनन जुर्म है लेकिन हम हिंदुस्तानी आने वाले बच्चे को लेकर बहुत ज्यादा उत्साहित होते हैं हमेशा से |
दोस्तों जब एक महिला प्रेग्नेंट होती है उसके शरीर में बहुत से हारमोनल चेंज जाते हैं हारमोंस एक्टिव हो जाते और इसी कारण से महिला के यूरिन में इसका असर आता है।
आज हम आपको 1 तरीके बताने जा रहे हैं जिससे कि आप महिला की यूरिन की सहायता से घर पर ही यह ज्ञात कर सकते हैं की महिला के गर्भ में बेटा है कि बेटी है।
You May Also Like : प्रेगनेंसी में दही खाना चाहिए कि नहीं खाना चाहिए

gender prediction


दोस्तों तरीका बताएं उससे पहले हम आपको कुछ बातें क्लियर कर दें जो कि आपको पता होनी चाहिए।   महिला के शरीर में जब लड़का या लड़की गर्भ में आते हैं, शरीर उसके पालन-पोषण में लग जाता है। शरीर को अपने साथ दो जिंदगी का ध्यान रखना पड़ता है एक तो आपका जिसका कि वह शरीर है दूसरा उस गर्भ का | पलने वाला भ्रुण नर होगा या मादा।  दोनों के डेवलप होने की कुछ कॉमन तो कुछ अलग अलग रिक्वायरमेंट होती है।  जो अलग-अलग रिक्वायरमेंट होती है उनको पूरा करने में शरीर जो प्रोसेस या कार्य करना पड़ता है, उसका इफेक्ट हमारे यूरिन पर भी आता है इसका इफेक्ट तो पूरे शरीर पर आता है लेकिन हम यूरिन की बात करेंगे।
You May Also Like : प्रेगनेंसी में शहद का सेवन कितना फायदेमंद


थोड़ी सी टेक्निकल  बात यह है, इस गर्भ के कारण महिला के यूरिन का जो मीडियम है वह चेंज  हो  जाता  है ।
इस गर्भ के कारण यूरिन के अम्लीय और छारीय गुण बदलने लगते हैं | यूरिन के इस अम्लीय और छारीय होने की वजह से हम पलने वाले गर्भ का पता लगा लेते हैं |
You May Also Like : जानें क्यों प्रेगनेंसी में सौंफ खाने से किया जाता है मना
You May Also Like : प्रेग्नेंसी में वजन बढ़ने को लेकर हैं परेशान, तो अभी से फॉलो करें ये टिप्स

 दोस्तों यह  टेस्ट अल्कोहल के साथ किया जाता है, हमारे दोस्त अल्कोहल का मतलब शराब बिल्कुल भी ना समझे यह, वह अल्कोहल है जो कि मेडिकल फील्ड में प्रयोग में लाया जाता है, जिसे हम कहते हैं आइसोप्रोपिल अल्कोहल, यह आपको किसी भी मेडिकल संबंधित स्टोर पर मिल जाएगा, अगर नहीं मिलता है तो वह यह बता देगा कि यह कहां मिलेगा ।
You May Also Like : क्या प्रेगनेंसी में गर्म पानी से नहाना सुरक्षित है

beta hoga ya beti - Gender function

You May Also Like : गर्भावस्था में पत्तागोभी खाना कितना सुरक्षित

अब प्रेगनेंसी टेस्ट के प्रयोग में अल्कोहल की लगभग 100ml मात्रा को कांच के बर्तन में ले ले ।  गर्भवती महिला जब सुबह सो कर उठेगी तो पहली बार बाथरूम में जो यूरिन आएगा उसे एक कांच के बर्तन में इकट्ठा कर लेंगे।  इकट्ठा किए हुए यूरिन को, जो कि लगभग 50 ml के आसपास होना चाहिए, उसे अल्कोहल वाले बर्तन में डाल देंगे ।
You May Also Like : प्रेगनेंसी में क्यूं खाना चाहिये फूलगोभी
अब उसमें जो रिएक्शन होगी उसके आधार पर हम जेंडर प्रेडिक्शन करेंगे
1. अगर यूरिन को अल्कोहल में मिलाने पर कोई भी रिएक्शन नहीं होती है तो यह एक लड़की होने का प्रमाण माना जाता है, गर्भ में एक लड़की है।
You May Also Like : प्रेगनेंसी में खून की कमी और उपाय

2. अगर अल्कोहल का रंग बदलने लगे और वह लाल रंग का होने लगे या अल्कोहल के रंग में लालिमा आ जाए तो यह एक लड़का होने की निशानी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें