Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

रविवार, 1 दिसंबर 2019

प्रेगनेंसी के दौरान किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए - Pregnancy Tips Part #6

नमस्कार दोस्तों आप के सामने हम प्रेगनेंसी केयर को लेकर अगला POST लेकर फिर से हाजिर है दोस्तों हमने आपको पहले भी काफी सारे टिप्स दिए हैं जिनमें हमने आपको बताया कि प्रेगनेंसी में किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए और भी आगे बहुत सारी बातें हैं जिनका प्रेगनेंसी में ध्यान रखा जाता है, जिसमें से कुछ बातें हम आपको इस POST के माध्यम से बताने जा रहे हैं और आगे भी बताते रहेंगे.

You May Also Like : प्रेगनेंसी के दौरान किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए - Pregnancy Tips Part #5
You May Also Like : प्रेगनेंसी के दौरान किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए - Pregnancy Tips Part #4


प्रेगनेंसी महिला के लिए एक ऐसी अवस्था है जिसमें कि जितना भी आप ख्याल रखें उतना ही उतना ही कम होता है यह 9 महीने महिला को बहुत सोच समझकर बिताने होते हैं. क्योंकि यह एक ऐसी अवस्था होती है जिस में जरा सी भी की गई लापरवाही पूरी जिंदगी निभानी पड़ सकती है.

, new pregnancy tips, easy pregnancy tips


कैल्शियम

कैल्शियम किसी भी इंसान के लिए बहुत ज्यादा आवश्यक तत्व होता है यह जन्म से लेकर अंतिम सांस तक शरीर में बहुत आवश्यक होता है. किसी भी गर्भस्थ बच्चे के लिए उसके शरीर का विकास कैल्शियम से ही शुरू होता है. उसकी हड्डियों के विकास के लिए कैल्शियम आवश्यक है . साथ ही साथ कैल्शियम मस्तिष्क को भी चुस्त और दुरुस्त और तेज बनाता है. ऐसे में महिला को चाहिए कि वह ऐसे भोज्य पदार्थ अपने भोजन में शामिल करें जिनके अंदर कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है.
 आजकल डॉक्टर्स भी कैल्शियम की टेबलेट महिला को खाने के लिए लिखती हैं आप समझ सकते हैं कि कैल्शियम कितना आवश्यक है आपको चाहिए कि आप भरपूर मात्रा में दूध का सेवन भी प्रेग्नेंसी के समय करते रहे एक तो इससे आपका शरीर ठंडा रहेगा और कैल्शियम के साथ-साथ दूसरे आवश्यक पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मिलेंगे.
You May Also Like : प्रेगनेंसी के दौरान केसर खाना चाहिए या नहीं खाना चाहिए
You May Also Like : बेकिंग सोडा और यूरिन से कैसे करते हैं जेंडर प्रेडिक्शन केवल 1 मिनट में - Gender prediction


आराम करना क्यों आवश्यक

भले ही आराम करने की आदत आपको नहीं है लेकिन प्रेग्नेंसी के समय आप को ना चाहते हुए भी आराम करना चाहिए. प्रेग्नेंसी के समय आपके शरीर को डबल काम करना होता है एक तो उसे आप का पालन पोषण करना है साथ ही साथ उसे बच्चे का भी पालन पोषण करना होता है इस वजह से शरीर को अपनी कैपेसिटी से ज्यादा कार्य करना पड़ता है, तो इसके लिए आपको चाहिए कि आप आराम अवश्य करें ताकि आपके लिए शरीर को कम काम करना पड़े और उतना फोकस वह बच्चे की ओर कर सके.  साथ ही साथ आपके आराम करने से एनर्जी भी कम खर्च होगी जिसके कारण उतना अधिक पोषण बच्चे को प्राप्त होगा.

pregnancy tips in hindi, pregnancy advice

अपने मस्तिष्क को आराम दें

आपको अपने मस्तिष्क को आराम देना चाहिए मस्तिष्क को आराम देना बहुत ज्यादा जरूरी है. हम बता देते हैं कि क्यों
 हमारा शरीर हमारे मस्तिष्क के इशारे पर ही चलता है. मस्तिष्क तय करता है, कि कौन सा कार्य हमें सबसे पहले पूरा करना है.  प्रेग्नेंसी के समय गर्भ शिशु के सभी कार्य प्रायोरिटी पर रहते हैं, लेकिन अगर आप अपने मस्तिष्क को हद से ज्यादा इस्तेमाल करेंगे -
चाहे आप टेंशन लेने में कर रहे हो
चाहे आप अपने किसी कार्य को पूरा करने में कर रहे हो
चाहे आप ऑफिस के काम को करने में कर रहे हो
तो बच्चे से भी ज्यादा बड़ी प्रायोरिटी दिमाग को एनर्जी पहुंचाने की होती है और हमारा मस्तिष्क हमारे शरीर में सबसे ज्यादा एनर्जी की खपत करता है तो आप जितना ज्यादा दिमाग का प्रयोग करेंगे उतना ही पोषण आपके बच्चे के हिस्से से उसकी तरफ जाएगा. आप ऐसा समझ सकते हैं शरीर को अतिरिक्त कार्य करना पड़ेगा लेकिन शरीर की भी एक क्षमता होती है. उससे ज्यादा करें तो वह भी नहीं कर पाएगा तो आप अपने मस्तिष्क को जितना ज्यादा हो सके आराम दे.

You May Also Like : प्रेगनेंसी में निम्बू पानी फायदे का सौदा या घाटे का
You May Also Like : क्या प्रेगनेंसी में मट्ठा (छाछ) पीना चाहिए


कब्ज

प्रेग्नेंसी के समय प्रेगनेंसी हारमोंस के कारण शरीर की मांसपेशियां थोड़ा सा मुलायम हो जाती हैं वैसे तो यह हार्मोन गर्भाशय की मांसपेशियों को मुलायम करने के लिए होता है, जिससे बच्चे को कोई दिक्कत ना हो लेकिन यह रक्त में मिलकर शरीर के सभी हिस्सों में पहुंच जाता है. और शरीर के सभी मांसपेशियों को मुलायम कर देता है. इसकी वजह से आंते भी मुलायम हो जाती हैं. और वह खाने को पचाने में सक्षम नहीं हो पाती है. तभी गर्भवती महिलाओं को कब्ज की समस्या रहती है तो आपको ऐसा भोजन खाना है जो बड़ी आसानी से पच सकता है. क्योंकि पेट अगर आपका कब्ज से ग्रस्त रहेगा.  तो आपकी आंते  सही तरह से भोजन में से पोषक तत्व नहीं प्राप्त कर पाएंगी और पोषक तत्व बच्चे के विकास के लिए बहुत आवश्यक होते हैं और कब्ज होने से आपको भी कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ेगा इस पर हम अलग से POST देंगे तब चर्चा करेंगे.

pregnancy care in hindi,  pregnant lady tips

You May Also Like : क्या प्रेगनेंसी में घी खाना फायदेमंद होता है
You May Also Like : महिलाओं में बांझपन के क्या कारण होते हैं - महिला की उम्र के कारण


सीढ़ियां



सीढ़ियां एक ऐसी समस्या है, प्रेगनेंसी के लिए जो पहले दिन से लेकर आखिरी दिन तक परेशानी ही पैदा कर सकती है शुरू के महीनों में महिला को प्रेगनेंसी का एहसास नहीं होता और गर्भस्थ शिशु बहुत ज्यादा नाजुक होता है तो ऐसे में महिलाएं सीढ़ियों पर तेजी से चल उतर सकती हैं इस बात का विशेष ध्यान रखें कि सीढ़ियों पर हमेशा आराम से ही चढ़ाना और उतरना है जब तक प्रेगनेंसी 5 महीने से ऊपर की हो जाती है तो उसके बाद महिलाओं को थोड़ा पैर के आसपास का दिखना बंद हो सकता है जिसकी वजह से सीढ़ियों पर चढ़ना और उतरना थोड़ा रिस्की होता है सावधानी से चढ़े और उतरे और हो सके तो इससे बचें.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें