Header Ads

प्रेगनेंसी के दौरान आवश्यक योगा - 5 months pregnant yoga

प्रेगनेंसी के दौरान बहुत सारे आसन करने बताए जाते हैं जो कि प्रेगनेंसी के अंतिम माह में डिलीवरी के समय उसे नॉर्मल बनाने में काफी सहायक होते हैं.

प्रेगनेंसी में किए जाने वाले आसनों के बारे में हम आपको बताने से पहले आपको फिर बता दें हमने पहले भी अपने Articles में बताया है कोई भी आसान आप बिना डॉक्टर की सलाह और बिना किसी योगा एक्सपर्ट के सानिध्य के बिना बिल्कुल भी ना करें.


उत्कटासन :

जैसा कि आप पिक्चर में देख पा रहे हैं यह पीठ के निचले हिस्से को मजबूती प्रदान करता है इसके अलावा यह आसन रीड की हड्डी तथा कूल्हे को भी मजबूत बनाकर आपको फायदा देता है पांचवें माह में आप इस आसन को कर सकती हैं.

इन्हें भी पढ़ें : ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार गर्भ में पुत्र होने की पहचान
इन्हें भी पढ़ें : महिला के फेस की रीडिंग करके कैसे जाने गर्भ में लड़का है या लड़की है

वक्रासन :

प्रेग्नेंसी के समय वक्रासन काफी फायदेमंद हो सकता है. यह कब्ज, कमर दर्द और ऐंठन जैसी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है. प्रेगनेंसी में गर्भवती वक्रासन को योगा एक्सपर्ट के सानिध्य में कर सकती है.
पर्वतासन :
यह आसन गर्भाशय से संबंधित छोटी-मोटी परेशानियों को कम करने में सहायता करता है. साथ ही साथ यह घुटने और टांगों को भी मजबूती प्रदान करता है. यह बड़ा ही आसान है जैसा कि आप देख पा रहे हैं.

सुखासन :

प्रेगनेंसी में किया जाने वाला एक और आसान सा आसन है जिसे हम सुख आसन कहते हैं आप देख सकते हैं इस की मुद्रा को इसके द्वारा महिला अपने गर्भावस्था के दौरान रीड की हड्डियों की समस्या को कम कर सकती है.


तितली आसन :

जैसा कि आप चित्र में देख पा रहे हैं आपको इस मुद्रा में बैठना है और अपने दोनों हाथों से पैरों के अंगूठे की तरफ से अंदर को दबाव देते हुए अपने दोनों पैरों को तितली के समान तितली के पंख के समान ऊपर नीचे हल्के हल्के हिलाना है. इस आसन से मांसपेशियां मजबूत होती हैं और श्रोणि व कूल्हों में लचीलापन आता है. इसे आप किसी एक्सपर्ट की राय के बिना बिल्कुल भी ना करें.

No comments

Powered by Blogger.