Header Ads

प्रेगनेंसी में मछली खाती है तो इन बातों का ध्यान रखें

नमस्कार दोस्तों हम सभी जानते हैं कि प्रेगनेंसी के दौरान कुछ भी खाने से पहले काफी सोचना समझना पड़ता है ऐसे ही एक भोज्य पदार्थ है जिसे हम कहते हैं मछली बहुत सी मछली प्रेगनेंसी के दौरान खाई नहीं जाती हैं और प्रेगनेंसी में पाए जाने वाले पोषक तत्व मछली को एक अच्छा भोजन भी बनाते हैं ऐसे में बहुत ज्यादा कंफ्यूजन होता है मछली खाए कि नहीं खाए इस विषय पर चर्चा करने वाले हैं.

हम बात करेंगे क्या मछली खाना फायदेमंद है.
एक गर्भवती स्त्री को कितनी मछली खानी चाहिए 
मछली खाने के क्या स्वास्थ्य लाभ प्रेगनेंसी के दौरान होते हैं
कितनी मात्रा में मछली खानी चाहिए और 
मछली खाने में क्या सावधानी रखें



दोस्तों प्रेगनेंसी के दौरान मछली खाने को लेकर इतनी मुंह होते हैं उतनी ही बातें होती हैं. कुछ लोग मछली खाना सजेस्ट करते हैं कुछ लोग मना करते हैं.

किसी भी गर्भवती महिलाओं को जो कि मांसाहार का सेवन करती है मछली खाना फायदेमंद साबित हो सकता है बशर्ते वह यह बात जानती हो कि किन मछलियों में मरकरी पाया जाता है जिन मछलियों में मरकरी पाया जाता है उन मछलियों को बिल्कुल भी नहीं खाना है.

मछली के अंदर आयरन, सेलेनियम, जिंक, आयोडीन, प्रोटीन के साथ-साथ ओमेगा 3 फैटी एसिड्स, विटामिन डी, विटामिन B12 भरपूर मात्रा में उपलब्ध होते हैं. यह सभी भ्रूण के विकास में अहम भूमिका निभाते हैं. इसलिए अगर मछली के अंदर मरकरी नहीं है तो यह प्रेगनेंसी में खाना काफी फायदेमंद साबित होती है.

इन्हें भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के समय पेट पर काली लाइन, क्या है यह है, क्यों बनती है
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में गुड़ खाते हैं इन बातों का ध्यान रखें
इन्हें भी पढ़ें : प्रेग्नेंट होने पर आने वाले लक्षण
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में केला खाने के फायदे और नुकसान

गर्भवती होने पर आपको कितनी मछली खानी चाहिए - Pregnancy me Kitna fish Khana Chaheye

सामान्य तौर पर लगभग 113 ग्राम मछली का सेवन आप 1 दिन में कर सकती हैं और वही हफ्ते की बात करें तो आपसे में दो या तीन बार मछली खा सकती हैं यह आपके लिए लाभकारी साबित होगी.


मछली खाने में क्या सावधानी बरतें - Pregnancy me Fish khane me Precaution

जिन लोगों को मछली खाने से एलर्जी होती है, उन्हें प्रेगनेंसी के दौरान बिल्कुल भी मछलियां नहीं खानी चाहिए.
मछली में हानिकारक रसायन हो सकते हैं इस वजह से अच्छी तरह से पका कर ही खाएं.
मछलियों में कई प्रकार के संक्रमण वायरस या बैक्टीरिया हो सकते हैं इसलिए मछलियों को अच्छी तरह से पता कर ही प्रेगनेंसी के दौरान खाना चाहिए.
ज्यादा पुरानी मछली को अपने भोजन में शामिल ना करें.
कच्ची मछली को भी अपने भोजन में शामिल ना करें.

गर्भावस्था में उच्च पारा मछली खाना क्यों खतरनाक है - Pregnancy me Para kya nuksan deta hai

मनुष्य के शरीर के लिए मरकरी एक जहर के समान है अत्यधिक खतरनाक रसायन होता है कुछ मछलियों में यह काफी अधिक मात्रा में पाया जाता है यह गर्भ में पल रहे शिशु के विकास को बाधित कर देता है इसकी वजह से भ्रूण के दिमागी विकास की प्रक्रिया रुक जाती है.

इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में 1 दिन में कितना कीवी खा सकते है
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान आमला खाएं या नहीं
इन्हें भी पढ़ें : गर्भावस्था में आयरन की कमी के नुकसान
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान आवश्यक योगा

मछली को खाने से होने वाले फायदे - Pregnancy me Fish khane ke Fayade 

omega-3 फैटी एसिड्स की प्राप्ति 
ओमेगा 3 फैटी एसिड हृदय के लिए बहुत अच्छा होता है. यह प्रेगनेंसी में होने वाले हाई ब्लड प्रेशर. नसों में सूजन, बैड कोलेस्ट्रॉल इत्यादि को कम करने में, नियंत्रित करने में काफी मदद करता है. प्रेगनेंसी के दौरान हृदय संबंधी परेशानियां कम हो जाती हैं. जिन गर्भवती महिलाओं को हृदय संबंधी परेशानी होती है उनके लिए यह काफी फायदेमंद साबित हो सकता है.

तनाव और डिप्रेशन में राहत 
ओमेगा फैटी 3 एसिड हृदय और नसों को मजबूत करता है इन्हीं की वजह से तनाव और डिप्रेशन का शिकार महिला रहती है. मस्तिष्क को मजबूत करता है नर्वस सिस्टम को स्ट्रांग करता है.
शिशु के मस्तिष्क के विकास में मछली का प्रयोग काफी फायदेमंद होता है .

मछली के अंदर काफी सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं. जिसकी वजह से यह भ्रूण के संपूर्ण विकास में काफी सहायक होता है.

 प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में उनके जोड़ों में जो दर्द होता है. उसको भी दूर करने के लिए यह मछली का सेवन फायदेमंद होता है.

No comments

Powered by Blogger.