Header Ads

समय पर पीरियड्स ना होना है बहुत नुकसानदायक - irregular periods reason aur Nuksan

नमस्कार दोस्तों इस Post के माध्यम से हम चर्चा करने वाले हैं. महिलाओं की एक समस्या को लेकर जिसको की महिलाएं अक्सर किसी से भी चर्चा करने में थोड़ा सा शर्म करती है.


आज चर्चा करने वाले हैं हम चर्चा करेंगे इनके मिस होने (period miss hone) के क्या मायने होते हैं और यह किस तरह की समस्या उत्पन्न कर सकते हैं ताकि महिलाएं इसकी गंभीरता को समझ सके, चर्चा करते हैं.

issue with health if no regular cycle

इन्हें भी पढ़ें :  मां बाप बनने की क्षमता को प्रभावित करने वाले तत्व - आलस्य
इन्हें भी पढ़ें :  प्रेग्नेंट होने में कितना समय लगता है
इन्हें भी पढ़ें : आयुर्वेदिक नुस्खे से पुत्र प्राप्ति - शिवलिंगी के बीज और पुत्रजीवक बीज
इन्हें भी पढ़ें : ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है - शिवलिंगी के बीज
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि


दोस्तों साइकिल एक नेचुरल प्रोसेस है अगर यह प्रोसेस बाधित हो जाती है तो महिला को बहुत तरह की परेशानी होने लगती है और यह प्रोसेस तभी बाधित होती है जब महिला के शरीर में हार्मोन का लेवल बिगड़ जाता है (Hormone level deterioration). हमारे शरीर के अंदर हारमोंस शरीर के संचालन के लिए अत्यधिक आवश्यक होते हैं हर छोटी-बड़ी क्रियाओं में इनका महत्वपूर्ण योगदान रहता है इनका बैलेंस होना बहुत ज्यादा आवश्यक होता है अगर यह बैलेंस नहीं रहते हैं तो इनका सीधा असर पीरियड्स पर नजर आ जाता है.
भविष्य में मां बनने में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है.

महामारी क्या होती है - Masik Dhram Kya hai

साइकिल का समय जब महिला को काफी ज्यादा परेशानी का अनुभव होता है लेकिन यह आवश्यक भी होते हैं इनकी आवश्यकता को समझने के लिए इनकी प्रोसेस को समझना जरूरी है.


महिला के शरीर में अंडों का प्रोडक्शन होता है, इन अंडो के द्वारा ही प्रेगनेंसी की प्रोसेस शुरू होती है महिला को मां बनने का गौरव प्राप्त होता है, महिला के शरीर में यह अंडे प्रति महा बनते हैं.


और जब उस महीने महिला को प्रेगनेंसी नहीं होती है तो पीरियड के दौरान शरीर से बाहर निकल जाते हैं, हर महीने यही चक्र अपने आप को दोहराता है और इसे हम साइकिल कहते हैं.




pregnancy issue with irregular period



अनियमित माहवारी के लक्षण - Irregular menstruation ke Lakshan
हर महीने यही चक्र अपने आप को दोहराता है और इसे हम साइकिल कहते हैं जब महिला की साइकिल अनियमित हो जाती है तो इसका मतलब यह है कि शरीर में अंगों का निर्माण भी अनियमित हो गया है या नहीं हो पा रहा है या कुछ परेशानी आ रही है तो इससे सबसे बड़ी परेशानी यह होती है कि महिला को इन फ्यूचर में अगर मां बनना है तो उसे मां बनने में परेशानी आएगी अगर यह समस्या कम उम्र में ही होने लगती है तो भविष्य में महिला को मां बनने में परेशानी होती ही है तो यह अपने आप में काफी बड़ी समस्या है केवल इस एक समस्या के कारण भी हमें अपनी साइकल समय पर इस बात का ध्यान रखना है.

अनियमित माहवारी से कुछ छोटे-मोटे परेशानियां भी होती हैं जैसे कि 
पेट में ऐंठन 
चक्कर आना 
उल्टी महसूस होना 
मतली होना 
बेचैन होना 
सर दर्द 

पीठ दर्द आदि समस्याएं भी हो जाती है.


health issue with irrgular periods of women

इन्हें भी पढ़ें : 35 के बाद प्रेग्नेंट होने के 15 टिप्स पार्ट #2
इन्हें भी पढ़ें : 35 के बाद प्रेग्नेंट होने के 15 टिप्स पार्ट #1
इन्हें भी पढ़ें : पत्नी या गर्लफ्रेंड में बेवफाई के लक्षण
इन्हें भी पढ़ें : शादी के पहले साल में होने वाली समस्याएं
इन्हें भी पढ़ें : पुत्री प्राप्ति में स्वर विज्ञान का योगदान

पीरियड की अनियमितता के काफी सारे कारण हो सकते हैं


आपकी दिनचर्या आपका लाइफ स्टाइल
आपके भोजन का पोस्टिक ना होना आपका
अत्यधिक व्यायाम करना अगर
आप एथलीट है तो भी आपको यह समस्या हो सकती है क्योंकि शरीर में जो भी एनर्जी है वह खर्च हो जाती है और आप के शरीर में अंडू के निर्माण लायक एनर्जी बचती ही नहीं है, अधिक व्यायाम की वजह से भी होता है
आपका थायराइड बढ़ जाना

PCOS की समस्या
आपका लंबे समय तक बीमार रहना


आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आपकी साइकिल नियमित रहे इसके लिए आपको जो भी अपनी दिनचर्या में लाइफ़स्टाइल में भोजन में या किसी और चीज में परिवर्तन करना पड़े आप कीजिए.

हम आपको एक बात बता दे अगर जब महिला को माहवारी शुरू होती है पहली बार होती है तो उसके एक दो साल तक अगर अनियमित रहती है तो एक बार को चिंता की बात नहीं होती है लेकिन दो-तीन साल के बाद भी है अनियमित रहती है तब आपको जरूर डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए.




-----

No comments

Powered by Blogger.