Header Ads

गर्भ में लड़का हो ने के 7 लक्षण : मिथक या सच्चाई | Part 2

प्रेग्नेंसी के समय ऐसे लक्षण जिनसे हम यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि गर्भ में लड़का है या लड़की है जो लक्षण लगभग लगभग 70 से 80% तक फिट बैठते हैं उनमें से बहुत सारे लक्षणों को मिथक माना जाता है क्योंकि मिथक साइंस के द्वारा माना जाता है और साइंस किसी भी चीज को 100% सिद्ध होने पर ही मानती है ऐसे बहुत सारे लक्षण हैं जिन्हें साइंस नहीं मानती है कि यह गर्भ में लड़का है या लड़की है यह बताने के लक्षण है ऐसे ही कुछ लक्षणों पर हम चर्चा करते हैं जिन्हें समाज में जेंडर परीक्षण के लिए प्रयोग में लाया जाता है लेकिन इन्हें साइंस मिथक मानती है.

गर्भ में लड़का हो ने के 7 लक्षण : मिथक या सच्चाई | Part 2

1. दाहिने स्तन का बड़ा होना - Right Breast Ka Bada Hona

इस मिथक के अनुसार अगर गर्भवती के दायें स्तन का आकार उसके बायें स्तन से बड़ा है, तो यह उसके गर्भ में लड़का होने का लक्षण है। यह मिथक सच नहीं है और गर्भावस्था में स्तनों में दूध बनना शुरू होने की वजह से स्तनों का आकार बढ़ना सामान्य है। अगर आपको अपने स्तनों के आकार में अंतर नज़र आता है, तो आपको स्तन कैंसर (breast cancer in hindi) या स्तनों में गांठ (breast problems in hindi) जैसी गम्भीर समस्या हो सकती है। इसलिए अगर ऐसा हो तो डॉक्टर की सलाह लें.

इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में लड़का या लड़की जानने के 7 तरीके
इन्हें भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में जेंडर प्रेडिक्शन की 5 अजब गजब ट्रिक्स
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र रत्न प्राप्ति के लिए तीन आयुर्वेदिक उपाय उपाय #2
इन्हें भी पढ़ें : प्राचीन ऋषियों द्वारा पुत्री प्राप्ति के दिए गए पांच सूत्र
 

2. मूड स्विंग और गुस्सा आना - Mood Swing Aur Gussa Aana

यह बड़ा ही प्रमुख लक्षण हैं जिसे मुख्यतः हर कोई जानता है. महिला की इस आदत से घर वालों को परेशानी हो सकती है महिला को तेज गुस्सा आना और बार-बार मूड स्विंग की समस्या को गर्भ में लड़का होने का लक्षण होना एक मिथक कहा जाता है वैज्ञानिकों का मानना है कि महिला की मनोदशा बार-बार बदलती रहती है यह हार्मोन अल परिवर्तन की वजह से होता है और गुस्सा इसलिए भी आ सकता है क्योंकि महिला की जिंदगी बंध जाती है वह अपने सारे उचित कार्य नहीं कर सकती है तो यह एक प्रकार का मानसिक कारण भी है इसका संतान के जेंडर से कोई मतलब नहीं.

3. महिला के पैर ठंडे रहना - Pregnant Women Ke Pair Thnde Rahana

महिला के पैर अगर ठंडे रहते हैं तो यह भी गर्भ में लड़का होने की निशानी माना जाता है. वैज्ञानिकों का मानना है, कि यह सिर्फ और सिर्फ शरीर में रक्त प्रवाह के उतार-चढ़ाव की वजह से होता है. यह मानना बिल्कुल मिथक है कि ठंडे पर तभी होते हैं जब महिला के गर्भ में लड़का होता है.

4. महिला के शरीर और हाथ पैरों पर बाल बढ़ना - Pregnant Women ke Hath aur Pair per Baalo ka Hona

अगर महिला के शरीर पर बाल बढ़ रहे हैं बाल घने हो रहे हैं, तो यह घर में गर्भ में लड़का होने की निशानी माना जाता है.जबकि वैज्ञानिक इसे एक मिथक मानते हैं उनका कहना है कि यह हार्मोन संबंधी बदलावों की वजह से होता है इसका गर्भ में पल रहे शिशु से कोई संबंध नहीं होता है.

5. महिला का पेट नीचे की ओर बढ़ना - Pregnant Women ka Pet Neeche ki Aur Badhna

महिला का पेट नीचे की ओर बढ़ना जैसा कि आप चित्र में स्पष्ट देख पा रहे हैं कि गर्भवती महिला का पेट नीचे की तरफ ज्यादा झुकाव लिए हुए हैं इसे गर्भ में लड़का होने की निशानी माना जाता है इस पर भी हमने वीडियो भी बनाए हैं लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि यह मात्र मिथक है इस पर विश्वास ना करें.

इन्हें भी पढ़ें : 3 फलों की औषधि से पुत्र प्राप्ति का नुस्खा - इसे खाने से पुत्र की प्राप्ति हो जाती है
इन्हें भी पढ़ें : पुत्र प्राप्ति की चमत्कारी प्राचीन औषधि
इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का उपाय - गाय का दूध
इन्हें भी पढ़ें : गर्भ में पुत्र प्राप्ति का वैज्ञानिक तरीका
 

6. बाई करवट सोने में आराम लगना - Bai Kervet Sone me Aaram Lagna

महिला को जिस करवट सोने में आराम लगता है, वह उस पर बात होती है. इसमें जेंडर के अनुसार सोना ऐसा कुछ भी नहीं है. जो महिलाएं बाई करवट लेकर सोना पसंद करती हैं उन्हें लड़की भी होती है. यह मात्र एक मिथक है, कि बाई करवट सोने में अच्छा लगना यह गर्भ में लड़का होने की निशानी है.

7. बच्चे की हार्ट बीट - Bacche ki Heart Beat

वैज्ञानिकों का मानना है कि बच्चे की हार्ट बीट का बच्चे के लिंग से कोई संबंध नहीं होता है. 140 हार्टबीट से ऊपर हार्ट बीट लड़का और लड़की दोनों की होते हैं. और वह 140 से कम हार्ट बीट लड़की और लड़के दोनों के पाए जाते हैं.

No comments

Powered by Blogger.