प्रेगनेंसी में नींद पर्याप्त सोना क्यों जरूरी है

प्रेग्नेंसी के समय महिला को किस प्रकार सोना चाहिए इस संबंध में हम अपने  चर्चा करेंगे.
हमारे टॉपिक इस प्रकार से है --

गर्भावस्था में सोना क्यों मुश्किल होता है. गर्भावस्था के दौरान कितनी नींद हमें लेनी चाहिए. क्या कम नींद प्रेगनेंसी में नुकसान पहुंचा सकती है. गर्भावस्था में नींद ना आने से क्या समस्याएं होती हैं.

pregnant woman sleeping

दोस्त प्रेग्नेंसी के समय नींद बहुत ही महत्वपूर्ण होती है जब महिला सोती है तो उसमें बच्चे का विकास बहुत अच्छे से होता है क्योंकि उस वक्त शरीर को सिर्फ और सिर्फ एक कार्य रहता है वह होता है बच्चे की देखभाल तो आज मैं अपनी इस POST के माध्यम से नींद को लेकर चर्चा करने वाले हैं—

You May Also Like : गर्भावस्था के दौरान मिठाई खाने की लालसा
You May Also Like : गर्भावस्था में प्रसव के संकेत

गर्भावस्था में सोना क्यों मुश्किल होता है - Pregnancy me sona kyon mushkil hota hai


प्रेगनेंसी के दौरान महिला के पेट का आकार बढ़ता जाता है. महिला के स्तनों का आकार भी बढ़ता है. महिला को भारीपन महसूस होता. रात को बार बार पेशाब जाना पड़ता है. पेशाब जैसा महसूस होता है.

कई बार सांस लेने में भी दिक्कत आ जाती है. और डॉक्टर पेट के बल सोने की सलाह देते हैं.  शरीर में हार्मोन काफी तेजी से बदलते रहते हैं. जिसकी वजह से महिला का मन भी खराब रहता है.

इस वजह से प्रेगनेंसी के दौरान सोने में काफी मुश्किल का सामना करना पड़ता है.


गर्भावस्था के दौरान कितनी नींद हमें लेनी चाहिए - Garbhaavastha ke dauraan neend


डॉक्टर्स के अनुसार 18 से 64 वर्ष तक की आयु के लोगों को 7 घंटे की नींद लेनी चाहिए. लेकिन भाई अगर गर्भवती महिला की बात करें तो उसे थोड़ा सा ज्यादा सोना चाहिए और साथ ही साथ दिन में भी कुछ घंटे की नींद अवश्य लेनी चाहिए.

You May Also Like : महिला की प्रेगनेंसी और थायराइड पार्ट #3
You May Also Like : घर पर साबुन से प्रेगनेंसी कैसे चेक करें

क्या कम नींद प्रेगनेंसी में नुकसान पहुंचा सकती है - Kya kam neend Pregnancy ko Nuksan Deti Hai


महिला के गर्भ में पल रहे शिशु को ऑक्सीजन और पोषक तत्व की जरूरत होती है. कई बार महिला के जागते समय बच्चे की आवश्यक जरूरतें पूरी नहीं हो पाती हैं. भ्रूण की हृदय गति कम हो जाती है, उसे खून की कमी हो सकती है. 
 
यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि जब गर्भवती महिला सो रही होती है, तो उस वक्त भ्रूण तक रक्त का संचार, ऑक्सीजन का प्रवाह तेज गति से होता है. क्योंकि शरीर को केवल एक ही कार्य होता है. बच्चे की देखभाल.

इस वक्त शरीर में हारमोंस का निर्माण भी नहीं हो रहा होता है तो बच्चे के विकास में अगर कुछ कमी रह गई होती है या पोषण में कमी रह गई होती है तो वह सोते समय पूरी हो जाती है.

गर्भावस्था में नींद ना आने से क्या समस्याएं होती हैं -  Neend na aane se kya samasyaen


प्रेग्नेंसी के दौरान रात को अच्छी तरह न सोने से गर्भवती को उच्च रक्तचाप व गर्भावधि मधुमेह जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है. 

इतना ही नहीं स्लिप एप्निया, अधिक वजन, अनियंत्रित ग्लूकोज का स्तर व भूख बढ़ने जैसी समस्या भी हो सकती है.

इन सबके साथ साथ में गर्भस्थ शिशु में ब्लड की सप्लाई और ऑक्सीजन का प्रवाह, उसका संचार सही प्रकार से नहीं होता है. जिसके कारण गर्भ शिशु के विकास और रुकने का अंदेशा बना रहता है. कभी-कभी समय से पहले भी डिलीवरी की समस्या देखने में आती है.

और भी दूसरे प्रकार की समस्याएं नजर आती हैं जो इस प्रकार से हैं.

loss of sleep, sleep deprivation effects, sleep deprivation, effects of not sleeping,

You May Also Like : पुत्र प्राप्ति के लिए फेमस आयुर्वेदिक औषधि - बांझपन भी दूर होता है,
You May Also Like : प्रेग्नेंट होने के तुरंत बाद यह लक्षण आते हैं गर्भ में लड़का या लड़की

  • इम्यून सिस्टम प्रभावित हो सकता है.

  • सिजेरियन डिलीवरी की आशंका बढ़ सकती है.

  • गर्भवती महिला को तनाव तक का सामना करना पड़ सकता है.

  • गर्भवती महिला को दिनभर ज्यादा थकावट महसूस हो सकती है.

  • जन्म के दौरान शिशु का वजन कम हो सकता है.

  • त्वचा पर झाइयां नजर आ सकती हैं.

  • किसी भी काम को करने में एकाग्रता कम हो सकती है.




Post a Comment

Previous Post Next Post

India's Best Deal