शरीर में जिंक का क्या फायदा होता है

0
125

जिंक (Zinc in Hindi) एक रासायनिक तत्व है, जो संक्रमण धातुओं के समूह का एक सदस्य हैं. इसके गुण धातु मैग्नीशियम से मिलते जुलते होते हैं.

यह स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से इंसानों के लिए काफी आवश्यक तत्व माना जाता है. यह तत्व स्वास्थ्य के नजरिए से बहुत महत्वपूर्ण होता है. इसकी कमी से किसी भी बच्चे, बड़े या बुड्ढे के शरीर में व्यक्ति के शरीर में कई प्रकार की शारीरिक समस्याएं पैदा हो जाती हैं.

शरीर में जिंक का क्या फायदा होता है

जिंक की कमी के लक्षण

जिंक की कमी के कारण शरीर में कई प्रकार की समस्याएं नजर आने लगती हैं जैसे कि –

  • भूख कम लगना,
  • कमजोरी महसूस होना जिंक की कमी का लक्षण है,
  • मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ जाना,
  • जिंक की कमी से स्वाद और गंध का पता चलने में दिक्कत होती है,
  • जिंक की कमी होने पर बार बार दस्त होने की समस्या हो जाती है, (डायरिया इत्यादि की समस्या),
  • अगर जिंक की कमी होती है तो घाव देर से भरते हैं,
  • अधिक बाल झड़ना जिंक की कमी से हो सकता है,
  • अचानक से वजन कम हो जाना जिंक की वजह से हो सकता है,
  • लिबिडो बूस्ट करने का काम जिनका करता है, इसलिए इसकी कमी लिबिडो के लिए नुकसानदायक है. यह शारीरिक विकास, सेक्सुअल डेवलप्मेंट, रिप्रोडक्टिव प्रॉसेस में भी महत्वपूर्ण मूभिका निभाता है.

सबसे अच्छा जिंक किस खाद्य पदार्थ में होता है

जिंक एक तत्व है, उसके अपने गुण और धर्म होते हैं.  जिंक की क्वालिटी से इस बात का प्रभाव पड़ता है कि उसके गुण और धर्म कितने कारगर है. भोजन के रूप में मूंगफली में पाया जाने वाला जिंक सबसे अच्छा माना जाता है.

Himalayan Organics Zinc Citrate Vitamin C & Alfalfa Supplement | Powerful Antioxidant | Healthy Immune System | Good For Eye Health | Naturally Glowing Skin

1 दिन में कितना जिंक ले सकते हैं

शरीर को रोजाना अधिक मात्रा में जिंक की आवश्यकता नहीं पड़ती है. इसकी मात्र 40 मिलीग्राम की खुराक ही एक व्यक्ति के लिए 1 दिन में आवश्यक होती है अर्थात 40 मिलीग्राम मात्रा सुरक्षित मानी जाती है.

18 साल से अधिक उम्र के पुरुषों को दिन में 11 मिलीग्राम जिंक लेने की जरूरत है, जबकि महिलाओं को 9 मिलीग्राम जिंक लेने की सलाह दी जाती है. गर्भवति महिला को 11-12 मिलीग्राम जिंक लेने की जरूरत है.

विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थों में शरीर के लिए आवश्यक जिंक की मात्रा प्राप्त हो जाती है.

मर्दाना ताकत के लिए जिंक के फायदे

  • जिंक एक ऐसा तत्व है, जो मानव शरीर को प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करने का कार्य करता है. जिंक के अंदर एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो शरीर के अंदर विभिन्न प्रकार के खराब एलिमेंट्स को शरीर से बाहर निकालने का कार्य करता है और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है.
  • मजबूत इम्यून सिस्टम की वजह से और टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को ताकत प्रदान करने की क्षमता के कारण यह पुरुषों की यौन संबंधी समस्याओं और कामेच्छा को मजबूत करता है.
  • जिंक नर्वस सिस्टम को भी मजबूती प्रदान करने का काम करता है. इस वजह से यह शरीर के मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए भी बहुत इंपॉर्टेंट होता है, और नर्वस सिस्टम मजबूत होने की वजह से लिंग में तनाव भी इसके कारण बढ़ता है.
  • शुक्राणु बनने के लिए टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के अलावा भी बहुत प्रकार के दूसरे पोषक तत्वों की आवश्यकता पड़ती है जिंक भी शुक्राणुओं के निर्माण में मदद करता है.

TIP: पुरुषों के
समग्र विकास जैसे कि शारीरिक विकास, मानसिक विकास और मर्दाना ताकत के विकास इत्यादि
के लिए आयुर्वेद के अंदर काफी सारी जड़ी बूटियां प्रयोग में लाई जाती है जैसे कि –केसर, सफेदमूसली, शतावरी, अश्वगंधा, शिलाजीत, गोखरू, विदारीकंद, स्वर्ण भस्म, कौंच के बीज, मेथीपाउडर, जिनसेंगसालम पंजा, काली मूसली, टोंगकैट
अली

इत्यादि. इन जड़ी-बूटियों से बने नुस्खे
बहुत लाभदायक और शक्तिशाली होते हैं. 

जिंक के सामान्य फायदे

  • अगर शिशु को दस्त की समस्या हो जाती है तो दवाइयों के द्वारा शिशु को जिंक लेने की सलाह दी जाती है यह दस्तों को रोकने में मदद करता है अर्थात डायरिया को समाप्त करने का गुण रखता है.
  • डायबिटीज की वजह से और जिंक की कमी की वजह से बचाकर घाव जल्दी से नहीं भरते हैं. जिंक इस समस्या को दूर करता है. शरीर में प्रचुर मात्रा में जिंक होने पर घाव जल्दी भरते हैं.
  • ऑस्टियोपोरोसिस नाम की हड्डियों की बीमारी को जिंक की मदद से कम करने में हेल्प होती है.
  • जिंक की कमी की वजह से न्यूरोलॉजिकल समस्याएं होने लगती है. इसलिए जिंक की कमी शरीर के अंदर नहीं होनी चाहिए.
  • अस्थमा जैसी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है.
  • जिंक की वजह से उच्च रक्तचाप की समस्या कंट्रोल में आती है.
  • कील मुहांसों को दूर करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.
  • सांसों में संक्रमण जैसी समस्याओं को दूर करने में जिंक हेल्प करता है.
  • आंखों के रोगों में भी जिंक बहुत फायदेमंद है. मोतियाबिंद, रतौंधी जैसी आंखों से संबंधित समस्याओं में कारगर है.
  • गर्भावस्था धारण करने से पहले महिलाओं को जिंक की मात्रा अपने शरीर में पूर्ण रखनी चाहिए. यह प्रेगनेंसी में सहायक है.
  • याददाश्त को मजबूत रखने में जिंक में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.
  • सूजन वाली त्वचा को नार्मल करने में जिंक लाभदायक है.
  • गठीला बदन बनाने में जिंक एक आवश्यक तत्व है.
  • प्रोटेस्ट समस्याओं से निपटने में जींस पुरुषों की काफी मदद करता है.

शरीर में जिंक के दुष्प्रभाव

शरीर में जिंक की अधिक मात्रा हो जाने पर काफी सारे दुष्प्रभाव तक शरीर में नजर आते हैं जैसे कि –
शरीर में अधिक जिंक की मात्रा हो जाने पर पेट दर्द की समस्या नजर आ सकती है, और अधिक गंभीर परिस्थितियों में ब्लडिंग की समस्या नजर आती है.

शरीर में अधिक मात्रा में जिंक होने पर शरीर आयरन की मात्रा कम अवशोषित करता है, जो शरीर के लिए नुकसानदायक है.

शरीर में अगर जिंक की मात्रा अधिक हो जाती है, तो मतली और उल्टी की समस्याएं नजर आने लगती हैं. ऐसी परिस्थिति में डॉक्टर की सलाह तुरंत लेनी चाहिए.

शरीर में अधिक जिंक हो जाने पर मुंह का स्वाद बदल जाता है.

अधिक जिंक से ठंड लगने जैसी समस्या नजर आ सकती है, और अधिकतर बुखार की समस्या नजर आती है.
शरीर में अधिक जिंक होने पर जोड़ों में दर्द की समस्या नजर आ सकती है.

यह यौन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है.

जिंक के स्रोत क्या क्या है

शरीर को जिनक कई प्रकार के स्वास्थ्यवर्धक भोज्य पदार्थों से प्राप्त हो सकता है और साथ ही साथ जिनके को लेकर सप्लीमेंट भी मार्केट में उपलब्ध है. इन दोनों ही प्रकार से शरीर को जिंक की प्राप्ति हो सकती है.

  • मूंगफली का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है. आप मूंगफली का प्रयोग करके जिन के साथ-साथ आयरन, पोटेशियम और कई प्रकार के विटामिन प्राप्त कर सकते हैं.
  • अंडे की जर्दी के अंदर भी जिंक भरपूर मात्रा में होता है. बहुत से लोग अंडे के पीले हिस्से को नहीं लेते हैं, जबकि यही जिंक का अच्छा स्रोत है.
  • लहसुन भी एक जिंक का बहुत अच्छा स्रोत माना जाता है. आपको रोजाना एक कली लहसुन की खानी चाहिए.
  • गर्मियों में तरबूज के बीज जिनका अच्छा स्रोत होते हैं.
  • काजू के अंदर खराब कैस्ट्रोल सबसे अधिक होता है, लेकिन यह जिंक का भी अच्छा स्रोत माना जाता है.
  • दही के अंदर बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं, यह गुड बैक्टीरिया का अच्छा स्रोत है. साथ ही साथ जिंक का भी अच्छा स्रोत होता है.
  • चना (छोला) यह भी जिंक का बढ़िया स्रोत माना जाता है.
  • मसूर की दाल यह भी जिंक का बढ़िया स्रोत मानी जाती है.
  • ओट्स और फलियां दोनों ही जिंक का बढ़िया स्रोत मानी जाती है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें