Pregnancy & Care

Everything about Pregnancy and after care.

शनिवार, 13 जुलाई 2019

क्या माया कैलेंडर के अनुसार के जेंडर प्रेडिक्शन कर सकते हैं


नमस्कार दोस्तों जब भी घर में कोई नन्हा मेहमान आने वाला होता है तो उसका जेंडर क्या होगा इस बात को लेकर अटकलों का दौर जारी हो जाता है, हर कोई अलग अलग तरीके से यह जानने की कोशिश करता है कि आने वाला मेहमान लड़का होगा या लड़की होगा इससे वैसे कोई फर्क तो नहीं पड़ता है बस एक उत्सुकता मात्र ही है, हमें लगता है कि भारतीय समाज में इसको लेकर ज्यादा ही लोग क्रेजी हैं लेकिन ऐसा नहीं है अलग-अलग समय में अलग-अलग सभ्यताओं में भी लोग इस को लेकर काफी उत्सुक रहते थे, प्राचीन काल की सभ्यता जिसे हम माया सभ्यता भी कहते हैं उसमें भी एक तरीका प्रचलित था आज हम आपको उसी तरीके को बताने जा रहे हैं कि माया सभ्यता के लोग किस तरह से जेंडर प्रिडिक्शन क्या करते थे.



दोस्तों माया सभ्यता वालों के पास एक जेंडर प्रेडिक्शन चार्ट हुआ करता था जो चार्ट आपकी स्क्रीन पर दिखाई पड़ रहा है इसी के माध्यम से यह जाना करते थे कि उनके यहां आने वाली संतान लड़का है या लड़की है,

माया सभ्यता के लोग अपने कैलेंडर के अनुसार जो कि माया सभ्यता में प्रचलित था उसके अनुसार सम और विषम प्रणाली के आधार पर जेंडर परीक्षण किया करते थे

लिंग भविष्यवाणी के लिए महिला के उम्र (गर्भाधान के साल में) क्या है और महिला ने किस महीने में गर्भाधान किया है इन दो बातों के आधार पर जेंडर प्रिडिक्शन किया जाता था




माया जेंडर प्रिडिक्शन चार्ट के अनुसार अगर प्रेगनेंसी होते समय महिला की उम्र और प्रेगनेंसी का महीना दोनों ही EVEN आते हैं या दोनों ODD हैं, तो महिला को पुत्री प्राप्त होगी

अगर इनमे से एक EVEN और एक ODD आता है तो महिला को पुत्र प्राप्त होगा

एग्जांपल के लिए अगर प्रेग्नेंसी के समय महिला की उम्र 32 साल है और महीना चौथा आता है तो दोनों ही EVEN है महिला को पुत्री होगी या उम्र 31 साल और महीना पांचवा आता है तो भी महिला को पुत्री होगी
ऐसे ही महिला की उम्र अगर 25 साल है और महीना चौथा आता है यह आठवां आता है, महिला को पुत्र होगा और उम्र अगर 24 साल है और महीना तीसरा आता है तो भी महिला को पुत्र होगा

दोस्तों अब यहां ऐसा नहीं है कि आपने हिंदू कैलेंडर या अपने इंग्लिश कैलेंडर के अनुसार चेक कर लिया और आपने लिंग की भविष्यवाणी कर दी यहां समझने वाली यह बात है कि यह दोनों की दोनों संख्याएं महिला की गर्भाधान के समय उम्र और गर्भाधान का महीना दोनों ही माया कैलेंडर के अनुसार ही निकाली जाएंगी अगर आपके पास माया कैलेंडर है तो आप निकाल सकते हैं दूसरी बात आपको माया कैलेंडर देखना भी आना चाहिए दोस्तों आपकी स्क्रीन पर माया कैलेंडर दिखाई पड़ रहा है इस कैलेंडर के अनुसार आपको निकालना होगा मैं नहीं समझता हूं कि जल्दी से कोई इस कैलेंडर के अनुसार उम्र और महीना निकाल पाएगा आप अगर इंटरनेट पर देखेंगे तो आपको आधी अधूरी इंफॉर्मेशन मिलेगी कैलेंडर का कोई भी जिक्र नहीं होगा माया सभ्यता के समय हमारा हिंदू कैलेंडर और इंग्लिश के अंदर मौजूद नहीं था यह सब उनके अपने कैलेंडर के अनुसार होना चाहिए अगर हम माया सभ्यता के अनुसार जेंडर परीक्षण करते हैं तो उसका परिणाम गलत ही निकलेगा क्योंकि हमें माया कैलेंडर देखना आता ही नहीं है


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें