Header Ads

प्रेगनेंसी की तैयारी में यह बातें जरूरी है | Pregnancy pregnant woman needs rest and preparations

प्रेगनेंसी एक बहुत ही ज्यादा क्रिटिकल अवस्था होती है. इसने बहुत ज्यादा एनर्जी की आवश्यकता महिला को होती है. क्योंकि एक शरीर के अंदर दो जिंदगी या चल रही होती है. ऐसे में आराम करने के महत्व को लेकर आज चर्चा करने जा रहे हैं. 

प्रेगनेंसी में गर्भवती महिला को आराम की आवश्यकता और उसकी तैयारी

इन्हें भी पढ़ें : जल्दी गर्भवती होने के 22 तरीके
इन्हें भी पढ़ें : बच्चा हो तेज दिमाग, इसलिए प्रेगनेंसी में रखकर इन 4 बातों का ध्यान
इन्हें भी पढ़ें : स्वस्थ गर्भावस्था के 5 उपाय 
इन्हें भी पढ़ें : मनचाही संतान प्राप्ति का प्राचीन तरीका 
इन्हें भी पढ़ें : ये पुत्र प्राप्ति का रामबाण उपाय माना जाता है - शिवलिंगी के बीज



दोस्तों प्रेगनेंसी के दौरान महिला को अत्यधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है. महिला को अपने शारीरिक आवश्यकताओं और शिशु की शारीरिक आवश्यकताओं और उसके विकास के लिए अत्यधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है.

ऐसे में महिलाओं को अपने दैनिक जीवन में की जाने वाली सभी क्रियाकलापों में से कुछ कार्य बंद कर देनी चाहिए, जिससे कि महिला के शरीर में ऊर्जा का संचय बना रहे, अर्थात महिला जितनी ऊर्जा का प्रयोग प्रेगनेंसी से पहले क्या करती थी, महिला को अपने कुछ कार्य बंद करके अब कुछ ऊर्जा का प्रयोग कम कर देना चाहिए, ताकि बच्चे की आवश्यकताओं के लिए आवश्यक ऊर्जा प्राप्त हो सके.

प्रेगनेंसी के दौरान अगर महिला को लगता है कि उसे थकान हो रही है, तो इसका सीधा सीधा सा मतलब यही होता है, कि महिला के शरीर में ऊर्जा की कमी हो रही है. ऐसे में महिला को चाहिए कि वह जो कार्य कर रही है, उसे तुरंत बंद कर देना चाहिए, और आराम करना चाहिए. ताकि शरीर में उत्पन्न होने वाली ऊर्जा का एक आवश्यक हिस्सा बच्चे के विकास के लिए खर्च हो सके.

आजकल महिलाएं एकल परिवार में रहती है, और उनके ऊपर परिवार की पूरी जिम्मेदारी होती है. उनका हाथ बंटाने वाला कोई नहीं होता है.  ऐसे में महिलाएं अगर गर्भवती होती है, तो उन्हें अपने दिनचर्या को इस प्रकार को व्यवस्थित करना चाहिए. जिससे कि उन्हें आराम करने का समुचित अवसर प्राप्त हो सके.

प्रेगनेंसी के दौरान उन्हें अपने सारे दिनचर्या का एक बार अवलोकन करना चाहिए कि वह दिन भर क्या करती है, और उसमें से कुछ कम जरूरी कार्यों को रुक देना चाहिए, कम कर देना चाहिए और आराम करने के लिए भी समय निकालना चाहिए. ऐसे में परिवार वालों को असुविधा तो अवश्य होगी. प्रेगनेंसी के दौरान आराम करना गर्भवती महिला का हक है. यह बात उन्हें भी समझनी चाहिए.

यह बात पूरे परिवार को समझनी चाहिए कि प्रेगनेंसी की अकेली जिम्मेदारी गर्भवती महिला की नहीं होती है यह एक सामूहिक कार्य है. परिवार के सभी सदस्यों को इसकी जिम्मेदारी मिलकर उठाना आवश्यक होता है.

अगर महिला आराम करती है तो उसके मन में कुछ बातें चल सकती है. जिन्हें उन्हें कुछ समय के लिए दरकिनार करना चाहिए.

महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए, ताकि उनकी आराम में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं आए. किसी प्रकार की टेंशन या तनाव नहीं होना चाहिए और बोरियत नहीं हो.

प्रेगनेंसी के दौरान अचानक से महिला की सारी दिनचर्या बदल जाती है. इसलिए महिला को सबसे पहले अपने आप को मानसिक रूप से तैयार करना है. क्योंकि प्रेगनेंसी के दौरान हर प्रकार के कार्य को करने की अनुमति नहीं होती है.

अगर महिला एकल परिवार में रहती है तो महिलाओं को घर के काम के लिए किसी परिवार वाले को बुला लेना चाहिए, या मेड रख लेनी चाहिए, ताकि घर के कार्यों में किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आए और वह आराम भी कर सके.

आराम करते वक्त महिला को बोरियत ना हो इसी बात को सोचकर तनाव ना हो क्योंकि तनाव से भी ऊर्जा की हानि बहुत ज्यादा होती है. महिला को चाहिए कि वह अपनी मनपसंद किताबें पढ़ सकती है. मनपसंद फिल्में देख सकती है. ऐसा कोई कार्य कर सकती है, जिसमें बहुत कम मेहनत लगती हो.

आप खाली समय में आराम करते वक्त ऐसी पुस्तकें पढ़ सकती हैं. जिससे आपका प्रेगनेंसी को लेकर ज्ञान बढ़े और आप बच्चे की आवश्यकताओं को लेकर भी तैयारी कर सकती हैं, प्लानिंग कर सकती हैं.


No comments

Powered by Blogger.